Saturday, 30 July 2011

प्रेम की परिणति

प्रेम की परिणति यही होती है
उम्र दर उम्र
पलकों में सपनों के अंकुर उगाना
अथवा गहरे
बहुत गहरे मन के अन्दर डूबना
डूबते जाना
यदि तुम पहचानते हो
सरसराते चीड़वन की गन्ध और
एकाकी वन पाखी का गीत
जो कोहरे के बीच से उभरता है;
यदि तुम समझ सकते हो
जंगली कलरव और
पतझर में झरते पीले पत्तों का अन्तर्मन;
तभी
प्रेम जैसे कठिन युद्ध में
शरीक हो सकते हो!

The End of Love
This is the end of love
In all ages
To grow offshoots of dreams
In the eyelids to keep
Or to sink pondering
in bottomless depth of mind
And thus go on sinking deep.

If you recognize the fragrance of
stirring pinewoods, and also
The song of a solitary bird
Which emerges out of the mist

If you can understand
The wild sweet tunes, and also
The inner mind of falling yellow leaves
In the autumn breeze
Only then
You can be a participant
In the hard battle of love...

No comments:

Post a Comment