Wednesday, 5 November 2014

27वां अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन एवं अंतर्राष्ट्रीय भाषा-साहित्य संगोष्ठी विशेष हिन्दी प्रशिक्षण कार्यशाला, राजभाषा प्रदर्शनी, सांस्कृतिक कार्यक्रम, गोवा दिनांक – 27 से 29 अक्टूबर 2014

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 145वीं जयंती तथा भारत की स्वतंत्रता की 68वीं वर्षगांठ के अवसर पर राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, रूपाम्बरा द्वारा आयोजित 27वां अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन एवं अंतर्राष्ट्रीय भाषा-साहित्य संगोष्ठी का आयोजन गोवा में 27-29 अक्टूबर, 2014 को सफलता पूर्वक सम्पन्न हुआ।
गोवा सम्मेलन का उद्घाटन महामहिम राज्यपाल पश्चिम बंगाल, डॉ. केशरीनाथ त्रिपाठी, उत्तराखंड के महामहिम राज्यपाल, डॉ. अजीज़ कुरैशी, कर्नाटक के महामहिम राज्यपाल, श्री वी. वाजू भाई वाला एवं गोवा की महामहिम राज्यपाल श्रीमती मृदुला सिन्हा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर पूष्पार्पण कर तथा पंच प्रदीप जलाकर किया।
सम्मेलन में भारत सरकार के मंत्रालयों, विभागों, उपक्रमों, निगमों आदि के वरिष्ठ अधिकारियों, राजभाषा अधिकारियों, देश के वरिष्ठ लेखकों, कवियों, भाषाविद्, विद्वानों की सहभागिता रही। इस अवसर पर 12 सरकारी विभागों, उपक्रमों, निगमों, लोकसभा को अंतर्राष्ट्रीय अकादमी राजभाषा शील्ड द्वारा सम्मानित किया गया तथा पांच साहित्यकारों, हिन्दी सेवियों को विशिष्ट हिन्दी सेवा सम्मान प्रदान किया गया।
डॉ. स्वदेश भारती, अध्यक्ष, राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, रूपाम्बरा ने इस अवसर पर स्वागत उद्बोधन में कहा कि राष्ट्र की अस्मिता तथा राष्ट्रीय एकता, अखण्डता, नई पीढ़ी को वैचारिक भाषिक शिक्षा प्रदान करने के लिए हिन्दी की रूचि जागृत करना अत्यंत आवश्यक है। हमें भारतीय संस्कृति और उसकी मिट्टी की सुगन्ध को भूलना नहीं है। बल्कि जागतिक स्तर पर गौरव प्राप्त करना है। भारतीय भाषाओं विशेषकर हिन्दी का प्रचार-प्रसार अकादमियों, स्वैच्छिक स्वयं सेवी  हिन्दी संस्थानों के माध्यम से व्यापक रूप में सरकार को करना है।
उद्घाटन भाषण में श्रीमती मृदुला सिन्हा, महामहिम राज्यपाल गोवा ने कहा कि राष्ट्रीय एकता तथा अखंडता की भाषा है। उसका व्यापक प्रचार-प्रसार जरूरी है। हिन्दी भारतीय अस्मिता की भाषा है, इसे विश्वभाषा की दर्जा देना होगा।
कर्नाटक के महामहिम राज्यपाल श्री वी. वाजू भाई वाला ने कहा कि हिन्दी भारत के आम आदमी की भाषा है। राष्ट्रीय एकता के लिए एक ही भाषा आवश्यक है, जो हिन्दी है। एक राष्ट्रभाषा की परिकल्पना राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने की थी। जिसे हमें पूरा करना है। उत्तराखंड के महामहिम राज्यपाल डॉ. अजीज कुरैशी ने कहा कि हिन्दी भारत में जनसंपर्क की भाषा है। जो संस्कृत के बाद भारतीय संस्कृति की संवाहिका की है। हिन्दी समूचे भारत की जोड़ने वाली भाषा है। पश्चिम बंगाल के महामहिम राज्यपाल डॉ. केशरीनाथ त्रिपाठी ने कहा कि भारत में हिन्दी बोलने वालों की संख्या 70 प्रतिशत है। 30 देशों से अधिक में पठन-पाठन होता है। हिन्दी अंतर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में सर्वमान्य होना चाहिए। उसे विश्व भाषा और राष्ट्रसंघ की भाषा के रूप में मान्यता प्राप्त होना चाहिए। हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जहां भी जाते हैं हिन्दी में ही बोलते हैं। राष्ट्रसंघ में भी हिन्दी में ही भाषण दिया तथा अंतरराष्ट्रीय मंचों पर हिन्दी में बोलते हैं।
सह सत्रों में सम्पन्न अंतर्राष्ट्रीय भाषा संगोष्ठी में भारतीय भाषाओं के विकास, संवर्धन और आदान-प्रदान की प्रक्रिया को तीव्र गति देने के लिए राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अनुवाद की आवश्यकता पर बल दिया गया तथा केंद्र एवं राज्यों की अकादमियों को इस दिशा में ठोस कदम उठाने का जोरदार प्रस्ताव दिया गया।
सम्मेलन में लोकसभा सचिवालय, भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद, गोवा शिपयार्ड लिमिटेड, इंडियन ओवरसीज बैंक, निर्यात-आयात बैंक, कैनरा बैंक, भारतीय साधारण जीवन बीमा निगम, विशाखापटनम्, इस्पात संयंत्र, कोल इंडिया लिमिटेड, बैंक आफ बड़ौदा, पावर ग्रिड कार्पोरेशन आफ इंडिया आदि को अंतरराष्ट्रीय अकादमी राजभाषा शील्ड, राजभाषा पत्रिका शील्ड सम्मान द्वारा सम्मानित किया गया। पद्मश्री कविवर सुरेंद्र दुबे, सचिव, राजभाषा आयोग, छतीसगढ़, श्री हरिसुमन बिष्ट, सचिव हिन्दी अकादमी, दिल्ली, साहित्यकार एवं हिन्दी सेवी, प्रशासक माननीय डॉ. केशरीनाथ त्रिपाठी, श्रीमती मृदुला सिन्हा, डॉ. अजीज़ कुरैशी एवं श्री वी. वाजू भाई वाला को विशिष्ट हिन्दी सेवा सम्मान द्वारा सम्मानित किया गया। सम्मेलन स्थल पर आयोजित राजभाषा प्रदर्शनी में वैज्ञानिक एवं तकनीकी शब्दावली आयोग, केंद्रीय हिन्दी निदेशालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार ने सहयोग प्रदान किया। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ शासन तथा गोवा सरकार द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए, जो अत्यंत सराहनीय थे। सम्मेलन का संचालन डॉ. सुधीर शर्मा, निदेशक राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी ने किया तथा कार्य संयोजन डॉ. संजीव सक्केना, क्षेत्रीय सचिव राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, दिल्ली एवं श्री एस. बी. प्रभुदेसाई, उपमहाप्रबंधक गोवा शिपयार्ड ने किया। दूरदर्शन, आकाशवाणी, गोवा के समाचार पत्रों, मीडिया ने व्यापक कवरेज किया। रिसोर्ट मेरिना डौराडा ने हर प्रकार की सुविधाएं प्रदान की।
सम्मेलन में गोमान्तक राष्ट्रभाषा विद्यापीठ गोवा का सहयोग प्राप्त हुआ। इस अवसर पर निम्नलिखित प्रस्ताव पारित किए गएः-

प्रस्ताव/प्रतिवेदन

1)      हिन्दी को संयुक्त राष्ट्रसंघ की आधिकारिक भाषा बनाने में केंद्र सरकार तेजी से समुचित कार्यवाही प्रारम्भ करें।
2)      संविधान में संशोधन कर हिन्दी को भारत की राष्ट्रभाषा घोषित किया जाए।
3)      हिन्दी राजभाषा के क्रियान्वयन, पारिभाषिक कोष, तकनीकी शब्दावली इत्यादि के लिए केंद्रीय हिन्दी निदेशालय, तकनीकी शब्दावली आयोग तथा प्रदेश सरकार के आयोजों के मध्य समन्वय स्थापित किया जाए।
4)      हिन्दी के अत्यंत क्लिष्ट प्रयोग के बजाय सरलीकरण, सोशल मीडिया में हिन्दी के सही प्रयोग इत्यादि पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए।
5)      हिन्दी के प्रचार-प्रसार में संलग्न संस्थाओं को और अधिक वित्तीय सहायता, साहित्यिक पत्रिकाओं को मदद की जाए।
6)      लोकसभा एवं राज्यसभा में हिन्दी सलाहकार समिति का गठन किया जाए। राज्यों की विधानसभा में भी सलाहकार समितियों का गठन किया जाए।
7)      गोवा में हिन्दी अकादमी की स्थापना इसी वर्ष से की जाए। गोवा को से वर्ग में लाया जाए।
8)      राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी को भारत सरकार हिन्दी के प्रचार-प्रसार, सम्मेलन-संगोष्ठी इत्यादि के लिए प्रतिवर्ष 10 लाख रुपये का अनुदान प्रदान करें।
9)      इंटरनेट एवं कम्प्यूटर में देवनागरी लिपि को प्रोत्साहित किया जाए तथा हिन्दी के लिए रोमन लिपि के प्रयोग पर रोक लगाई जाए।
10)   अकादमी का अगला सम्मेलन छत्तीसगढ़ में आयोजित करने तथा इस हेतु पद्मश्री डॉ. सुरेंद्र दुबे को संयोजक बनाने का भी निर्णय लिया गया।
11)   अनुवाद के लिए एक सशक्त संस्था बनाई जाए। भारतीय अनुवाद परिषद को उन्नत किया जाए।
12)   राज्यों की हिन्दी अकादमियों का एक संयुक्त सम्मेलन राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, रूपाम्बरा के सहयोग से किया जाए।
13)   केंद्र एवं राज्य सरकार के प्रतिष्ठानों में गोपनीय रिपोर्ट/वार्षिक-प्रतिवेदनों में हिन्दी के लिए विशिष्ट कार्य कर रहे अधिकारियों/कर्मचारियों को महत्व देने के लिए विशिष्ट उल्लेख किया जाए तथा प्रपत्रों में एक कॉलम अतिरिक्त बनाया जाए।
                                       
(डॉ. स्वदेश भारती           (डॉ. सुधीर शर्मा)
  राष्ट्रीय अध्यक्ष               निदेशक




Thursday, 23 October 2014

Deewali Greetings

दीपावली वर्ष में आती है सिर्फ एक बार
संबंधों और मित्रता का उत्सव मनाने
सुशोभित करने
संप्रीति की जीवन्तता
और यह कहने प्रिय जनों को-

शुभ दीपावली पर
                 हार्दिक शुभकामनाएं

Dipawali comes loaded with joy and Happiness
once in a year
to celebrate and decorate
relationship, friendship
to adorn the love forever
and utter-
Happy Diwali
                Greetings, best wishes
                                        to all my dear.

Saturday, 4 October 2014

मन की बात

माननीय प्रधानमंत्री जी,
                          सादर प्रणाम।

आपके प्रधानमंत्री-कार्यकाल की दो विशिष्ट योजनाएं राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में अत्यंत महत्वपूर्ण हैं -
1) प्रधानमंत्री जन-धन बैंक खाता योजना
2) स्वच्छ भारत अभियान

प्रधानमंत्री जन-धन बैंक खाता योजना को भ्रष्टाचार मुक्त तरीके से सफल बनाना है।

स्वच्छ-भारत अभियान को सघन, प्रयोजनीय, सार्थक एवं कार्यकर बनाने के लिए मनुष्य और आधुनिकतम मशीनों का इस्तेमाल जरूरी है।

दोनों योजनाओं को लालफीताशाही से अलग रखना है।

सादर,

आपका,

स्वदेश भारती
(अध्यक्ष- राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, कोलकाता)


आपने अपने चुनाव-अभियान में सारे भारत में सैकड़ों जनसभाओं को हिन्दी में संबोधित किया। जनता ने आपको बहुमत दिया। यह प्रबल जन-आकांक्षा है कि हिन्दी को राष्ट्रसंघ की भाषा के रूप में स्वीकृति प्राप्त हो। यह 90 करोड़ भारतीयों एवं अप्रवासी भारतीयों की अाकांक्षा है।

आपने भूटान, नेपाल, जापान, अमरीका, राष्ट्रसंघ में हिन्दी में ही भाषण दिये, विश्व नेताओं से हिन्दी में बातचीत की, परन्तु संभवतः भूल गए कि अपने भाषणों और बातचीत में हिन्दी को राष्ट्रसंघ की भाषा तथा भारत को सुरक्षा परिषर का सदस्य बनाए जाने की जोरदार अपील नहीं की। इससे हिन्दी भाषी जनता को निराशा हुई है। आपसे प्रार्थना है कि हिन्दी को राष्ट्रसंघ की भाषा स्वीकृत कराने के लिए तथा भारत को राष्ट्रसंघ सुरक्षा परिषद का सदस्य बनाने के लिए सार्थक एवं सघन प्रयास करने की कृपा करें।

यह कार्य आपको इतिहास पुरुष के रूप में आंका जाएगा। भारत में ही नहीं विश्व के बहुत सारे देशों के प्रवासी भारतीयों के बीच आपके प्रतिष्ठा बढ़ेगी। राष्ट्र गौरवान्वित होगा राष्ट्रभाषा हिन्दी को विश्वभाषा बनने का सौभाग्य प्राप्त होगा।

माननीय प्रधानमंत्री जी किसी भी स्वतंत्र, सारभौम, जनतांत्रिक राष्ट्र के मुख्य रूप से चार आधार स्तम्भ होते हैं-
1) संविधान
2) राष्ट्रगान
3) राष्ट्रध्वज
4) राष्ट्रभाषा

हमें तीन आजादी मिली है। चौथी अभी तक स्वाधीनता के 68वीं वर्ष भी नहीं मिल पाई जो भारत की मुकम्मल आजादी के लिए अत्यंत जरूरी है।

अतः आपसे सादर प्रार्थना है कि हिन्दी को विश्व भाषा के रूप में राष्ट्रसंघ की भाषा स्वीकृत कराने की दिशा में यथोचित कार्रवाई शीघ्र करने की कृपा करें तथा भारत को राष्ट्रसंघ-सुरक्षा परिषद का सदस्य बनाने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अभियान शुरू करें।

नवरात्रि एवं दशहरा की हार्दिक शुभकामनाएं

अत्यतं आदर एवं सम्मान सहित,

आपका,

डॉ. स्वदेश भारती
(अध्यक्ष- राष्ट्रीय हिन्दी आकादमी, कोलकाता)


प्रतिष्टा में
श्री नरेंद्र मोदी,
माननीय प्रधानमंत्री
भारत
7, रेस कोर्स मार्ग,
नई दिल्ली - 110 011

Thursday, 18 September 2014

27वां अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन, अंतर्राष्ट्रीय भाषा साहित्य संगोष्ठी, विशेष हिन्दी प्रशिक्षण कार्यशाला, राजभाषा प्रदर्शनी गोवा, 27-29 अक्टूबर 2014


माननीय

राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, रूपाम्बरा द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्म दिन के उपलक्ष्य में अभी तक 26 अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन 108, अंतर्राष्ट्रीय भाषा साहित्य संगोष्ठियां, 318 विशेष हिन्दी प्रशिक्षण कार्यशालाएं, 112 देश-विदेश के विद्वानों, भाषा विद्, साहित्यकारों को राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय सम्मान-392, भारत सरकार के मंत्रालयों, विभागों, निगमों, बैंकों, राज्य सरकारों को अकादमी राष्ट्रीय राजभाषा शील्ड सम्मान राजभाषा पत्रिका शील्ड सम्मान प्रदान किए गए। गोवा सम्मेलन में 15 संस्थानों तथा 7 विशिष्ट लेखकों को सम्मानित किया जायेगा। सम्मेलन का उद्घाटन समारोह दिनांक 27.10.14 को अपराह्न 4 बजे- 5.30 बजे होगा जिसका उद्घाटन पश्चिम बंगाल के महामहिम राज्यपाल, विद्वान, भाषाविद् डॉ. केशरीनाथ त्रिपाठी करेंगे। तथा गोवा के माननीय राज्यपाल, मुख्यमंत्री एवं कई अतिविशिष्ट व्यक्ति सम्मेलन के मुख्य अतिथि होंगे। सम्मेलन स्थल पर राजभाषा प्रदर्शनी आयोजित होगी। 100 तथा 200 वर्गफुट के स्टॉल आरक्षित होंगे। जिसका शुल्क रु. 100/- प्रति वर्गफुट है। जो अग्रिम देय होगा।

सम्मेलन तथा राजभाषा प्रदर्शनी का उद्घाटन दिनांक -27.10.2014 को अपराह्न 4 बजे होगा। 6.00 बजे से 7.30 बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित है।

दिनांक 28.10.2014 को प्रातः 10 बजे से शाम 5.30 बजे तक अंतर्राष्ट्रीय भाषा साहित्य संगोष्ठी, विशेष हिन्दी प्रशिक्षण कार्यशाला के पांच सत्र तथा शाम 6 बजे से 7.30 बजे राष्ट्रीय कवि सम्मेलन का आयोजन होगा।

दिनांक 29.10.2014 को प्रातः 7.30 बजे से 12.30 बजे गोवा के स्थानीय पर्यटन स्थलों का परिभ्रमण तथा शैक्षणिक खुला सत्र।
दिनांक 29.10.2014 को अपराह्न 3 बजे-4.30 बजे समापन दीक्षान्त-शील्ड समारोह।

सम्मेलन में भारत सरकार के मंत्रालय, विभाग, उपक्रम, निगम, बैंक, राज्य सरकारें, हिन्दी सेवी संस्थाएं, सार्क तथा अन्य देशों, भारत में विदेशी दूतावासों के प्रतिनिधि, मीडिया, संचार माध्यमों के प्रतिनिधि, कई भारतीय भाषाओं के लेखक, विद्वान सादर आमंत्रित हैं।

सम्मेलन-सहभागिता-नामांकन शुल्क श्रेणी रु. 22,850/-  ‘ श्रेणी रु. 19,850/- तथा श्रेणी (साहित्यकारों के लिए) रु. 12,850/- है जिसके अंतर्गत दिनांक 27 से 30 अक्टूबर 2014 तक रिसोर्ट मेरीना डौराडा में कमरे का किराया, चाय, नास्ता, दोपहर, रात का भोजन, शैक्षणिक-पर्यटन, सम्मेलन विशेष हिन्दी प्रशिक्षण कार्यशाला में सहभागिता-फीस, फाइल कवर, पेन, पैड, बैज, प्रतीक चिन्ह, शाल, प्रमाण पत्र आदि उपहार वस्तुएं शामिल हैं। विदेशी सहभागिता शुल्क US $ 2000/- परिवार के लिए 5 वर्ष से ऊपर आयु के प्रति सदस्य रु. 7000/-  अग्रिम देय होगा जिसे बैंक ड्राफ्ट द्वारा दिनांक 15.10.2014 के पहले भेजना अनिवार्य होगा। सहभागीगण अपना नामांकन/यात्रा-विवरण निम्नलिखित पते पर भेजें –

राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, रूपाम्बरा
प्रशासनिक कार्यालय
3, जिब्सन लेन,
कोलकाता-700 069
टेलीफैक्स 033-22135102
Blog-bswadeshblogspot.com





संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी को मान्यता

माननीय प्रधान मंत्री जी ने लोकसभा चुनाव के समय सारे देश में घूम घूम कर जनता के सामने अपनी बातें हिन्दी में रखीं। वे विजय हुए। भारत की बागडोर थामी, हिन्दी को माध्यम बनाकर। परन्तु अभी तक हिन्दी को राष्ट्रसंघ की भाषा बनाने के लिए सार्थक कदम नहीं उठाया गया। इसके लिए राष्ट्रसंघ को लगभग 200 करोड़ रुपये देने तथा 172 देशों का समर्थन प्राप्त करने के लिए कारगर कार्रवाई नहीं हुई। राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी की ओर से कई बार माननीय प्रधान मंत्री तथा अन्य वरिष्ठ नेताओं से अनुरोध किया गया कि वे हिन्दी को विश्वभाषा बनाने के लिए सघन प्रयास करें जो राष्ट्र के गौरव एवं अस्मिता का प्रश्न है।  

अब माननीय श्री नरेन्द्र भाई मोदी, भारत के माननीय प्रधानमंत्री देश के सर्वांगीण विकास और प्रगति के लिए समर्पित भाव से काम कर रहे हैं। उनसे सादर प्रार्थना है कि जब वे राष्ट्रसंघ महासभा में अपनी बात हिन्दी में रखें तो साथ-साथ विश्वभाषा हिन्दी को राष्ट्रसंघ की भाषा बनाने की घोषणा करें तथा आवश्यक कोश आबंटित करें।

भारत के स्वातंयोत्तर-इतिहास में माननीय प्रधानमंत्री जी का यह उल्लेखनीय एवं ऐतिहासिक कार्य बेहद सराहनीय होगा। जो देश तथा विदेश के सभी भारतीयों को गर्वित करेगा और अंतर्राष्ट्रीय धरातल पर राष्ट्रभाषा हिन्दी को विश्वभाषा के रूप में मान्यता प्राप्त होगी।

-          डॉ. स्वदेश भारती, अध्यक्ष,
   राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी 










Monday, 7 July 2014

भारत की जनता को नई सरकार से अपेक्षाएं

  1. विकास की दशा दिशा का पुनर्मूल्यांकन किया जाए तथा वास्तविक स्थिति को निर्धारित कर आज के समयानुकूल योजनाएं, कार्यक्रम बनाने का वास्तुनिष्ठ सघन प्रयास किया जाए तथा ग्रामीण-विकास की दिशा में तीव्र गति से काम हो।
  2. भारतीय संस्कृति, भाषा साहित्य के प्रचार-प्रसार, सामाजिक उत्थान तथा व्यवहार के विस्तृत कार्यक्रम बनाए जाए तथा उनका व्यापक रूप से मीडिया एवं जन संचार माध्यमों द्वारा प्रचार-प्रसार किया जाए।
  3. युवक, युवतियों, छात्र, छात्राओं को अपनी मिट्टी से जुड़ने की शिक्षा, परिवार से लेकर स्कूल, कॉलेज, बड़े संस्थानों तक अनिवार्य रूप से लागू की जाए।
  4. चीन और पाकिस्तान से भारतीय जमीन का अवैध कब्जा तुरन्त वाप्स लिया जाए। कैलाश, मानसरोवर, पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से विदेशी आधिपत्य बल पूर्वक हटाया जाए तथा भारत की सीमाओं को कड़ाई के साथ सुरक्षित रखा जाए।
  5. समाज के दुष्कृतियों, बाहुबलियों, बताल्कारियों, लोभलाभी भ्रष्ट प्रशासकों, राजनैतिक नेताओं में छाए भ्रष्टाचार तथा अशुचिता के विरुद्ध कठोर कदम उठाए जाएं।
  6. धर्म, जाति, वर्ण, वर्ग भाषा के आधार पर भारतीय समाज को बांटने की अब तक की अराजक राजनैतिक आपाधापी से छुटकारा दिलाया जाए।
  7. सभी नागरिकों के लिए एक संविधान, एक राष्ट्रगान, एक राष्ट्रध्वज, एक राष्ट्रभाषा एक कोड लागू किया जाए।
  8. सारे देश में हिन्दी तथा अहिन्दी भाषी प्रांतों के स्कूलों एवं कॉलेजों में त्रिभाषा फार्मूला लागू किया जाए, इससे देश की अखंडता एवं राष्ट्रीय एकता सुदृढ़ होगी और भारतीय भाषाओं को बढ़ावा मिलेगा।
  9. हिन्दी को विश्वभाषा के रूप में राष्ट्रसंघ की भाषा घोषित की जाए तथा इसके लिए भारत सरकार, विदेश मंत्रालय द्वारा यथोचित कार्रवाई की जाए एवं इस हेतु राश्ट्रसंघ को उपयुक्त धन मुहैया कराया जाए तथा भारतीय भाषा, साहित्य संस्कृति का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए।
  10. महंगाई से निजात पाने के लिए कठोर विधि-व्यवस्था एवं दंड का प्रावधान हो। खाद्यान्न पदार्थों आलू, प्याज, सब्जियों, दवाओं जनता के काम में आने वाले आवश्यक उत्पादों के दामों पर नीतिगत अंकुश लगाया जाए तथा बाजार में विक्रय मूल्यों का उचित निर्धारण किया जाए। जमाखोरों, लालची, खुदरा विक्रेताओं के विरुद्ध कठोर कदम उठाएं जाएं तथा उन्हें तुरन्त दंडित किया जाए।      

Friday, 20 June 2014

राष्ट्रसंघ में हिन्दी

श्री राजनाथ सिंह
माननीय गृहमंत्री, भारत
गृहमंत्रालय
नार्थ ब्लॉक
नई दिल्ली - 110 001

संभवतः आगामी सितम्बर 2014 में राष्ट्ररसंघ महासभा अधिवेशन को माननीय नरेन्द्र मोदी, भारत के माननीय प्रधानमंत्री, हिन्दी में संबोधित करेंगे।

राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी से  जुड़े हजारों हिन्दी प्रचारकों, साहित्यकारों, विद्वानों का विनम्र प्रस्ताव है कि उस समय माननीय प्रधानमंत्री हिन्दी को राष्ट्रसंघ की भाषा घोषित करने की कृपा करें। यह राष्ट्रीय हित में ऐतिहासिक कदम होगा।

-डॉ. स्वदेश भारती
अध्यक्ष
राष्ट्रीय हिन्दी अकाम

गृह मंत्रालय, भारत सरकार में अब संपूर्ण कार्य हिन्दी में

अब से हिन्दी का प्रयोग गृह मंत्रालय के समस्त कार्यों हेतु होगा। मोदी सरकार का यह निर्णय सराहनीय और ऐतिहासिक है। यह भारतीय भाषा, साहित्य एवं संस्कृति के विकास, संवर्धन और राष्ट्रीय गौरव के लिए अत्यंत आवश्यक भी है। नई सरकार के इस अभूतपूर्व निर्णय से साहित्यकारों, हिन्दी प्रचारकों, विद्वानों में प्रसन्नता है।
इस संदर्भ में किसी भी प्रकार का राजनैतिक तथा स्वार्थपरक विरोध नहीं होना चाहिए। जो राष्ट्रीयता के हित में कदापि नहीं होगा। नई सरकार को बधाई।
                                             - स्वदेश भारती,  (साहित्यकार)
                                            अध्यक्ष, राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी

                                                             कोलकाता।

Monday, 19 May 2014

Swadesh Bharati: हार्दिक शुभकामनाएं

Swadesh Bharati: हार्दिक शुभकामनाएं: परम आदरणीय  नरेंद्र भाई मोदी जी,                                                                                      सादर नमन। संसदीय ...

हार्दिक शुभकामनाएं

परम आदरणीय  नरेंद्र भाई मोदी जी,
                                       
                                             सादर नमन।

संसदीय चुनाव में आपकी शानदार एवं ऐतिहासिक विजयी पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
                                                   
                                                                                           - स्वदेश भारती
                                                                                            अध्यक्ष, राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी

---------------------------------------------------------------------------------------------------

परम आदरणीय नरेंद्र भाई मोदी जी,
                                    सादर प्रणाम।

आपने राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी को लगभग 14 वर्षों से लगातार हमारे अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलनों के सफल कार्यान्यवन हेतु शुभकामनाएं दी है। यह एक ऐतिहासिक अवसर है। अब आप भारत के प्रधान मंत्री के रूप में राष्ट्र के सर्वांगीण विकास के लिए कार्य करते रहेंगे। राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी के सभी सदस्यों का सहयोग रहेगा।
                        नये मंत्रीमंडल के लिए हार्दिक शुभकामनाएं
                                                                 
                                                             अत्यंत आदर एवं सम्मान सहित,

                                                                                                                   आपका,

                                                                                                               स्वदेश भारती
                                                                                                 अध्यक्ष, राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी

Wednesday, 30 April 2014

कविता-धर्मिता

स्वातंत्र्योत्तर काल की, हिन्दी कविता को नई कविता, अकविता, श्मशानीपीढ़ी की कविता, भूखी पीढ़ी की कविता, आज की कविता, अखबारी कविता आदि विशेषणों, नारों से सजाकर पाठकों के समक्ष रखा गया। परन्तु 65 वर्ष बीत गए, कविता स्वेच्छाचारी कवि की निजी संवेदना की दासी बनी रही। कविता की आत्मा की स्वच्छन्दता, भाषा सौष्टव, शिल्प-विन्यास, तटस्थ भाव, अभिव्यक्ति का अभाव बना रहा, ऐसी स्थिति इसलिए भी रही कि कविता, कवि, आलोचक के अहंभाव-बोध और एकांगिक नजरिए से बंधकर अपना प्रभाव खोने लगी। उसे वास्तुपरक विवेचना का छद्म जामा पहनाया जाने लगा। उसे रचनात्मकता से दूर तथाकथित मानसिक तनाव और आम आदमी की जिजीविषा के साथ जोड़ दिया गया। आदि काल से अब तक संवेदना के स्तर पर कविता आम आदमी और सामाजिक सरोकार की रचनात्मक विरासत रही है। उसे वाद-विवाद आत्मराग-विराग और पक्षधर चिन्तन की बैसाखियों पर नहीं चलाया जा सकता। कविता सदा से मुक्त रही है। स्वच्छन्द, आत्मपरक, समाजपरक।
हमें आज के सामाजिक, राजनैतिक, वैचारिक केऑस के बीच कविता को कविता के रूप में उसकी सर्जनात्मकता की विशिष्टता को नए सिरे से समझना होगा। कविता को सिर्फ कविता के रूप में स्वीकारना होगा।
              - स्वदेश भारती

Wednesday, 23 April 2014

प्रजातंत्र का मजाक

तेरहवीं संसद के चुनाव में विसंगतिपूर्ण नई बातें सामने आ रही हैं। भारतीय जन मानस निम्नलिखित बातों के आइने में सोचें -

1) भारत के संविधान की प्रजातांत्रिक संसदीय प्रमाली की व्यवस्थाओं, नियमों को इतिहास में  पहली बार ताक पर रखकर पहले से प्रधानमंत्री की घोषणा कर जनता से उसके लिए वोट मांगना संघीय ढाचे के विरुद्ध है। यह असंवैधानिक  है।  ऐसा राष्ट्रपति-प्रणाली वाले देशों में होता है।

2) व्यक्तिगत आक्षेप-प्रत्याक्षेप की वाचालता से इस देश की सभ्यता और संस्कृति पर कुठाराघात करना और हमारी नई पीढ़ी के सामने भोंडा और भद्दा आचारण पेश करना भारतीय सभ्यता के विरुद्ध है।

3) भारतीय-जनतांत्रिक व्यवस्थाओं के विरुद्ध भाषणबाजी करना और वोटखोरी के नीति पर चलना आज के परिप्रेक्ष्य में गलत है।

4) लोकहित, नवनिर्माण, विकास से अलग हटकर वोट की राजनीति करना प्रजातांत्रिक ढांचे को तोड़ना है।

5) हिन्दी को राष्ट्रभाषा, विश्वभाषा के रूप में देश तथा राष्ट्रसंघ में मान्यता देने के बारे में मौन साधना भारतीय संस्कृति के विरुद्ध है।

                                                                                                                          - स्वदेभ भारती,
                                                                                                                                                                     साहित्यकार

Saturday, 19 April 2014

स्वदेश भारती-चित्रावली

स्वदेश भारती के विभिन्न रूप-


                                           
हिन्दी साहित्य के युग पुरुष सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन 'अज्ञेय' के साथ कवि स्वदेश भारती (वर्ष 1987), कलकत्ता पुस्तक मेला।








अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन ऊटी 2-4 अक्टूबर 1992 के
 अवसर पर केन्द्रीय गृहमंत्री श्री एस. बी. चौह्वान, मुख्य अतिथि के साथ




महीयसी महादेवी वर्मा जयंती समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए कविवर स्वदेश भारती तथा
नीचे के तस्वीर में महादेवी वर्मा जयंती समारोह का उद्घाटन करते हुए ।





कविवार स्वदेश भारती अपने निवास पर पुस्तक पढ़ते हुए





  राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, रूपाम्बरा द्वारा बिड़ला तारामंडल, कोलकाता में 
वर्ष 14 सितम्बर 1986 में आयोजित काव्य संगोष्ठी में काव्य पाठ करते हुए। 
मंचासीन (बाएं से दाएं) डॉ. गंगा प्रसाद विमल, कलकत्ता विश्वविद्यालय हिन्दी विभागाध्यक्ष 
प्रो. कल्याणमल लोढ़ा, कविवर जगदीश चतुर्वेदी, श्री सक्सेना तथा अन्य।




कविवर स्वदेश भारती अपने निवास के पुस्तकालय में अध्ययनरत वर्ष 1986



हुगली का प्रवाह देखते हुए मैन आफ वार जेटी पर कवि स्वदेश भारती (वर्ष 1974)


Friday, 18 April 2014

आत्म छलना-4

भागता है ऊद विलाव
जनतंत्र की बिल से निकलकर
जनादेश के लिए जन लुभावन रूप दिखाता
पक्ष-विपक्ष की सेनाओं के बीच
आत्म सत्ता का महाभारत-युद्ध रचता
बार बार अपने अहं के रथ पर बैठ
दूर दूर वार करता
किन्तु अविवेक से लड़ा गया युद्ध हारता
जनमत-संघर्ष में घायल
अपनी बिल में घुसकर बैठ जाता
ऊद बिलाव बार बार जीर्ण-शीर्ण,
जनतंत्र के गलियारे से चलकर
भव्य राजपथ पर पहुंच जाता
जिसके अंतिम छोर पर जल रहा आजादी का अलाव
पास में सत्ता की कुर्सी खाली पड़ी है
जो आदमी की आत्म-सत्ता से बड़ी है
और उसी के लिए तो भागता सरपट, झटपट रंग बदलता
और तरह-तरह से बदलता हाव-भाव
लोकतंत्र का ऊद विलाव

                                         - स्वदेश भारती
                                                         5 अप्रैल, 2014



आत्म छलना-5
अयोध्या के राम
आम-जन की बातें सुनते-सुनाते थे
और शिकायतों को सुलझाते थे
तब अपने व्यक्तिगत संबंधों के
विखरे ताने बाने को ठीक करते
किन्तु आज के आया राम, गया राम
कुर्सी के लिए आमजन का विश्वास तोड़ते
व्यक्तिगत स्वतंत्रता का प्रदीप बुझाते
स्वार्थ और लोभ का अंधकार रचाते

प्रजातंत्र में अनैतिकता एक औजार है
जिसे प्रत्येक सत्ताधारी
अपनी सुरक्षा कवच के लिए इस्तेमाल करता है
उसे सदा अपने पास सहेजकर रखता है
उसके लिए आमजन, आमराय,
जनमत बहेलिए का खडयंत्र जनित
आखेटक खेल है
समय का तकाजा है कि
सत्ताधारी प्रदीप तब तक ही जलता है
जितना और जब तक उसमें आत्मलोभ का तेल है

                                          - स्वदेभ भारती
                                                           6 अप्रैल, 2014





Saturday, 12 April 2014

आत्म छलना - 1

हम जीवन पर्यंत छलते हैं अपने को
अपने आसपास के संदर्भों को, संबंधों को
लोभ आत्म प्रवाह से
तोड़ते हैं सत्तता के अनुबन्धों को
किताबें, धर्मग्रन्थ, श्रुतियां कुछ भी कहें
हम स्वार्थजनित पूजते रहे कबन्धों को।

हमने बनाए कितने सारे विधान-वितान
ग्रहण किए, बांटे विविध ज्ञान-विज्ञान
किन्तु सतात्मग्रही नहीं हो सके
बार बार दोहराते रहे इतिहास के छन्दों को।

यूं तो हम सभी जानते हैं
सच क्या है, झूठ का अर्थ क्या है
किन्तु मनसा, वाचा, कर्मणा छलते रहे
आत्म-अनात्म के अंधेरे में अपने वन्दों को।

                              - स्वदेश भारती
                                          कोलकाता 2 अप्रैल, 2014


आत्म छलना - 2

सम्बन्धों का छलना मनुष्य को
जीवन में अराजक बना देती है
वह नहीं कर पाता
भले और बुरे का निर्णय
न्याय का अधिकार
मस्तिष्क की प्रवंचना के अंधेरे तल घर में
दुबक कर बैठ जाता है
अन्याय के घटाटोप अंधकार से अच्छादित करता है
ऐसे में व्यक्ति सिर्फ बोलता है
अकमर्णता के कगार से फिसलकर
गहरी खाई में गिरता है
सच्चाई के रंग में विष घोलता है
फिर भी अपने हृदय  में
वादा फरोशी के कई रंग मिलाता है
तब उसकी नियति खोट बन जाती है
मनुष्य कर्म और अकर्म का पैमाना है
व्यक्ति का समष्टि के प्रति सेवाभाव
बस एक बहाना है
वह अपनी अनीति धर्मा नीयत का आजन्म
विखराव सहता है
उसके लिए मानव धर्म
सिर्फ मानसिक ताना बाना है।


आत्म छलना - 3

आत्म छलना से लेकर
जन-मत गणना तक
एक अप्रीतिकर आवाज गूंजती है
दिशांत के आर पार सिवान से शहर
झोपड़ी से अट्ठालिका
पल्लि पथ से फुटपाथ,
सड़क से राज पथ तक
संसद, विधान सभा का बुर्ज का पता है
आजादी की बुढ़िया पथ-श्लथ ऊंघती है
बार-बार कई कई तरह से
आवाजें बदलती है
जनमत को आकर्षण-जाल में बांधने
साम, दाम, दंड, भेद की राजनीति
लोभ और स्वार्थ के दायरे में
चक्कर लगाती है
देश की सीमा के आर पार
जनमानस के ऊपर
छा जाता तमो गुणी अंधकार
सत्ताधारी अपनी लोलुप महत्वाकांक्षा
का कुटिल खडयंत्र रचता है
खंड-खंड हुए जनमत के सहारे
अराजकता की खाई में
गिरने से बचता है।


Thursday, 10 April 2014

मतदान-प्रतिश्रुति का पंचनामा

1. मतदान वादों की प्रतिश्रुति है। आस्था है। प्रजातंत्र के बीज-वृक्ष का अमृत फल है।
मतदान स्वाधीन राष्ट्र का सुनहरा कल है।

2. मतदान के प्रति ईमानदारी राष्ट्रीय-संस्कृति है।

3. वही प्रजातांत्रिक देश विकासशील है, उन्नत और महान बनता है जिसके नागरिक मतदान की महत्ता को पहचानते हैं। अपने विवेक का उचित प्रयोग करते हैं

4. भारतीय लोकतंत्जोर के जागरूक नागरिक विश्रृंखल राजनीति की आंधी में ढहते नहीं बल्कि अपने को राष्ट्रीय अस्मिता का विशाल अक्षयवट की तरह स्थिर हरा भरा रखते हैं। वही देश की प्रगति के संवर्द्धक होते हैं। और राष्ट्र की अस्मिता को विश्वजयी बनाते हैं।

5. मतदान राष्ट्र और व्यक्ति विशेष के प्रति विश्वास की कसौटी है। उस कसौटी पर खरा उतरना प्रत्येक भारतीय का पुनीत कर्तव्य है।

Tuesday, 8 April 2014

संसदीय जनमत-2014

सभी पार्टियों के शीर्ष नेतागण

कतिमय राजनीतिक पार्टियों ने अपने अपने घोषणा पत्र में बहुत सारे वादों के कारे कजरारे मेघों से भूमंडलीय-विकास के क्षितिजों को घटा घनघोर कर दिया। कहां कितना कुछ वादों का सावन बरसेगा यह तो समय ही बताएगा। फिलहाल कई पार्टियों ने उर्दू और मदर से के विकास के वादे किए हैं क्या राष्ट्रभाषा हिन्दी और देश भर के हिन्दी के जर्जरित अभावग्रस्त पाठशालों की ओर नजर नहीं जाती। यह कैसा विकास का एक तरफा धर्म सापेक्ष्य वादा है। कैसे कैसे नेता हैं। कैसे-कैसे लोक-लुभावन वादे हैं। जनता इसे सही तरह से समझ सकती है।
                                  - स्वदेश भारती

Monday, 7 April 2014

मतदान- राष्ट्रीय अस्मिता के लिए

सभी राजनीतिक पार्टियों के नेताओं देश के बुद्धिजीवियों से निवेदन

आपको इतना तो अवगत होगा कि किसी भी स्वाधीन, सार्वभौम, प्रजातांत्रिक राष्ट्र के चार प्रमुख संवैधानिक आधार होते हैं-

                           1. संविधान
                           2. राष्ट्रगान
                           3. राष्ट्रध्वज
                           4. राष्ट्रभाषा

65 वर्षों की आजादी के बाद भी देश को अभी तक चौथा आधार नहीं मिला जिसके कारण देश की एकता, अखंडता और गौरवशाली सांस्कृतिक परम्परा को नया आयाम नहीं प्राप्त हो सका।

अभी तक हमारी राष्ट्रभाषा जो राजभाषा हिन्दी है, वही विश्वभाषा है जिसे राष्ट्रसंघ की भाषा के रूप में मान्यता प्राप्त नहीं हो सकी। यह हमारी  राष्ट्रीय प्रतिबद्धता के बिल्कुल विपरीत है। आज जब हम नई 12वीं संसद गठन के लिए चुनाव प्रक्रिया में व्यस्त हैं, सभी नेता अपने लिए जनता से वोट मांगने सड़क पर निकले हैं। तरह-तरह की मांगों, वादों, प्रतिश्रुतियों, विचारों से, बड़े-बड़े घोषणापत्रों से जनता को आकर्षित किया जा रहा है, वहीं राष्ट्रभाषा की अस्मिता और विश्व भाषा की गरिमा के बारे में सारी पार्टियां मौन है अथवा वे देश की सांविधिक जरूरतों और सार्वभौम, स्वतंत्र राष्ट्र के प्रमुख चार आधार को भूल चुके हैं।

जनता उन्हें ही वोट देगी जो राष्ट्र की प्रभुसत्ता और गौरवशाली परम्पराओं में विश्वास रखकर राष्ट्रभाषा को विश्वभाषा, राष्ट्रसंघ की भाषा के रूप में संसद गठन के बाद 2014 के अंत तक स्वीकृत कराने में सफलता प्राप्त करेंगे। राष्ट्रभाषा हिन्दी को राष्ट्रसंघ की विश्वभाषा बनाने हेतु लगभग 200 करोड़ रुपये का विशेष आवंटन करायेगे तथा लगभग 100 राष्ट्रों की अनुमति प्राप्त करेंगे।

राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी 26 वर्षों से इस दिशा में कारगर कार्य करने के लिए कई अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलनों, अंतरराष्ट्रीय भाषा साहित्य सम्मेलनों तथा अन्य मंचों पर विविध प्रस्तावों द्वारा अपनी मांग भारत सरकार के पास भेजती रही हैं, परन्तु अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

हमारा प्रस्ताव है कि राष्ट्र के प्रति सच्चे प्रेमी और वफादार नेता तथा बुद्धिजीवी इस विषय में गम्भीर चिन्ता करें और भारत की जनता राष्ट्र की आकांक्षाओं को मूर्त रूप देने के लिए आगे आएं।

Friday, 21 March 2014

तुम्हें याद करूंगा

तुम्हें याद करूंगा
उम्र के कगार पर बैठ
दोपहर के सन्नाटे में,
सबेरे और शाम की सतरंगी किरणों में
तुम्हें याद करूंगा

जब मेरे हाथ पांव अशक्त होकर
पथ के दावेदार नहीं रहेंगे
रास्तों में घाटी पर उतरेगी शाम की पकी धूप
जब सबेरे और शाम की रोशनी मेरे लिए एक जैसी होगी
आंखें देख नहीं पायेगी तुम्हारा हरी फसल-रूप
तुम्हें याद करूंगा

जिस तरह नदी के बहाव के नीचे
बहुत सारे अंतर-प्रश्न छिपे होते हैं
बालू की सतह के नीचे पानी
और पत्थर के दिल में करुणा स्रोत फूटते हैं
मेरे दिल में
यादों का बसन्त फूलेगा
बार-बार लिखूंगा नई पत्तियों के मस्तक पर
तुम्हें याद करता रहूंगा



I will remember you
Sitting on the baks of the river of life
brooding on each day that has gone by
In the still of mid-day in the midst of myriad hues of the rays
mom and eve, every day, I'll
remember you, No doubt.

When my main limbs shall
Fail to tread on the path of life.
When the light of fading evening
Shall descend on the forests and path ways
when the light of morning
and evening shall appear just
the same for me
And my eyes shall fail to see
the splendor of beauty of your greenery
I shall remember you, no doubt

As beneath the undercurrents of a river
Many inner questions remain concealed
As from under the sandy surface water gushes forth
And from a stony heart
Compassion springs out
So will the spring of memories shall bloom
in my heart reflected in silvery dew-drops
and repeatedly then I shall write on the surface of
new sprouting leaves
and go on and on remembering you, no doubt.

Tuesday, 18 March 2014

लड़की हंसती है

लड़की हंसती है
हंसी से दोहरी होती है
क्योंकि उसके आंचल में
मखमली रोओं वाली
नीली आंखों की चमक लिए
बालपन की बिल्ली खेल रही है

लड़की रोती है
जार-बेजार
क्योंकि उसके सीने में
धड़कता हुआ दिल है
जिसे किसी बेरहम ने
प्यार-प्रवंचना की क्रूरता से खरोंचा है
अब वह लड़की
असमर्थता की बैसाखियों पर चलती
दिन रात पलकें भिंगोती
न हंसती है
न रोती है
खालीपन-पतझर में
वृंतहीन फूल की पीली पंखुड़ी बन
समय की धूल में मिलने के लिए
निजता खोती।



The Girl Laughs
The girl laughs bending to her left and right
because the cat of her childhood
with velvety hair on its skin
And blue bright eyes
plays all the time
in decorated garment's end

The girl weeps incessantly
because she has a heart
In her bosom and it palpitates speedily
As it is scrached with some one's
cruel deception of loving her.
now she moves on using crutches of helplessness
With numb eye lids day and night
She neither laughs nor weeps on her plight

In the autumnal emptiness
she has turned into yellow dry leaves
of a stemless fading flower,
soon to be mixed in the soil
After having lost its essence forever
and her own identity whatsoever.


अभी और चलना है
कितने सारे ऊबड़ खाबड़
टेढ़े मेढ़े, मरुजीवी, जलजीवी, थलजीवी भूमि खंडों
सघन वनांचल, ऊंचे नीचे रास्तों
अनगिन चौराहों को पार कर
चलता हुआ पथिक अबाधगतिक
एक चौराहे पर रुक गया है
आशा अभी भी बिल्ली की आंख की तरह
चमक रही है
औदार्य-कम्पन में
कहीं भी शिथिलता नहीं है
अभी तो और भी चलना है
और भी आगे
सूर्य की तरह
अपने गन्तव्य तक जाना है
और उसी तरह ओजस्वी लाल रंगोली त्योहार मनाते
सांध्य-क्षितिज आंगन में
शून्यता की ओट ढलना है
अभी और चलना है
और भी आगे
क्योंकि इसी क्रम में
नए बदलाव में
बदलना है।

Still we've to go a long way
Having passed so many
uneven, crooked roads and
moments of torcherous deserts
stretches of treacherous wetlands
Dense forests and hight and low chartered ways.
innumerable crossings
at last crossing the final hurdle
the traveler reached the halting place
But the hope still brightly shines
Like some cat's eyes in the darkness
He is not a all tired in his limbs
keeping the heart open in use
delight has to proceed on and on up to the height
Like the brightest star he has to reach
his destination and take part in
the colorful Rangoli festival of fun
At the court yard of evenings, horizons
And, to be lost in the expanse of void.
But just now he has to go on
forward and onward because
in the perspective of changes
one transforms the self not otherwise.

Friday, 14 March 2014

तुम्हारा चेहरा

तुम्हारा चेहरा आंखों के आईने में
जब भी झलकता है
अतीत मेरी आंखों के कलश से
बूंद बूंद ढलकता है
ये बूंदे वर्षा की बूंदों जैसी नहीं होती
कि बरसी और
ताल लैया नदी दुकूल बाढ़ बन गए
या नगर की सड़कों पर पानी भर गया
ट्राफिक जाम में
सड़कों के रास्ते ही बदल गए
ये बूंदे उस वर्षा की बूंदों की तरह नहीं
जिसमें किसान प्रसन्न होता है
और मछुआरा अपना जाल लेकर
नदी की ओर चल पड़ता है
ये बूंदे उस वर्षा की बूंदों की तरह भी नहीं
जो सैलानी बादलों की आंखों से गिरती
धरती की हरीतिमा के आनन्द से
आत्म-विभोर कर जाती है
ये बूंदे अतीत की बूंदे हैं
स्मृतियों के कसकते घावों से निकल कर
आंखों की राह बरसती है
अन्तर की सूखी जमीन पर आहत
आस्था को अपनी ममत्व भरी बाहों में बांध कर
कहती है-स्मृतियां ही इतिहास
और भविष्य की धरोहर होती है।




Your Face
Whenever you face reflects
In the mirror of my eyes
The past flows drop by drop incessantly
through them
But those are unlike the raindrops
Which when falling constantly
cause floods in the water bodies
pools and ponds, riverbanks and collected on
the city roads
If improperly drained, change there contours of ways
also they are unlike the ones
which please the cultivators and farmers
to stir up a fisherman enough sailing for the river
armed with his nets and angles to cast in the waters
In the hope of getting bountiful catches
They aren't the ones which raining from
the wandering clouds eyes make the earth
so happy with the greenery all around
That she forgets the self in absolute profundity of bliss
These are the drops from the past coming out
of the painful wounds through the paths of eyes
on the dry land of ones inner self
fastening it within their arms saying
memories are the trust value of history
and future treasure deposits.

Thursday, 13 March 2014

जीवन अस्तित्व

कितना कुछ घटित होता जीवन में
कितना कुछ
कितना कुछ खोता जाता आदमी
कितना कुछ
और जो कुछ वह पाता है
उसे भी तो खोता चला जाता है
समय इसी तरह गुजर जाता
बहेलिए की आखेटघाती तीर की गति जैसा
समय, कभी ठहरता नहीं लक्ष्य-तक पहुंचने से पहले...

समय किसी सिंहासन के आदेश पर सिर नहीं झुकाता
समय, असमय होता किसी के भी जीवन में
जो धुन्ध की तरह छा जाता
फिर क्षणों में आंखों से ओझल हो जाता
संचित प्रेम-सुख के छिन जाने पर
समय प्रभात-ओसकण बनकर
अपनी करुणा बरसाता...
अतृप्त प्यास, सुख, दुःख का
अहसास लिए
समय सदा ही वर्तमान को खोता

अतीत को पीठ पर लादे हमेशा क्या कोई चल पाता?
भविष्य की आशाएं ढोता
आदमी कितना कुछ खोता...

आशाओं के छिन्न-भिन्न होने पर
किंकर्तव्यविमूढ़ आंखें भिगोता, पछताता
विस्मृतियों के जंगल में चक्कर लगता....

सचमुच आदमी इतिहास के टूटे हुए आइने में
स्मृतियों की खंडित छाया के अतिरिक्त
भला क्या देख पाता है!



Existence of Life
How so often happens in life
How so much is lost
One plays the game of gains and losses
in the course of life and the time moves on
Does it ever slacken its speed?
Like a hunter's arrow
Does it ever stop
before reaching the target?
Time never bows its head before these ones
As misfortune or distress erupts all life
Like a dense fog the mystic moments
Do pass after some time...

When stored up joys of love are fobbed off
Time's touching tenderness rains
like the dawn's dew drops fall on petals
The unquenched thirst
with experiences of joys and sorrows,
Time always loses the present.
Is it possible for any one to go on and on

With the load
of past events forever..?
How so much is lost in life
when one's fancies and fantasies are shattered
The eyes shed tears and wink much

Man wanders alone in forests of forgetfulness
Truly, he observes what else except
the distored images of memories in
the broken mirror of lifes past....!

Tuesday, 11 March 2014

यादें

तुम्हें याद करता हूं
जब सतरंगी आकाश अपनी बाहों में
बसन्त को खुशी भर लेता है
नये-नये फूलों के कम्पन में
प्रेमाकुल संगीत फूट पड़ता है

तुम्हें याद करता हूं
पावस के बादलों की घुमड़ने पर
शरद की तुषार-धवल चिंतवन पर
मन की उजास भर

तुम्हें याद करता हूं
शिरीष के पत्ते जब लिखते हैं
थिरकती हुई हवा के पंखों पर गोपन कथा
नीरव गंभीर काली रात की बाहों में
छुपा लेती निस्तब्धता
हाहाकार करती शताब्दी की
कातर अन्तर्व्यथा

तुम्हें याद करता हूं
जब कुहासे के बीच चमकता है सूरज
चलता नये समय का रथ
हरे भरे जीवन-अस्तित्व के बीच
सहेजता जिजीविषा के सूने गन्तव्य-पथ
गहन निराशा और त्रासद अंधकार में
तुम्हें याद करता हूं।


Reminiscences

I remember you-
when the seven-hued sky finds
In its arms the Spring's joyfulness
And lover's love song vibrates in the quivering fresh flowers.

I remember you-
When the rain clouds
darken the day's sky
and the autumn looks snow white
when the spirit
is enlightend with twilight

I remember you-
when the ancient
acacia-leaves write about
their secret intentions
on the wings of air dancing
with expressive gestures
And the soundless deep black night
Spreads its arms to conceal its silence
like the century's restless inner wailing

I remember you-
When the bright sun shines over in the mist
The chariot of new time moves on amidst
The green fruitful span of life's existence
And provides us strength on the solitary path of
longing for living during extreme frustration
in darkness agonising any next moment
I remember you.





Thursday, 6 March 2014

यादें

यादें फूल की पंखुड़ियों से भी अधिक कोमल
हृदय में फूलती, सुगंध बिखरेती
और समय के अंधेरे में दम तोड़ देती
बस अवशिष्ट धूल बन रह जाती
जीवन पर्यंत मस्तिष्क के आर पार
चक्कर लगाती
आह! पीड़ा पहुंचातीं




Memories

Memories, far more tender than flower petals
Blossoming in the heart spreading fragrances
And in the dark of time withering away,
Turning into dust
roaming across the mind for the whole life
Oh! what a disgust.

Wednesday, 5 March 2014

Swadesh Bharati: प्रेमाभास

Swadesh Bharati: प्रेमाभास: मेरी उदासी का रहस्य यह नहीं कि बसन्त ने मुझे पतझर के हाथों सौंप दिया मेरी उदासी का रहस्य यह भी नहीं कि प्रेमीले सपनों ने मेरे विश्वासों ...

Tuesday, 4 March 2014

प्रेमाभास

मेरी उदासी का रहस्य यह नहीं
कि बसन्त ने मुझे
पतझर के हाथों सौंप दिया
मेरी उदासी का रहस्य यह भी नहीं कि प्रेमीले सपनों ने मेरे विश्वासों को
खंडित-प्रत्यंचा दी
टूट कर जुड़ने
और जुड़कर टूटने के अनवरत क्रम में
हार गया दांव पर लगाए गए सभी सपने

मेरी उदासी का रहस्य यह भी नहीं
कि हताशा के अंधेरे में चलते हुए
थक गए हैं पांव अथवा छूट गये
वे सभी संदर्भ जो बहुत बहुत अपने थे।

अपनी उदासी के बारे में
जब भी सोचता हूं तो यही पाता हूं
आखिर मेरी उदासी का रहस्य क्या है?

गोपालपुर
24 दिसम्बर, 1971





Love Expectation

My melancholy is not due to the fact
that the spring has
handed me over to the autumn.

Nor it's due to the failure of
my sweet dreams that gave my belief
a broken bow-string
And in the ever-lasting order of
union or divison of all sweet dreams
are staked and lost in the wager

My despondency is not due to
the tired feet treading the dark path of frustration
due to the loss of my own dearest contexts
Once they all belonged very much to me
whenever I muse over the cause of my melancholy
I am always caught up by these reflections
I know not the reasons of my despondency
Wha's the secret of all this after all?

Gopalpur,
24th December, 1971

Sunday, 16 February 2014

राष्ट्रवाद और राष्ट्रीयता की परिभाषा

किसी भी स्वाधीन, सार्वभौम राष्ट्र के चार मूलभूत आधार होते हैं।
1.       संविधान के प्रति पूर्ण निष्ठा
2.       राष्ट्रगान के प्रति आस्था
3.       राष्ट्रध्वज के प्रति समर्पण

4.       राष्ट्रभाषा के प्रति प्रतिबद्धता
इन चारों मूलभूत राष्ट्रीय सिद्धांतों से ईमानदारी, आस्था, निष्ठा और पूर्ण समर्पण के साथ जो देश का नागरिक अपने को जोड़ता है वही राष्ट्रीयता और राष्ट्रवाद से जुड़ता है।
भारत की सभी राजनैतिक पार्टियों, दलों, मंचों से जुड़े नेताओं तथा आम आदमी को इन चारों आधारभूत सिद्धांतों से जुड़ना जरूरी है। धर्म, भाषा, प्रांतीयता, क्षेत्रीयता, वर्ण, जाति इत्यादि की संकीर्ण मनोवृत्ति से ऊपर उठकर राष्ट्रीय अस्मिता, स्वाधीनता, राष्ट्र गौरव, एकता और अखंडता के लिए राष्ट्रीय धारा से जुड़ने की आवश्यकता है जो आज के समय की मांग है। आजादी के 65 वर्षों बाद भी देश को चौथा मूलभूत आधार यानी राष्ट्रभाषा हिन्दी नहीं मिली। हमारी राष्ट्रभाषा अंग्रेजी नहीं हो सकती जो संविधान के आठवें अनुच्छेद में शामिल राष्ट्रीय भाषा नहीं है। कोई अन्य भारतीय भाषा भी यह स्थान लेने में सक्षम नहीं है। हिन्दी देश के 80 करोड़ लोगों की भाषा है। और वहीं राष्ट्रीय एकता की कड़ी है। वही स्वधीनता की भाषा रही है। राष्ट्रसंघ की भाषा हिन्दी ही बनने के योग्य है। हिन्दी लगभग 194 देशों में पढ़ाई जाती है। 128 विश्व विद्यालयों में हिन्दी का अध्ययन-अध्यापन होता है। कई देशों में उनकी भाषा के साथ हिन्दी भी उस देश की राष्ट्रभाषा घोषित है।
राष्ट्रसंघ की भाषा बनाने के लिए लगभग 150 करोड़ रुपए की राशि राष्ट्रसंघ (यूएनओ) को देना जरूरी है।

सत्ता की कुर्सी पर बैठे हुए तथा राजनैतिक दंगल के सर्जक, दर्शक राजनेतागण राष्ट्रभाषा के प्रचार-प्रसार के लिए अपने चुनाव घोषणा पत्रों में यथोचित प्रावधान रखें तथा हिन्दी को राष्ट्रभाषा के रूप में मान्यता देने तथा राष्ट्रसंघ की भाषा बनाने के लिए कारगर कार्रवाई करें। इसके लिए जो पार्टी या दल सबसे आगे आए उसे ही भारतीय लोकतंत्र की राष्ट्रीय पार्टी के रूप में मान्यता प्रदान की जाए तथा उसे ही देश की बागडोर थामने के लिए जनता अपना समर्थन दें। ऐसी ही पार्टी भ्रष्टाचार से लड़ने, राष्ट्र के सर्वांगीण विकास तथा भाषा, संस्कृति को आगे बढ़ाने में सक्षम होगी।

-        - स्वदेश भारती
साहित्यकार एवं अध्यक्ष
राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी
सम्पादक - रूपाम्बरा 


Sunday, 2 February 2014

दो चेहरे

मेरे जुड़वां प्राण
उन्हें कैसे पालूं!
एक है भीतर जैसा
बाहर नहीं दिखता वैसा
दूसरा है बाहर जैसा
भीतर नहीं वैसा
विचित्र है उनकी समरसता
ऐसे में उन्हें कैसे संभालूं
मेरे जुड़वां प्राण
उन्हें कैसे पालूं।

पहले को चाहिए सुनहरी मंजिलें
और दूसरे को चाहिए अस्तित्व समुद्र-अन्तर्मन
जिसके किनारे बैठे
देखा करें उद्वेलित लहरों का विसर्जन!

पहले को चाहिए प्रेम का संवरण
और दूसरे को प्रेम की परिभाषा
नीली घाटियां, रजत रश्मियों वाले पर्वत
बसन्त में खिले फूलों की हंसी
आदिम आकांक्षाएं-
कि कितना आकाश
बांहों में भर लूं
मेरे जुड़वां प्राण
उन्हें कैसे पालूं।

पहला अपनी बात नहीं कहता
सोचता अंदर-ही-अंदर
बनाता बहुत सारे मनसूबों के रेत -घर।
और दूसरा सोचता फिर उसी
सोच के अर्थ को नकारता
पहला असहाय हो जाने पर आंहें नहीं भरता, न ही कराहता
एक सपने से टूटकर दूसरे से जुड़ने का क्रम संजोता
पर दूसरा बिलखकर अपनी ही बांहों में
माथा छुपा लेता
एक भयानक मौन-चीख के बीच
नई आशाएं सर्जित करता कि प्राणों के कैन्वस पर
कितने रंग सजा लूं
मेरे जुड़वां प्राण
उन्हें कैसे पालूं।

- स्वदेश भारती 
(भारतीय कविताएं 1987-88 (ज्ञानुपीठ प्रकाशन) से साभार, उद्धृत)

Friday, 31 January 2014

राजनीति में भाषा का भ्रष्टाचार

21वीं शदाब्दी सांस्कृतिक तथा सभ्य लोगों के लिए है।
राजनीतिज्ञ भूखे भेड़िये की तरह अपने वोट पर वार करने के लिए अत्यधिक आक्रामक हो गए हैं। और मनुष्यों की भाषा भूल गए हैं। क्या उनके जीवन कर्म का यही आधार है?
आजादी के साथ स्वार्थ के लिए उत्श्रृंखल भाषा का प्रयोग करना शब्द- भ्रष्टाचार है।

Friday, 24 January 2014

To, Honorable Political Leaders of the country and Media (माननीय देश के नेतागण एवं मीडिया)

It seems strange that certain political parties and biased Media are ignoring the provisions of Indian constitution which provides a Parliamentary System of Democracy and not Presidential Form of Democracy

Accordingly after the parliamentary elections only elected MP's are authorized  to choose their leader by majority vote who becomes Leader of the House, Prime Minister and forms his cabinet on confirmation of the president, oath is taken and Govt. is formed.
Prior to Parliamentary elections how a PM is nominated by certain political Parties and impose that person PM condidate  on the people and imposing such person on the common people and enfluencing the electoral process against the spiritit of the constitution.

Is the country moving towards Presidential Form of Democracy. Then the constitution should be changed first by the Parliament.


यह देखकर आश्चर्यजनक लगता है कि कतिपय राजनैतिक दल और पक्षधर मीडिया देश के संविधान के विरुद्ध काम कर रहे हैं। जो संसदीय चुनाव होने के पूर्व प्रधानमंत्री का मनोनयन कर प्रचार प्रसार कर रहे हैं। हमारे संविधान में संसदीय लोकतंत्र की सीमा निर्धारित की गई है जिसके अंतर्गत संसदीय चुनाव के पश्चात बहुमत प्राप्त पार्टी के संसद सदस्य अपने नेता का चुनाव करते हैं जो संसद का नेता होता है  और प्रधानमंत्री के रूप में अपने मंत्रिमंडल  के साथ राष्ट्रपति द्वारा शपथ लेता है। कई दूसरे देशों में चुनाव के पूर्व राष्ट्रपति का मनोनयन किया जाता है जहां का संविधान हमारे संविधान से अलग् है।

क्या हमारा देश उसी रास्ते पर चल पड़ा है। यदि ऐसा है तो पहले संविधान को बदलें।

Friday, 17 January 2014

Swadesh Bharati: Recognition of Hindi At UNO

Swadesh Bharati: Recognition of Hindi At UNO: Recognition of Hindi At UNO An Appeal NGO’s Working for development of Hindi Worldwide, Govt. PUCs State Govt.s Corporations, Bank...

Recognition of Hindi At UNO

Recognition of Hindi At UNO
An Appeal


NGO’s Working for development of Hindi Worldwide, Govt. PUCs State Govt.s Corporations, Banks, Hindi Officials, Administrators, Business Houses, Trusts, NRI 
Senior Citizens and Common People. General Donors.

Dear sir,

Best Wishes for Happy New Year
                                    and greetings on Makar Sankranti, Pongal 

I on behalf of National Hindi Academy Kolkata Most humbly draw your kind attention regarding acceptance and recognition of Hindi as one of the world Languages of the world at United Nations.

During Last 65 years of Indian Independance  at several occassions and at different forums of All India Official Languages Conferences, Seminars, International Conference on Language and Literature, World Hindi Conferences. We have passed several unanimous resolutions to accept Vishwa Bhasha. Hindi as a Language of UNO. But nothing positive has been done as yet. The problem of subscribing 100 crore to the United Nations for this purpose was also not done by Govt. of India.

National Hindi Academy (Rashtriya Hindi Academy) has decided in national honour and interest to collect this amount of Rs. 100 crores on its own and hand over to UNO through Govt. for recognition of Hindi in the United Nations.

To attain this national objective Academy has instituted a special fund - Vishwa Bhasha Hindi Nidhi in which donors may send their donation’s liberally and generously through chques, D/D s fg. Vishwa Bhasha Hindi Nidhi  a  minimum amount to maximum amount to complete  Rs. 100 crores to give it to the United Nations through the Govt, safeguading National interest and honour by recognition of official Language Hindi in UNO and make Hindi as Vishwa Bhasha fulfilling the aspirations of 125 crore people in India and abroad. 

Your generous donation will be a great help and co-operation in the National Interest and honour to our geat country.

The donations may please be sent to -

The secretary
Rastriya Hindi Academy
A/c. Vishwa Bhasha Hindi Nidhi,
3, Gibson Lane,
Kolkata - 700 069
Telefax +91 -033-22135102
Email : editor@rashtrabhasha.com

With Greetings

Sincerely your’s

for Rashtriya Hindi Academy

Wednesday, 15 January 2014

राष्ट्रसंघ द्वारा हिन्दी की मान्यता हेतु सहयोग की अपेक्षाएं- एक अपील!

भारत तथा विदेशों में कार्यरत हिन्दी सेवी संस्थाएं/सरकारी उपक्रमों/संस्थानों के उच्च हिन्दी अधिकारी, प्रशासक, हिन्दी सेवी, हिन्दी प्रचारक,  मीडिया, हिन्दी साहित्य प्रेमी-पाठकगण,        उदार व्यवसायीवृंद, वरिष्ठ नागरिक एवं साधारण आमजनता

मान्यवर,

        मकर संक्रांति के अवसर पर
हार्दिक शुभकामनाएं एवं अभिनन्दन

आप सभी का ध्यान वैश्विक मंच पर हिन्दी की दशा-दिशा की ओर आकर्षित कराना चाहता हूं।
आजादी के 65 साल के बाद भी अभी तक हमारी राजभाषा को राष्ट्रभाषा के रूप में राष्ट्रसंघ (यूएनओ) में मान्यता नहीं मिली। मान्यता प्रदान करने के विषय में विविध मंचों, राजभाषा सम्मेलनों, विश्व हिन्दी सम्मेलनों, ससद के कई सत्रों द्वारा बहुत सारे प्रस्तावों पर चर्चा हुई, राजनेताओं ने आश्वासन भी दिए। परन्तु अभी तक भारत सरकार द्वारा कारगर कार्रवाई नहीं हो पाई। 

राष्ट्रसंघ को जब तक सौ करोड़ रुपए हिन्दी की मान्यता के लिए अनुदान  नहीं मिल जाते, तब तक मान्यता नहीं मिल सकती।  

राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी आप सभी के सहयोग से इस काम को सफल बनाने के लिए पहल करना चाहती है। राष्ट्रीय महत्व के इस कार्य को सफल बनाने के लिए राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी ने विश्व हिन्दी भाषा निधि की स्थापना की है जिसमें आप अपने स्तर से अधिक से अधिक आर्थिक सहायता प्रदान करने की कृपा करें। जिससे 2014 में हम विश्व हिन्दी निधि के खाते में जमा हुई राशि को सरकार के माध्यम से राष्ट्रसंघ को दे सकें और हिन्दी को विश्वभाषा के रूप में राष्ट्रसंघ की भाषा स्वीकृत करा सकें। यह राष्ट्र हित में आपका प्रशंसनीय योगदान होगा।

आशा है, राष्ट्रीय अस्मिता, प्रतिष्ठा, भाषा- गौरव और राष्ट्रीयता हेतु आपका सहयोग प्राप्त होगा।

इस राष्ट्रीय कार्य हेतु कृपया अपना अनुदान सहायता राशि विश्वभाषा हिन्दी निधि के नाम राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, केन्द्रीय प्रशासनिक कार्यालय को सीधे भेजें। जिसका पता है -

सचिव,
राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी
3 जिब्सन लेन, 
कोलकाता - 700 069, 
टेलीफैक्सः 91-33-22135102, 
 इमेल - editor@rashtrabhasha.com

आपकी सहायता राशि प्राप्त होते ही पक्की रसीद सधन्यवाद आभार सहित भेज दी जाएगी और कृत कार्रवाई की सूचना आदि से अवगत कराया जाएगा। कार्य में सफलता मिलते ही विश्वभाषा निधि खाते की आडिट रिपोर्ट भी आपकी सेवा में भेज दी जाएगी।

-निदेशक
कृते राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी

(स्वदेश भारती)
 अध्यक्ष