Tuesday, 30 August 2011

अन्ना हजारे और आजादी का दूसरा आंदोलन

भ्रष्टाचार के विरुद्ध अन्ना हजारे का जन लोकपाल बिल-आंदोलन स्थगित सफलता के साथ हो गया। आजादी के 64 वर्षों में यह पहली बार इतना बड़ा आंदोलन हुआ। यह दूसरी आजादी का जन आंदोलन था। भारत के शहरों, कस्बों, गांवों में लाखों लोगों, विशेष कर युवा वर्ग का समर्थन इस बात का सबूत है कि हम अपनी आजादी की रक्षा करने में सक्षम हैं। भ्रष्ट नेताओं के लोभ और भ्रष्टाचार से आमजन को बचाया जा सकता है। मैं युवा शक्ति के जोश और जन लोकपाल के समर्थन के लिए आभार प्रकट करता हूं। तूभी अन्ना, मैं भी अन्ना, भारत माता की जय, बन्दे मातरम, इन्किलाब-जिन्दाबाद के नारों से झूमता हुआ हुजूम बच्चे, युवक, बूढ़े, खेतिहर किसान, मजदूर हर तबके के भारतवासी लाखों की संख्या में पना समर्थन देने आगे आए इससे हमारा जनतंत्र मजबूत हुआ है, परन्तु राजनेताओं पर जैसे गाज गिर गई। वे हर तरह से इस आंदोलन के विरोध में दांवपेंच लगा रहे हैं। अन्ना समर्थकों, सहकर्मियों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर आघात किया जा रहा है। कोई भी भारतीय नागरिक संसद के बाहर अपनी बात जनता के सामने रख सकताहै। यह संविधान के विरुद्ध नहीं। संसद  में यदि कोई माननीय संसद सदस्य के विरुद्ध अनर्गल बातें करता है। तो वह संसद विशेषाधिकार के अन्तरग्त आता है। परन्तु संसद के बाहर जनता अपने जनप्रतिनिधियं के गलत तौर तरीकों पर कटु वचन कहता है तो उसे विशेषाधिकार के दायरे में लाना उचित नहीं लगता। परन्तु गांधीवादी अन्ना हजारे और उनकी टीम के विरुद्ध कोर्ट सन्निपात मानसिक रोगी अनर्गल बातें करता, उनका फंसाना स्वस्थ दी जनतंत्र के लिए खतरनाक संकेत है।
अभी तो अन्नाजी अस्पताल से भी बाहर नहीं निकले। हम जुट गए आरोप-प्रत्यारोपों के जंगल में। इसी दिशा में बातें बढ़ी तो हम मूल मुद्दे से भटक जायेंगे! आपसी धींगा मुश्ती में उलझ कर भ्रष्टाचार हटाने की बात गौण कर बैठेंगे। व्यक्तिगत मान-अपमान को पीछे रख राष्ट्रीय सम्मान पर जोर देना समय की मांग है।

Thursday, 25 August 2011

तुम्हारा चेहरा

तुम्हारा चेहरा आंखों के आईने में जब भी झलकता है
अतीत मेरी आंखों के कलश से
बूंद बूंद ढलकता है
ये बूंदे वर्षा की बूंदों जैसी नहीं होती
कि बरसीं और
ताल लैया नदी-दुकूल बाढ़ बन गए
या नगर की सड़कों पर पानी भर गया
ट्राफिक जाम में
सड़कों के रास्ते की बदल गए
ये बूंदे उस वर्षा की बूंदों की तरह नहीं
जिसमें किसान प्रसन्न होता है
और मछुआरा अपना जाल लेकर
नदी की ओर चल पड़ता है
ये बूंदें उस वर्षा की बूंदों की तरह भी नहीं
जो सैलानी बादलों की आंखों से गिरती
धरती की हरीतिमा के आनन्द से
आत्म-विभोर कर जाती हैं
ये बूंदे अतीत की बूंदे है
स्मृतियों के कसकते घावों से निकल कर
आंखों की राह बरसती है
अन्तर की सूखी जमीन पर आहत
आस्था को अपनी ममत्वा भरी बाहों में बांधकर
कहती है - स्मृतियां ही इतिहास
और भविष्य की धरोहर होती हैं।

Your Face

Whenever your face reflects
In the mirror of my eyes
The past flows drop by drop incessantly
through them
But those are unlike the raindrops
which when falling constantly
cause floods in the waterbodies
pools and ponds, riverbanks and collected on
the city roads
If improperly drained, change there contours of ways
Also they are unlike the ones
which please the cultivators and farmers
to strir up a fisherman enough sailing for the river
armed with his nets and angles to cast in the waters
In the hope of getting bountiful catches
They aren't the ones which raining from
the wandering clouds eyes make the earth
so happy with the greenary all around
that she forgets the self in absolute profoundity of bliss

These are the drops from the past coming out
of the painful wounds through the paths of eyes
On the dryland of ones innrself
fastening it within their arms saying-
Memories are the trus-value of history
and future-treasure deposits.

Tuesday, 23 August 2011

Jan Lokpal – Letter to PM-India



Dated 24.8.11

Honourable Prime Minister,
 Today is the 9th day of Anna Fast but your Govt. and Congress are playing dubious games to undermine Jan Lokpal To undoing Gandhian Anna Hazare’s movement which is not a Congress culture.

1)      Please remember the days of Gandhi since 1921 who built the congress under great leaders like Sardar Patel, Pt. Jwaharlal Nehru, Subhash Chandra Bose, Abul Kalam Aazad, Sarojni Naidu, Rajaji, Moti Lal Nehru, Bidhan Chandra Roy and so many dedicated leaders who sacrificed for freedom of the Country. Then after Congress with Gandhian way of life has been the mute on looker on peoples problems corruption, nepotism, Black Money Transfer which made the middle class poorer and  rich class more richer . You are fully aware of it but helpless and now the whole country has awakened under Anna Hazare gainst Corruption . Why the Govt. is helpless under your leadership?

2)      Honourable sir, your unbearable silence and inactiveness to solve the problems is eroding the great name of India and Congress. Sir, my family has been a Congress family and my Grand Uncle Pt. Muniswar Dutt Upadhyay was the UP. Congress Chief during 50’s and worked with Jawahar Lal Nehru. He was Incharge of his Foolpur Parliamentary Constituency. My whole Family is requesting you to do something to save the Congress and the country

3)      Sir, There are thousands of people specially the young generation supporting Anna and Jan Lokpal. Will Congress confront with them in the next Lok Sabha Election if nothing is done.

4)      Honourable sir, you are under indue influence of ignorant adviser who have no Gandhian Culture and the National pride to cope with the present situation.

5)      Sir, strangely the country is passing through the worst time and you are just an expectator looking and undermining the anger of the people. Why its so degrading in the eyes of the world.

6)      You have on wrong advise published in the News papers for the New Suggetion for Lok Pal and time limit has been given as the 4th September 2011 so that the Jan Lok Pal Bill may not pass by 30th Aug. by the Parliament.

7)      The National and International support which Anna is getting can not be ignored by a most honest and intelligent PM. Like you. Then why so weekness and arrogance?

8)      Lokpal has been introduced in Parliament during 1968 and the Country waited for more  than 40 years of time and rich people has been richer and poor, the middle Class the most unfortunate becoming poorer and poorer due to corruption in education, Health, Business and Other Areas. The Jan lokpal Bill is the hope of the poor people of India.

9)      Sir, if you have conviction, faith and pure design, Jan Lokpal could be easily passed by 30th August or latest 8th Septemeber 2011 during Loksabha Sessions or Call an emergency Joint Session of Parliament to pass the Jan Lokpal Bill.

10)  Kindly save the country, the Congress, Gandhian Culture and National Honour by accepting the peoples verdict. Please realize the reality of the situation if parliament fails to pass the Bill why not national referandom on Jan Lokpal is to be arranged.

Sir, I most Sincerely hope that you will surely do something positive and take urgent necessary steps to save the life of Anna Hazare and the peoples wishes.

   With deep respect and honour

Sincerely yours


Dr. Swadesh Bharati
Chairman
Rashtriya Hindi Academy
22B, Pratapaditya Road,
Kolkata – 700 026

To  Dr. Manmohan Singh ji
Hon’ble Prime Ministers of India,
Prime Minister House
7, Race Course Marg,
New Delhi – 110 011

Thursday, 18 August 2011

तुम्हें याद करूंगा

तुम्हें याद करूंगा
उम्र के कगार पर बैठ
दोपहरके सन्नाटे में,
सबेरे और शाम की सतरंगी किरणों में
तुम्हें याद करूंगा

जब मेरे हाथ पांव अशक्त होकर
पथ के दावेदार नहीं रहेंगे
रास्तों में घाटी पर उतरेगी शाम की पकी धूप
जब सबेरे और शाम की रोशनी मेरे लिए एक जैसी होगी
आंखें देख नहीं पायेंगी तुम्हारा हरी फसल-रूप
तुम्हें याद करूंगा

जिस तरह नदी के बहाव के नीचे
बहुत सारे अन्तर-प्रश्न छिपे होते हैं
बालू की सतह के नीचे पानी
और पत्थर के दिल में करूणा श्रोत फूटते हैं
मेरे दिल में
यादों का बसन्त फूलेगा
बार-बार लिखूंगा नई पंत्तियों के मस्तक पर
तुम्हें याद करता रहूंगा



I Will Remember You
Sitting on the banks of the river of life
brooding on each day that has gone by
In the still of mid-day in the midst of myriad hues
of the sun rays
morn and eve, every day, I'll
remember you, No. doubt.

When my main limbs shall
Fail to tread on the path of life.
When the light of fading evening
Shall descend on the forests and path ways
When the light of morning
and evening shall appear just
the same for me
and my eves shall fail to see
the splendour of beauty of your greenary
I shall remember you, no doubt

As beneath the undercurrents of a river
Many inner questions remain concealed
As from under the sandy surface water gushes forth
And from a stony heart
Compassion springs out
So will the spring of memories shall bloom
in my heart reflected in silvery dew-drops
and repeatedly then I shall write on the surface of
new sprouting leaves
And go on and on remembering you, no doubt.

Wednesday, 17 August 2011

Reminiscences

I remember you
when the seven-hued sky finds
In its arms the Spring's joyfulness
And lover's love song vibrates in the quivering fresh flowers.

I remember you-
When the rain clouds
darken the day's sky
and the autumn looks show white
when the spirit
is enlightend with twilight

I remember you-
When the ancient
acacia-leaves write about
their secret intentions
on the wings of air dancing
with expressive gestures
And the soundless deep black night
Spreads its arms to conceal its silence
like the century's restless inner wailings

I remember you-
When the bright sun shines over in the mist,
The chariot of new time moves on amidst
The green fruitful span of life's existence
And provides us strength on the solitary path of
longing for living during extreme frustration
in darkness agonising any next moment.
I remember you.

यादें

तुम्हें याद करता हूं
जब सतरंगी आकाश अपनी बाहों में
बसन्त की खुशी भर लेता है
नये-नये फूलों के कम्पन में
प्रेमाकुल संगीत फूट पड़ता है

तुम्हें याद करता हूं।
पावस के बादलों की घुमड़न पर
शरद की तुषार-धवल चितवन पर
मन की उजास भर

तुम्हें याद करता हूं।
शिरीष के पत्ते जब लिखते हैं
थिरकती हुई हवा के पंखों पर गोपन कथा
नीरव गंभीर काली रात की बाहों में
छुपा लेती निस्तब्धता
हाहाकार करती शताब्दी की
कातर अन्तर्व्यथा

तुम्हें याद करता हूं।
जब कुहासे के बीच चमकता है सूरज
चलता नये समय का रथ
हरे भरे जीवन-अस्तित्व के बीच
सहेजता जिजीविषा के सूने गन्तव्य पथ
गहन निराशा और त्रासद अंधकार में
तुम्हें याद करता हूं।

Tuesday, 16 August 2011

गांधीवादी अन्ना हजारे का भ्रष्टाचार के विरुद्ध आमरण अनशन

बच्चों के स्कूलों में भर्ती, नौकरी पाने, व्यवसाय करने, पासपोर्ट बनाने,
प्रशासन के चपरासी, अधिकारी
से कोई काम कराने के लिए घूस देना पड़ता है।
शहरों के फुटपाथों पर व्यवसाय करने वालों से
पुलिस की जेब में लाखों रुपए जाते हैं।
पानी, बिजली, स्वास्थ्य सेवाओं में बिना
घूस के कोई काम नहीं होता।
भ्रष्टाचार का राक्षस चारों ओर से
आमजन का रक्त चूस रहा है,
10 करोड़ पार्टी को दो तो एमपी बन जाओ,
50 लाख में एम एलए एवं
एमएलसी के लिए सीटें मिलती है।
वोट खोर महावलियों के अत्याचार से पीड़ित
जनता असहाय होकर वोट देती है और
जो संसद, विधान सभाओं में जाते हैं
मनमाने ढंग से जी भरकर जन-शोषण करते हैं।

जनता, किसान, मजदूर अपनी मेहनत से
पैदावार बढ़ाते हैं। सरकार औने पौने दाम
पर अनाज खरीदती। गोदामों की
छतों से पानी रिस कर लाखों टन अनाज
बर्बाद होता, लाखों टन अनाज
खुले आकाश के नीचे पड़ा रहता
धूप, वर्षा, तूफान में सड़ता।
लाखों लोग भूखसे तड़पते रहते हैं।
अपने बच्चे बेच कर पेट भरते हैं
असहाय होकर आत्म हत्याएं करते हैं
सरकार मूकदर्शक बनी अपनी सफलताओं
के झूठे किस्से गढ़ती, संसद, विधानसभाओं में
गलत बयानबाजी करती, सत्ता पर काबिज है।
हमारे सामने खड़ा है भ्रष्टाचार का दैत्य विकराल
अन्ना हजारे के आह्वान पर आजादी की दूसरी लड़ाई में
मै भी अन्ना के साथ चल रहा हाथ में लिए मशाल।

15 अगस्त, 2011-दूसरी लड़ाई

64 वर्ष हो गए आजादी-दिवस मनाते,
हर पन्द्रह अगस्त को करते तिरंगे का अभिवादन
जय हिन्द, जय भारत, इंक्लाब के नारे लगाते
64 वर्ष हो गए। लाल किले से देश के नाम
देश के प्रधान मंत्रियों के सुनते संबोधन
खुशियां मनाते, करते विविध आयोजन। 
64 वर्ष हो गए ग्यारह पंचवर्षीय योजनाओं से करते
गांव, शहर के विकास, गरीबी का उन्मूलन
किन्तु विकास के नाम पर छलावा अनियोजन
64 वर्ष हो गए आजादी से भ्रष्टाचार के
शक्तिवान दानवी भ्रष्टाचारी प्रशासन
जातियों, धर्मो, वर्णों में बांटताओं का रावण
64 वर्ष हुए जनता के चुने हुए प्रतिनिधि
स्वच्छन्द, लोभलाभ के लिए करते जन-शोषण
संसद, विधान सभाओं में होता मुंड फोड़न
64 वर्ष हो गए गांव गरीबी बेरोजगारी झेलते
अशिक्षा, रोग, भुखमरी से आक्रांत जन-जीवन
हमारे आगे पीछे घूमते धृतराष्ट्र दुःशासन
64 वर्ष हो ए टूटती रही देश की अखंडता,
बढ़ती रही अराजकता, वोटखोरी के नए नए दुर्योधन
लाखों खाली पेट फुटपाथ पर सोते बिला भोजन
64 वर्ष हुए जन मानस महंगाई से त्रस्त होता रहा
भ्रष्टाचार की आग में जलते देश के आमजन
हमारी ही आजादी हमारे लिए बन गई गुलामी का कफन ।

Saturday, 13 August 2011

अंधेरे के बीच

अंधेरे के बीच मैं आया इस धरती पर

 एक औरत बहुत खुश थी
फिर धरती पर आकाश की ओर बढ़ने लगा
आते-जाते मौसम के बीच
दुधिया पहाड़ों के सौंदर्य को आंखों में उतारा
अग्निवाही अमलतास के फूलों से प्यार किया
और मैं बहुत खुश था, खिलता सौंदर्य देख
फिर बसंत आया और चला गया निर्विकार
पत्तों ने पीलापन ओढ़ लिया
सबेरे ओसकणों के भार से इतराती
फूलों की पंखुड़ियां झड़ने लगीं हवा में
और एक जंगल से दूसरे के बीच गुजरते हुए बार-बार
यही महसूस किया कि
जिस अंधेरे से आया था
वहीं अंधेरा छाया है धरती के आर पार।

In the Midst of Darkness
In the midst of darkness
I came to this earth
And a woman was very glad

And then I continued growing on the earth towards
the sky
I captured the beauty of
milky mountains amidst changing seasons
I loved the blood red flowers of
Amaltas (Cassia fistua) very happily the sweetness
of the blooming beauty around charmed me immensely
The spring set in and left passionless unnoticed

The leaves covered themselves with paleness
The petals of flowers proud of their dewdrops
in the moring started falling swept by the airs afterword
passing through one jungle to another

I felt, time and again, that the darkness so profound
that surrounded at the time of birth
Has set in again across and over the earth all around