Sunday, 31 December 2017

राजनीति का कमाल

राजनीति का यह कमाल है
किसी के लिए यह दुनिया हरी
किसी के लिए वासन्ती नारंगी
किसी के लिए लाल है।
           -स्वदेश भारती

उत्तरायण
कोलकाता
1 जनवरी, 2018



सभी प्रियजनों, आत्मीयों, मित्रों, पाठकों, शुभचिन्तकों को 
नव वर्ष 2018 की हार्दिक शुभकामनाएं
नव वर्ष लाए आपके जीवन में नव हर्ष
नई खुशियां, उल्लास, नव उत्कर्ष
आप सुखी रहें और रहें स्वस्थ, सुरक्षित।

                                                                                            -स्वदेश भारती
उत्तरायण
कोलकाता
1 जनवरी, 2018

Friday, 29 December 2017

तीन तलाक

कानून से तीन तलाक बन्द हो जाएगा
लेकिन जिन्दगी के
खूबसूरत दिनों की यादों की कसक
दिल को जब कुरेदेगी तब
कानून निहायत छोटा हो जाएगा।

वैवाहिक सम्बन्धों की नाव मुहब्बत और
अटूट दोस्ती की पतवारों से चलती है।
कानून के दम पर नहीं और ना ही स्वार्थ की
सत्ता के अहले कदम पर।
                         -स्वदेश भारती

उत्तरायण
कोलकाता
30 दिसंबर, 2017


प्रेम-कई रूप
प्रेम की संकीर्णता से परे

सार्थक जीवन जीने के लिए
मैंने प्रेम के अर्थ को
कई-कई दृष्टियों से उकेरा
अलग किया मन बुद्धि से
प्रेम की संकीर्णता का मेरा तेरा
एकात्मकता के लिए
बहुत सारे यत्न किए
जब भी भग्न-प्रेम का छाया अंधेरा
एकाकी मौन-व्यथा के
विभिन्न आयाम जिए
पूरे सामर्थ्य और कर्म-निष्ठा के सहारे
रोका है आत्महन्ता अनर्थ को
व्यर्थ का संकट-बोध
हृदय कलश को आंसुओं से भरा
फटे दर्द को अपनत्त्व की सुई से सिया।

                   -स्वदेश भारती
18/1 कैम्पवेल रोड
बेंगलूर-48
17 नवम्बर, 2017

प्रेम जीवन को


सरस, सार्थक, सुन्दर, सौन्दर्य प्रिय बनाता है
किन्तु प्रेम-प्रवंचना,
विश्वासहीनता, झूठ, प्रपंच और
असहिष्णुता का आत्मघाती खेल
भरा-पूरा घर उजाड़ता है,
हृदय माटी में
हताशा, दुःख, दर्द के अंकुर उगाता है।

-स्वदेश भारती
18/1 कैम्पवेल रोड
बेंगलूर-48
18 नवम्बर, 2017

प्यार का अवदान

यह सुन्दर, प्यारी, मनोहारी धरती
सागर, नदियां, झरने, पर्वत-शिखर,
सफेद बादलों से ढकी नीली घाटियों
जंगलों, नयनाभिराम हृश्यावलियों
अनगिन रंग-विरंगे फूलों
विविध फलों से सुसज्जित
हरित भरित शस्य श्यामला
विस्तृत असीम अनन्त आकाश
सूर्य, चन्द्र, तारागण, नक्षत्र, ज्योतिर्मय
सृष्टि में विकीरित करते प्रकाश
देते मानव, चर अचर को नवजीवन
देते अस्तित्त्व-उपहार
प्रकृति का नैसर्गिक प्यार
किन्तु हम हैं कि
सिर्फ लेना जानते हैं, देना नहीं
जीवनपर्यन्त आकांक्षा का बुनते जाल
चाहते आनन्द सुख वैभव अपार
प्यार भरा संसार।

-स्वदेश भारती
18/1 कैम्पवेल रोड
बेंगलूर-48
20 नवम्बर, 2017

प्रेम-सत्य


प्रेम मन का सम्पूर्ण समर्पण है
आत्म-अनात्म-दर्पण है
प्रेम-प्रवंचना, अवहेलना
सर्जित करती हृदय में
संकुचित, निकृष्ट हीन भावना

-स्वदेश भारती
18/1 कैम्पवेल रोड
बेंगलूर-48
21 नवम्बर, 2017

प्रेम-सार

जो कुछ सृष्टि में
सुन्दर, सरस, मनोरम है
उस सब पर प्रेम का आविर्भाव है
जो समय प्रवाह के साथ मिलकर
जीवन पर्यन्त, जन्म से मृत्यु तक
हमें भीतर बाहर प्रवाहित करता
अविरल गतिमय धारा से जोड़ता
यही तो जीवन का अर्थ है
उससे विलग होना
हमारे अस्तित्त्व का अनर्थ है।

-स्वदेश भारती
18/1 कैम्पवेल रोड
बेंगलूर-48
20 नवम्बर, 2017


प्रेम आनन्द

जीवन में प्रेम आनन्द का दूसरा नाम है
प्रेम ही अनहद-नाद, अनन्त, अविराम है
प्रेम ही सचराचर सृष्टि का उदभव और विकास है
प्रेम ही ईश्वर, अल्ला, ईशा का दूसरा नाम है।

-स्वदेश भारती
18/1 कैम्पवेल रोड
बेंगलूर-48
20 नवम्बर, 2017





Wednesday, 27 December 2017

जन-हित-चिन्तन


धर्म, राजनीति और विज्ञान ने सारी दुनिया में नए रूपों में उभर कर मानवता के लिए भयानक भय, आतंक, संत्रास, जातिवाद, असहिष्णुता और आत्मनिर्वासन की स्थिति पैदा कर दिया है। यह बहुत चिन्ता का विषय है। 

आदमी अपनी अस्मिता, अपने वजूद को सुरक्षित रख पाने में असमर्थ है। इससे संस्कृति पर उल्टा प्रभाव पड़ रहा है। सभ्यता के मानदंड और मानवमूल्य नष्ट हो रहे हैं।

सभी राजनैतिक दलों, पार्टियों, शासनाध्यक्षों, मठाधीशों, पुजारियों, धर्माध्यक्षों, वैज्ञानिकों, बुद्धिजीवियों को आत्मचिन्तन करना है और मानवता के कल्याण के लिए अपनी सोच और कार्यप्रणाली को बदलना है। 


                                                                            -स्वदेश भारती

उत्तरायण
कोलकाता
28 दिसंबर 2017


Tuesday, 26 December 2017

जन-हित-चिन्तन


भारत में मीडिया जिस प्रकार राजनैतिक मानसिकता का शिकार हो गया है, उससे नई पीढ़ी गुमराह हो रही है। चैनलों में कुछ बेहतर शैक्षणिक, सांस्कृतिक, सामाजिक सामग्री प्रसारण हेतु उपलब्ध न हो पाने से अनावश्यक राजनीतिक वार्ता, चर्चा, तर्क-कुतर्क, खीझ और ऊब पैदा करता है। आज कल तो समाचार में विज्ञापनों को ठूंस-ठूंस कर दिखाया जा रहा है। समाचार पांच मिनट का तो विज्ञापन पन्द्रह मिनट का। समाचारी-विज्ञापन का यह दौर टीवी देखने वालों के लिए मन मस्तिष्क पर अनचाहा आरोपित मानसिक दंड है। लेकिन चैनलों के इस थोक विज्ञापनी व्यवसाय को भला कौन रोकेगा। आज तो हम जो भी चलताऊ चैनल खोलते हैं, विज्ञापनों की भरमार रहती है। हमारी तरह कई परिवारों में देखा गया है। वे समाचार सुनने के लिये जब भी जो भी चैनल खोलते हैं समाचार में विज्ञापन प्रसारित होते देखकर स्विच अन्य चैनलों पर घुमाते रहते है। सभी पर वही स्थिति देखकर झुंझला जाते हैं। टीवी ही बन्द कर देते हैं। इससे विज्ञापन दाताओं पर उनके प्रचार का उल्टा असर पड़ रहा है।

टीवी चैनलों को साहित्य, संगीत, कला, पुस्तकों, लेखन-प्रकाशन, सांस्कृतिक मूल्यों,  सर्जनात्मक वैचारिक और शैक्षणिक विषयों पर स्वस्थ चर्चा आलोचना करवाना चाहिए। यह आज के समय की मांग है।

                                                                                             -डॉ. स्वदेश भारती

उत्तरायण,
कोलकाता
27 दिसंबर, 2017



आज की राजनीति भारतीय सांस्कृतिक परंपराओं और मूल्यों को नजरअन्दाज कर अपने और अपनी पार्टी के लिए तोड़ जोड़, झूठ, फरेब, आत्मश्लाघा, मिथ्या, घमंड, छल-कपट, धर्म, जाति का सहारा लेकर समाज और व्यक्ति को तोड़ रही है। देश तथा नई पीढ़ी को अपने मिथ्या वादों से गुमराह कर रही है। सही विचारधारा और तथ्यों से समाज को मोड़ रही है। अपने वोट-बैंक से जोड़ रही है। प्रत्येक राजनीतिज्ञ को भारतीय संस्कृति, अध्यात्म और अपनी मिट्टी से जुड़ने की जरूरत है। नया भारत-निर्माण के लिए सत्ता परिवर्तन से अधिक सामाजिक बदलाव आवश्यक है।

                                                                                                -डॉ. स्वदेश भारती

उत्तरायण,
कोलकाता
27 दिसंबर, 2017

Monday, 25 December 2017

प्रज्ञा की फसल

प्रज्ञा-नदी, चिन्तन की फसल सींचती
किन्तु असमय की झंझा
फसल को सुखा देती
और घनघोर गर्जन, कड़कती दामिनी के बीच
जब मूसलाधार वर्षा, माताल आंधी और ओलों से
फसल क्षतिग्रस्त होती
तब एक लम्बी आह मुंह से निकल पड़ती
और दूसरे क्षण अपनी अस्मिता को
संभालता हुआ फिर से उगाने लगता मन-मस्तिष्क
चिन्तन की नई फसल
और उसकी देख रेख करने लग जाता
कि फिर उसे क्षतिग्रस्तता से बचा सकूं
जो हानि हुई है उसे पचा सकूं।
                         -स्वदेश भारती

उत्तरायण
कोलकाता
3 अप्रैल, 2017


आत्मभाव-वितरण

जितना ही आत्मभाव मुझे तटस्थ रहने
और चिन्ता मुक्त होकर
सकर्मक-पथ पर चलने के लिए साधता है
उतना ही प्रबल आकांक्षा का जाल
मुझे भीतर से बांधता है
ऐसे में मैं अपने संकल्प और विचारों से
अन्तर्मुखी होकर अपने को बदलता हूं
और तब मन और वाणी को नियंत्रित कर
अपने गन्तव्य की ओर आगे बढ़ता हूं-
एक एक पग
ऊंचाई की सीढ़ियों पर रखता
अन्तिम लक्ष्य तक चढ़ता जाता हूं
विघ्न-बाधाओं से बचता बचाता
आत्म-कलश में संचित
चिन्तन-जल की बूंदे
समष्टि को अर्पित करता जाता हूं।

                                               - स्वदेश भारती

उत्तरायण
कोलकाता
4 अप्रैल, 2017


प्रवंचना का जहर

रात के चौथे पहर
स्वप्न से अचानक जागा
अभी अभी तो स्वप्नवत सुन्दर मनोहर
प्राणगर्भा कल्पनाएं परियों जैसी
आह्वदित मन नाच रही थी
ह्रदय-सागर-तट-पर
आरक्त अधरों में छिपी थी
स्वर्णवर्णी उषा की मदिर मुस्कान
उसी तट से ही तो हुआ था प्रारम्भ
यात्रा का नव अभियान
जब छाया था कोलाहल शोर
हाथ में थामे कामना विश्वास की पतवार
सर्जना की नाव को
समय-सागर की
उत्ताल लहरों के चपल आवेग से बचता बचाता
चल पड़ा था लक्ष्य-पथ की ओर
जोरों से हिलोरे लेता रहा है समय-पारावार...

जितना ही आत्मभाव मुझे तटस्थ रहने,
चिन्ता मुक्त होने के यत्न के साथ
सकर्मक-पथ पर चलने की आस्था देता रहा
प्रबल आकांक्षा स्वप्न मेरे भीतर पलता रहा
ऐसे में मैं अपने संकल्प और विचारों से
वहिर्मुखी होता रहा
और मन और वाणी को सुदृढ़ बनाकर
अपने गन्तव्य की ओर आगे बढ़ता रहा
चलाता हुआ चिन्तन की पतवार...
अभीष्ट तक पहुंचने का यत्न करता हुआ
विघ्न-बाधाओं से बचता
आत्म-कलश में संचित
चिन्तन जल की बूंदे समष्टि को
समर्पित करता रहा और सहता रहा
प्राण घातक लहरों का अतिशय उद्‌वेग और विनाशक कहर
रात के चौथे पहर
जब उदविग्न हो रहा था हृदय-पारावार...
खड़े थे कुछ लोग आपनजन, अपरिचित
आत्मीयता सागर-तट-पर
कर रहे थे, चर्चाएं, इशारे
आत्मघाती नजरें छुपाए थके हारे
जिसे मैंने प्रज्ञारोधक माना
आदमी का आदमी के प्रति विद्वेष जाना
और पिया उस आत्मदंशित
प्रवंचना का जहर बार बार
जीवन के चौथे प्रहर
मैंने माना नहीं अपनी हार...
-स्वदेश भारती

उत्तरायण
कोलकाता
5-6 अप्रैल, 2017

क्या खोया क्या पाया

दुख ने अपनत्त्व भुलाया
सुख ने झूला झुलाया
संप्रीति ने पंचम स्वर से गाया
संबंधों ने सूनेपन को सजाया
दुख ने अग्नि-ज्वार बन
हृदय जलाया
अलख सबेरे सोनाली आभा
अन्धकार से भरी डगर को
उजियारे में चलने की सीख सिखाया
एकाकी पथ ने मुझे
करो या मरो का पाठ पढ़ाया
सुप्त चेतना को सोते से जगाया
और सीख दी
चिन्तारहित बनो, अडिग रहो
जग है केवल माया
जीवन होता व्यर्थ यदि मन में रहता पछतावा
फिर इतनी चिन्ता क्यों
क्यों है दुरभि संधि, आत्मग्लानि, छलावा
क्या होगा दुखी सोच से-
क्या खोया, क्या पाया
                        -स्वदेश भारती

उत्तरायण
कोलकाता
7 अप्रैल, 2017

और कितने गीत गाऊं

मन-प्राण के भग्न सितार पर
और कितने स्वर मिलाऊं
और कितने गीत गाऊं
पल-दर-पल
तिल तिल कर प्रदीप की रोशनी सा जला
काले समय के भग्नाशेषों में पला
रंगीनियों से भरा स्वर को साधकर
दुख दैन्य की संगत किया
वेदना की ताल पर
आगत समय का गीत गाया
खुले मन से स्वागत किया
कई-कई बार चेतना के
विविध वाद्य-यंत्रों पर सजाया
नए नए ताल स्वर साध गाया
अनहद नाद पर
मन हृदय को नाचा नचाया
अब समय की शिला पर
और कितने दीप जलाऊं
और कितने गीत गाऊं।
               -स्वदेश भारती

उत्तरायण
कोलकाता
8 अप्रैल, 2017

Tuesday, 19 December 2017

आत्ममनोŠवाच

(78वें जन्मदिन पर)


क्या करोगे
रिक्त होगा जब तुम्हारा मन
विदा के क्षण...

एक दिन जब
नियति का प्रारब्ध लेकर
चेतना का भार लादे
लक्ष्य साधे
भंवर का संत्रास सहती
समय-सागर में मचलती
गति बदलती, डोलती तिरती
अकेली आत्मवाही तरी मनहर
आस्था की डोर से बंधकर
बढ़ रही गन्तव्य-पथ पर
मीन-वेधी प्रणति लेकर
आत्मबल से भरी उन्मन
विदा के क्षण...

एक दिन जब विखर जाएगा
सुनहरे प्रीति का संसार
फैलेगा निराशा दुःख का अंधियार
होंगे बन्द सारे हृदय-मन के द्वार
होगा वेदना के गीत का वन्दन
विदा के क्षण...

एक दिन जब घिरेगी अस्तित्त्व की तटिनी
सुनामी-समय के मझधार में
दुःस्वप्न-पारावार में
तब भला वह कौन याराना बनेगा
कौन देगा साथ
उस समय बस आत्मवाही-तरी होगी
राह भी होगी अपरिचित
बचेगा बस एक ही पथ -
ईश का स्मरण
विदा के क्षण...

              -स्वदेश भारती

बैंगलोर
12 दिसंबर, 2017


अनन्ततः

यही अन्त नहीं है
अन्त कहीं नहीं है
जो अन्त है
वही प्रारम्भ भी है

                  -स्वदेश भारती

18/2, कैम्पवेल रोड
बैंगलूर-48
28 नवम्बर, 2017


ईश्वर ने यह कैसा मन बना दिया
उसमें चिड़िया का पंख लगा दिया
और बांध दिया
प्रेम का सुनहरा धागा
जो जीवन पर्यन्त टूटता जुड़ता ही रहता है
न घिसता है, न रिसता है
न बदरंग होता है
भले ही पंख हताहत हो जाए प्रेम-सर से
भले ही रक्तरंजित हो
प्राण वेदना के असर से
मन-पाखी की आकांक्षा कभी पूरी नहीं होती
ना ही प्रेम-पिपासा तृप्त होती
युग पर युग बीत गए
कितने राजा रानी आए गए
प्रेम के तरह-तरह से
मन मस्तिष्क में दुर्ग बनाए
नए से नए
उम्र दर उम्र प्रेम
अपना रंग रूप बदलता रहा
ईश्वर ने छोटे से धड़कते हुए दिल को
एक उपहार देकर उपक्रृत किया
सुन्दर आशावरी रक्तपुष्पी फूल खिला दिया।
                                  - स्वदेश भारती

18/2, कैम्पवेल रोड
बैंगलूर-48
28 नवम्बर, 2017

Friday, 15 December 2017

Swadesh Bharati
(For readers, Lovers of my writing, research 
scholers and thinkers etc.)



Started Writing Since 1951 at the age of 11 (Eleven) and upto date I have Written 13808 (Thirteen Thousand Eight Hundred Five) Poems in Hindi out of which published 28 (Twenty Eight) Poetry Collections, 2 (Two) Epics with total of Around 4300 (Four thousand Three hundred) selected Poems, Long Poems also more than 1000 (Poems) Poems Published in different Anthologies, Magazines, Journals etc. in Hindi, Indian and Foreign Languages. During 1951-2017.

More than 9000 (Nine Thousand) Poems, 10 Poetic dance- drama, memoirs, Travelogs etc. unpublished.

Alongwith written 12 (Twelve) Novels in Hindi out of which 8 (Eight) Published, Four in process of publishing, 87 (Eighty Seven) stories published in Hindi/Indian Language Magazines, Journals, Books.

Edited 52 (Fifty Two) works of Authors of Hindi and other Languages.

Editing Rupambara-Hindi Literary Journal since 1965 and edited 158 Issues, Special Number in Hindi and 22 issues, Special Number in English.

My Writing is Still continueing which fills my barren heart and brings me out of agony. Gives light, energy and happiness to my innerself.

Swadesh Bharati
Uttarayan
331, Pashupati Bhattacharya Road
Kolkata-700 041
12 December, 2017


Mail- swadeshb39.google.com
editor@rashtrabhasha.com
Blog –bswadesh.blogspot.com
(M). 91 8240178035
(M) 91 9903635210


                                                

स्वदेश भारती

(सुधी पाठकों, शोधार्थियों, साहित्य प्रेमियों के लिये)
लेखकीय-सूचना



मैंने 11 वर्ष की उम्र यानी 1951 से लेखन की शुरुआत की। 12 दिसम्बर 2017 को मेरे 78वें जन्मदिवस तक 13805 (तेरह हजार आठ सौ पांच) कविताएं, 12 (बारह) उपन्यास, 10 (दस) से अधिक नृत्य नाटिकाएं, 87 (सत्तासी) कहानियां, लगभग 200 (दो सौ) से अधिक निबन्ध, यात्रा वृतांत, संस्मरण आदि लिखे। अब तक कुल 28 (अट्ठाइस) काव्य संकलन, 8 (आठ) उपन्यास  तथा 52 (बावन) संपादित पुस्तकें (हिन्दी तथा भारतीय भाषाओं तथा अंग्रेजी में) प्रकाशित लगभग 9000 (नौ हजार) कविताएं, 10 नृत्य नाटिकाएं, संस्मरण, आत्मकथा, यात्रा वृतांत आदि अप्रकाशित। 158 (एक सौ अट्ठावन) हिन्दी-रूपाम्बरा-साहित्यिक पत्रिका के 1965 से 2017 तक अंक, विशेषांक तथा अंग्रेजी रूपाम्बरा के 22 (बाइस) अंक, विशेषांक का सम्पादन किया।आज भी मैं प्रतिदिन कविताएं लिखता हूं। कविता लेखन के साथ मेरा अटूट सम्बन्ध ही मेरे जीवन को आज तक भीतर से भरता, पोषित, संवेदित करता आ रहा है। आज भी मैं अपने लेखन-कर्म से जुड़ा हूं। प्रतिदिन कविता तथा अन्य विधाओं पर काम कर रहा हूं। प्रतिदिन का सर्जनात्मक लेखन मुझे जीवन के संघर्ष के बीच त्रासद् विशाद से अन्तर्मन में राहत, सुख और शांति देता आ रहा है तथा समष्टि के प्रति जुड़ने का यत्न भी रहा है। 

                                                                                                 -स्वदेश भारती

उत्तरायण
331, पशुपति भट्टाचार्य रोड
कोलकाता-700 041
12 दिसंबर, 2017

मेल-swadeshb39.google.com
      editor@rashtrabhasha.com
ब्लॉग-bswadesh.blogspot.com
(मो.) 91 8240178035
(मो.) 91 9903635210

                             

Monday, 11 December 2017

मेरे आत्मीयों, पाठकों, शुभचिंतकों, मित्रों को
मेरे जन्मदिन की बधाई के लिए 
हार्दिक धन्यवाद, शुभेच्छा एवं संप्रीति।
-स्वदेश भारती
                             बैंगलोर
                             12 दिसंबर, 2017

Monday, 13 November 2017

प्रेम-तीन चित्र


(1)
प्रेम में
ललचाना
इठलाना
हृदय की तपिस बुझाना
अतृप्त हृदय-आकाश में
आकांक्षा की पतंग उड़ाना
और पतंग की डोर टूटने पर
हाथ मलते रह जाना

(2)
प्रेम का दायरा असीम है,
आकाश की तरह विस्तृत अनन्त है
न उसका आदि है
न अन्त है
प्रेम का
हृदय से
सीमा सम्बन्ध है
प्रवंचना के माहौल में प्रेम
मन का छल-छन्द है
प्रेम, कोमलता, करूणा, उदात्त भावना
और सूक्ष्म अनुभूतियों से निर्मित्त
कामना-घर में वास करता है
प्रेम, बसन्त, पतझर, ग्रीष्म, वर्षा
मौसम का परिवर्तन सहता है
प्रेम, मन का नैसर्गिक सौन्दर्य है
कभी न मिटनेवाला दर्द है
प्रेम, हृदय और मस्तिष्क के बीच चलनेवाले
द्वन्द-युद्ध का योद्धा, महानायक है
जीवन-सत्य का अभिनव गायक है

(3)
प्रेम के अनेको नाम है-
इश्क, संप्रीति, मुहब्बत, भालोवासा,
चाहत, आत्म-मिलन का देवता
शिशिर की सिहरन
हृदय का अनुराग प्रबुद्ध
प्रेम, यानी मानव-चेतना का महायुद्ध

जब सृष्टि का निर्माण हुआ था
प्रेम ने धरती पर पहला कदम रखा
वह त्याग, करूणा, आत्मसमर्पण का आत्मीय सखा है
प्रेम अन्तर्रागी महाप्रबुद्ध है
प्रेम, हृदय-समुद्र में उठती-गिरती
लहरों का उद्वेलन प्रकंपन है
प्रेम, नवरूप सौन्दर्य आकर्षण सर्जन है
प्रेम, जीवन का आत्म-विसर्जन है।


समय-गति


समय, आदमी और इतिहास
अपनी नियति से चलता है
समय में ही आदमी पलता है
समय चलते चलते
हठात इतिहास बन जाता है
आदमी और समय का
अनादिकाल से गहरा नाता है।

            -स्वदेश भारती

14-11-2017
उत्तरायण, कोलकाता
e-mail : editor@rashtrabhasha.com
Blog : bswadesh.blogspot.com

Friday, 10 November 2017

इतस्तः-4

धर्म, राजनीति और साहित्य से जुड़े व्यक्तियों के विरुद्ध
गालीगलौज भारतीय संस्कृति नहीं होती
व्यक्तिगत छीछालेदर, चरित्र हनन से
व्यक्तिगत आजादी और
देश की अस्मिता रोती अपनी मर्यादा खोती

            X           X          X          X

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता यह नहीं है कि कोई किसी भी व्यक्ति का
अपमान करे, उसके व्यक्तित्व और कृतित्त्व को अपमानित करे,
गलत ढंग से टीका टिप्पणी करे। यह नैतिकता
के खिलाफ है और देश की संवेदनात्मक स्वतंत्रता पर आघात है।
यह सिलसिला देश को विखराव के रास्ते पर ले जाएगा।
यह मानव सभ्यता और जनतंत्र के विरुद्ध है।
यह सब बन्द होना चाहिए।
आदमी का आदमी के खिलाफ युद्ध है

X           X          X          X

स्वस्थ दिमाग से ही स्वस्थ समाज बनता है।

                  -स्वदेश भारती

04 नवम्बर, 2017
उत्तरायण, कोलकाता
e-mail : editor@rashtrabhasha.com
Blog : bswadesh.blogspot.com



इतस्ततः-5

किसी भी स्वतंत्र गणतांत्रिक देश के चार संवैधानिक आधार स्तम्भ होते हैं
संविधान
राष्ट्र-ध्वज
राष्ट्रगान
राष्ट्रभाषा

26 जनवरी 1950 को हमें संविधान, राष्ट्रध्वज, राष्ट्रगान संविधानगत प्राप्त हुआ परन्तु
आजादी के 70 वर्षों के बाद भी देश को राष्ट्रभाषा नहीं मिली। हमारी आजादी अभी भी पूरी
तरह मुक्कमल नहीं हुई।
                                                                       -स्वदेश भारती

05 नवम्बर, 2017
उत्तरायण, कोलकाता
e-mail : editor@rashtrabhasha.com
Blog : bswadesh.blogspot.com


इतस्ततः-6

उषा की प्राणगर्भित लाली चूमती
स्वर्णमंडित पूर्वाकाश को
भौंरे स्वच्छन्द निकल पड़ते कलियों की गलियों में
चूमते विविधवर्णी फूलों के रस-पराग
जला जाते विरहीजनों के हृदयों में संप्रीति-आग
निर्झर चूमते नदी की रसधार
आलिंगनबद्ध नदी चूमती उद्वेलित पारावार
सभी जड़ चेतन प्रकृति के नैसर्गिक नियमों से बंधे होते
मनुष्य भी कर्म और नियति से सधे होते
उत्श्रृंखल व्यक्ति अपना अस्तित्व खोते

X           X          X          X

यूं तो मनुष्य पागल इच्छाओं से हारा है
लक्ष्य तक पहुंच पाने में
आत्म नियंत्रण ही उसका सबसे बड़ा सहारा है।

                                        -स्वदेश भारती

5 नवम्बर, 2017
उत्तरायण, कोलकाता
e-mail : editor@rashtrabhasha.com
Blog : bswadesh.blogspot.com


X           X          X          X

इतस्ततः-8

संसद, विधानसभाओं में
विखंडित राजनीति का भालू नाचता है
भालू के साथ बन्दरों का समूह भी नाचता है
थिरक थिरक कर
थिरक थिरक कर
दुखिया, भुखिया, किसान, मजदूर किसी गलियारे, चौराहे पर
आंखों में अभावग्रस्त आंसू भर कर नाचता है
समय राजपथ पर उसकी अभागी भाग्य अनमने मन से
लिखता जाता है।
                                                  -स्वदेश भारती

07 नवम्बर, 2017
उत्तरायण, कोलकाता
e-mail : editor@rashtrabhasha.com
Blog : bswadesh.blogspot.com


इतस्तः-9

संसद, विधानसभाओं, राजपथ पर
नेता राजा नंगा नाचता है
ता ता धिन धिन
ताक धिनक धिन, ताक धिनक धिन
आए शुभ दिन
ढोल मृदंग मजीरा बाजे
तुरही वीन बांसुरी साजे
वोट-विजय का उत्सव आया
सिंहासन ने शंख बजाया
सत्ता ने चौमासा गाया
नेता नंगा नाच दिखाया
धिनक धिनक धिन
धिनक धिनक धिन
ताता ताता धिन धिन
ताक धिनक धिन, ताक धिनक धिन
दल-विपक्ष को मारो गिन गिन
सत्ता कुर्सी के आए दिन
ता ता धिन धिन, ताक धिनक धिन।
धिनक धिनक धिन

                         -स्वदेश भारती

08 नवम्बर, 2017
उत्तरायण, कोलकाता
e-mail : editor@rashtrabhasha.com
Blog : bswadesh.blogspot.com


इतस्ततः-10

काली घोड़ी लाल लगाम
हाथ में छूरी मुंह में राम
लाभ लोभ को करो सलाम
सत्ता, मंदिर, नेता, राम

                     -स्वदेश भारती

09 नवम्बर, 2017
उत्तरायण, कोलकाता
e-mail : editor@rashtrabhasha.com
Blog : bswadesh.blogspot.com



इतस्ततः-11

राजनीति के लिए
छल, दल-बल जरूरी है
झूठ, फरेब, खडयंत्र मजबूरी है
नेता और जनता में मीलों की दूरी है
उदंडता के बिना राजनीति अधूरी है।

                          -स्वदेश भारती

10 नवम्बर, 2017
उत्तरायण, कोलकाता
e-mail : editor@rashtrabhasha.com
Blog : bswadesh.blogspot.com


भारत तथा विदेशों में मेरे कवि मित्रों, प्रिय पाठकों, इतिहासकारों, साहित्य समीक्षकों

        विशेष विज्ञप्ति

मैंने 12 वर्ष की आयु से साहित्य-लेखन शुरू किया। तब से अब तक लिखता रहा हूं।
प्रतिदिन कविता के साथ साक्षात्कार करता रहा हूं। अभी तक 28 काव्य संकलन,
2 महाकाव्य, 9 उपन्यास, लगभग 60 से अधिक संपादित पुस्तकों, कोशों, शैक्षणिक ग्रन्थों को
मिलाकर लगभग 100 पुस्तकें लिखने का यत्न किया है।

38 वर्षों से प्रतिदिन कविताएं लिखना मेरी काव्य साधना की प्रतिदिन दिनचर्या रही है।
अभी तक मैंने कुल 13837 कविताएं लिखी है। और यह क्रम जारी है, अन्ततः जारी
रहेगा।

                                                                                     -स्वदेश भारती
10 नवम्बर, 2017
उत्तरायण, कोलकाता
e-mail : editor@rashtrabhasha.com
Blog : bswadesh.blogspot.com

Friday, 3 November 2017

                  इतस्ततः-1

प्रथम पुरूष - प्रश्न                                     द्वितीय पुरुष - उत्तर

भारत महान-वर्तमान राजनीति                 -   अहा, अहा, अहा
नीति, न्याय, आमजन-सेवा-संगति           -   आह, आह, आह
परिवर्तन, विकास, उन्नयन-प्रगति            -   हाय, हाय, हाय,
भाषा, साहित्य, धर्म, संस्कृति की नियति   -   हरे राम, हरे राम, हरे राम
सत्ता की लोभलाभी दौड़ की गति                 -   वाह, वाह, वाह
   
                                                                  - स्वदेश भारती
04-11-2017
उत्तरायण
331, पशुपति भट्टाचार्य रोड
कोलकाता-700 041
e-mail : editor@rashtrabhasha.com

Thursday, 2 November 2017

तीन समय-चित्र

                   (1)
समय की धारा में
कितना सारा सारा जल
प्रवाहित होता रहा
संसृति का इतिहास-अस्तित्व
बनता रहा, खोता रहा
मनुष्य की कामना, लोभ का घटाधारी मेघ
घिरता रहा, गरजता रहा, बरसता रहा
मनुष्य की नियति को भिगोता रहा।
जो जाना सो आगे बढ़ता रहा
जो नहीं जाना पीछे छूटता रहा।

     X      X        X         X

                    (2)
हे पथिक, जरा रूक कर सोचना
समष्टि की समरसता का आत्मीय-जाल बुनना
अपने को गुनना, भीतर की आवाज सुनना
तब समय के साथ अभीष्ट की ओर बढ़ना।

       X      X        X         X

                   (3)
कर्म ही मनुष्य के उद्भव
विकास और प्रगति का आधार बनता है
कर्म से ही देशकाल, जीवन बदलता है
कर्महीन सदा अपने समय को छलता है।

                           -स्वदेश भारती
03-11-2017
उत्तरायण
331, पशुपति भट्टाचार्य रोड
कोलकाता-700 041
e-mail : editor@rashtrabhasha.com

Sunday, 29 October 2017

कुछ विचार-चिन्तन

धर्म हो, राजनीति अथवा साहित्य
गाली गलौज, व्यक्तिगत छीछालेदर
चरित्रहनन स्वस्थ मानव-चिन्तन नहीं हो सकता
ना ही किसी सभ्य देश जाति की
संस्कृति हो सकती है।
यह व्यक्तिगत आजादी के विरुद्ध है।

     X      X        X         X

मानसिक यातना के हालात पैदा करना भी
आतंकवाद का ही एक रूप है।

       X      X        X         X

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता यह नहीं है कि
कोई भी निजी आक्रोशवश
किसी भी व्यक्ति का अपमान उपहास करे,
मानमर्दन करे, छिछले स्तर की टीका टिप्पणी करे
यह नैतिकता के विरुद्ध है।
यह मानसिक आतंकवाद का युद्ध है।

        X      X        X         X

हमारी आर्य संस्कृति, नैतिकता, अध्यात्मवाद के
सत्यम सुन्दरम शिवम्,
विचार चिंतन के कारण ही भारत
आज भी विश्व में सर्वश्रेष्ठ तथा अनुकर्णीय है।

        X      X        X         X

देश में धार्मिक, राजनैतिक, साहित्य-मंच पर
चोटिल, असंस्कृत,
अनियंत्रित मनचले प्रहसन-संवाद से
देश की संवेदनात्मक
आजादी (Sentimental Liberty) खतरे में है
यह सिलसिला देश को विखराव के रास्ते पर ले जाएगा।
भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति को ले डूबेगा।
ऐसी बचकानी हरकतें बन्द होनी चाहिए।
स्वस्थ दिमाग से ही किसी भी देश में
आदर्श सुसंस्कृत और सभ्य
समाज का निर्माण होता है
जिसमें धर्म, राजनीति, साहित्य फलते-फूलते हैं
दुनिया में ऐसे देश के नागरिक प्रबुद्ध होते हैं।

                                   -स्वदेश भारती
28-10-2017
उत्तरायण
331, पशुपति भट्टाचार्य रोड
कोलकाता-700 041
e-mail : editor@rashtrabhasha.com

कुछ विचार-चिन्तन

धर्म हो, राजनीति अथवा साहित्य
गाली गलौज, व्यक्तिगत छीछालेदर
चरित्रहनन स्वस्थ मानव-चिन्तन नहीं हो सकता
ना ही किसी सभ्य देश जाति की
संस्कृति हो सकती है।
यह व्यक्तिगत आजादी के विरुद्ध है।

     X      X        X         X

मानसिक यातना के हालात पैदा करना भी
आतंकवाद का ही एक रूप है।

       X      X        X         X

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता यह नहीं है कि
कोई भी निजी आक्रोशवश
किसी भी व्यक्ति का अपमान उपहास करे,
मानमर्दन करे, छिछले स्तर की टीका टिप्पणी करे
यह नैतिकता के विरुद्ध है।
यह मानसिक आतंकवाद का युद्ध है।

        X      X        X         X

हमारी आर्य संस्कृति, नैतिकता, अध्यात्मवाद के
सत्यम सुन्दरम शिवम्,
विचार चिंतन के कारण ही भारत
आज भी विश्व में सर्वश्रेष्ठ तथा अनुकर्णीय है।

        X      X        X         X

देश में धार्मिक, राजनैतिक, साहित्य-मंच पर
चोटिल, असंस्कृत,
अनियंत्रित मनचले प्रहसन-संवाद से
देश की संवेदनात्मक
आजादी (Sentimental Liberty) खतरे में है
यह सिलसिला देश को विखराव के रास्ते पर ले जाएगा।
भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति को ले डूबेगा।
ऐसी बचकानी हरकतें बन्द होनी चाहिए।
स्वस्थ दिमाग से ही किसी भी देश में
आदर्श सुसंस्कृत और सभ्य
समाज का निर्माण होता है
जिसमें धर्म, राजनीति, साहित्य फलते-फूलते हैं
दुनिया में ऐसे देश के नागरिक प्रबुद्ध होते हैं।

                                     -स्वदेश भारती
28-10-2017
उत्तरायण
331, पशुपति भट्टाचार्य रोड
कोलकाता-700 041
e-mail : editor@rashtrabhasha.com

Tuesday, 24 October 2017

राजधर्मपरक नीति-1

राजधर्म की कलम और न्याय की स्याही से ही किसी भी देश में राजनीति की तकदीर लिखी जाती है। उसी से जनता खुशहाली के रास्ते पर कदम बढ़ाती सर्वांगीण विकास की ओर चलती है।

राजधर्मपरक नीति-2 

किसी भी देश-काल में जब भी लोभ और स्वार्थपरता से राजधर्म की हत्या हुई है, उस अधर्म से राजा का विनाश तो हुआ ही है, जनता को भी उस अधर्म का सहभागी बनना पड़ा है। भारत में महाभारत काल से लेकर आज तक यही हश्र रहा है।

राजधर्मपरक नीति-3 

सत्तालिप्सा और स्वार्थ का अधर्म-कर्म राजनीति के महावृक्ष को सूखा ठूंठ बना देते हैं
अथवा आक्रोशित जनता ही तूफान बनकर उस महावृक्ष को जड़ विच्छिन्न कर देती है।

                                                                                                -स्वदेश भारती
25 अक्टूबर 2017
उत्तरायण,
331, पशुपति भट्टाचार्य रोड
कोलकाता-700 041

Tuesday, 17 October 2017

यह जीवन-प्रदीप

यह जीवन अनन्त से अनन्त काल तक
नव युग के नए नए
छन्द-गान के साथ चलता रहेगा
और आशा-आकांक्षा का प्रदीप हृदय-पटल पर
हमेशा जलता रहेगा
प्रत्येक दीपावली में स्नेह-प्रेमरंजित
दीपमाला सजा कर
जीवन का रंगारंग उत्सव चलता रहेगा
प्रत्येक मनुष्य के हृदय में आनन्द-अनुराग
संप्रीति-प्रदीप प्रज्वलित होता रहेगा
करता रहेगा नवयुग का आह्वान
आत्म विभोर गाता रहेगा नव-युग का नूतन गान
अनन्त काल से अनन्त काल तक
समय का कारवां चलता रहेगा
नव परिवर्तन के साथ जीवन बदलता रहेगा
आशा-आकांक्षा का प्रदीप सदा जलता रहेगा
                                      -स्वदेश भारती

उत्तरायण-कोलकाता
17 अक्टूबर 2018


दीपावली की शुभकामनाएं

मेरे स्नेही मित्रो, शुभचिंतको पाठको
दीपक की बाती जैसे तिलतिल कर जलती है
अपने को जलाकर
दूसरों को प्रकाश देती है
तुम और हम उसी तरह
त्याग, समर्पण, आस्था और
विश्वास की बाती बन
अपनों को, जन-जन को
बांटे आनन्द-उच्छ्वास
देते चलें सभी को प्रकाश
जीवन में छाए उत्कर्ष-हर्ष

                   -स्वदेश भारती

उत्तरायण-कोलकाता
18-19 अक्टूबर 2018



दीपावली की शुभकामनाएं


मेरे स्नेही मित्रो, शुभचिंतको पाठको
दीपक की बाती जैसे तिलतिल कर जलती है
अपने को जलाकर
दूसरों को प्रकाश देती है
तुम और हम उसी तरह
त्याग, समर्पण, आस्था और
विश्वास की बाती बन
अपनों को, जन-जन को
बांटे आनन्द-उच्छ्वास
देते चलें सभी को प्रकाश
जीवन में छाए उत्कर्ष-हर्ष

                           -स्वदेश भारती

Monday, 16 October 2017

मैं अकेला ही चलूंगा

भले ही भीड़ लगाकर
लोग देखते रहे
समय-सागर-तट पर खड़े होकर
मैं अकेला ही चलता रहूंगा
अगाध समुद्र की उत्ताल लहरों में डोलती
नाव हिचकोले लेती रही
और लोग तालियां बजाते रहे
तरह तरह की भाव भंगिमाएं बनाते रहे
मन की डफली बजाते रहे
बेसुरे गीत गाते रहे
परन्तु मैं विचलित हुआ नहीं
निर्दिष्ट पथ पर चलता रहा
समय-सागर चाहे जितना उफनता रहे
पागल हवा चाहे जितनी शक्ति से बहे
भवितव्य की आशा और विश्वास लिए
पौरूष और आत्मबल की पतवारें साधे
अपने सम्पूर्ण स्वत्त्व को लक्ष्य में बांधे
मैं चलता रहूंगा
जिस वर्तमान ने मुझसे छलावा किये
दुःख और आंसू दिये
संबंधों की प्रवंचना देकर
घर उजाड़ दिए
वही सब अतीत बन गया।
परन्तु मैं अपनी टूटी नाव के साथ
आगे बढ़ता ही रहूंगा।
मैं अतीत को छोड़ चुका हूं
यद्यपि कि वर्तमान भी
पलभर में अतीत बन जाता है
अतीत और इतिहास के सभी संदर्भ
आदमी भूलता जाता है
संभवतः वर्तमान या अतीत
अथवा दोनों ही देश-काल से
मुक्त हो जाते हैं
यह सत्य है कि समय-असमय के बाद
नये समय का दौर आता है
भले ही कितने भी संकट आएं
मैं अपने पथ पर चलता रहूंगा
सिर नहीं झुकाऊंगा
अकेला ही आगे बढ़ता जाऊंगा
लोगों का क्या
लोग तो अन्दर बाहर की
समस्याओं में जीवनपर्यन्त
जाने अनजाने उलझते रहते हैं
फंसते रहते हैं
निजता और आत्मलोभ की
बांसुरी बजाते हैं
समय-सागर-तट पर आते जाते विलुप्त हो जाते हैं
प्रवंचना के जाल बनाकर
स्वार्थ की मछलियां मारते हैं
उनकी परवाह किए बिना
मैं अपनी भग्न नाव पर
स्मृतियों का पाल चढ़ाकर
अकेला ही आगे बढ़ता जाऊंगा।

                      -स्वदेश भारती
उत्तरायण, कोलकाता
21-24 सितंबर, 2017


राजनीति के छन्द

राजनीति अपनी घोर अनैतिकता, आत्म-लिप्सा
और निजता की अहंवादी मानसिकता से
नयी पीढ़ी को गुमराह कर
प्रभावित कर रही हैं
इसके कारण सामाजिक मान्यताएं
बुरी तरह बिखर रहा है
सांस्कृतिक मूल्यों पर प्रहार हो रहा है
इससे देश अपनी अस्मिता खो रहा है
सत्तावाद ही वर्तमान की जमीन में
विष-बीज बो रहा है।

                       -स्वदेश भारती
उत्तरायण, कोलकाता
25 सितंबर, 2017


धर्म, ईश्वर और सन्यासी

आज तो धर्म लोभलाभी यंत्र बन गया है
जो सन्यासी, साधु, संत, महात्माओं का मंत्र बन गया है
आत्मलोभ, अनात्म-चिंतन-अनुरंजन
आदमी के लिए महा-खडयंत्र बन गया है
आस्था और विश्वास का सेतु टूट रहा है
अधर्म साधारण मनुष्य को लूट रहा है।

                                -स्वदेश भारती
उत्तरायण, कोलकाता
26 सितंबर, 2017


विचार-आचार

तनिक रूको, सोचो
तब आगे बढ़ो
रास्ता स्वयं कहीं जाता नहीं
वह तो रास्ते पर चलनेवाले पथिक को
लक्ष्य तक पहुंचाता है
देख देखकर चलो
और चौकस होकर सीढ़ियां चढ़ो
सही और गलत
सत्य और असत्य का विश्लेषन करो
विनार्थ चिन्ताग्रस्त होकर
अपने बाल मच नोचो
तनिक रुककर आत्मान्वेषण करो
तब आगे बढ़ो
समय की रफ्तार समझो
और अपने को संयोजित करो
तुम्हारे विरुद्ध जो भी षडयंत्र
पंख फैला रहे हैं
उनकी नीयत को बूझो
तनिक रुको
तनिक सोचो
आत्मानुशासन, संयम
और समष्टि के प्रति समर्पण
दाय-भाव-बोध का अर्थ गुनो
मेरी बात सुनो, सोचो
तब आगे बढ़ो।

                 -स्वदेश भारती
उत्तरायण, कोलकाता
27-28 सितंबर, 2017


दो शब्द

सही सोच और कर्तव्य परायणता ही
मनुष्य को उसके लक्ष्य तक पहुंचाती है

                                 -स्वदेश भारती
उत्तरायण, कोलकाता
29 सितंबर, 2017


एक मंत्र और

असमय की दुर्भिक्षदायक विनाशक, तूफानी
और अनियंत्रित हवा से सावधान रहना है
सारे कष्ट सहना है
किन्तु आत्म-बोध की तरी
समय-सागर में साधे रहना है
प्रज्ञा और आत्म विश्वास से
अपने अभीष्ट तक पहुंचना है।

                       -स्वदेश भारती
उत्तरायण, कोलकाता
30 सितंबर, 2017

Thursday, 12 October 2017

देश-काल


ये कैसे हैं देश के रहनुमा
जो लोभलाभी राजनीति के गुर सिखा रहे हैं
आमजन का मत हासिल करने के लिए
विकास का अन्धा आईना दिखा रहे हैं

देश मूक भाव से देख रहा छद्‌म चरित्र और अनाचार
भूख, अभाव, आत्महत्या, धार्मिक उन्माद, व्यभिचार

अपसंस्कृति देश की धरती पर विष-बीज बो रही
इंसानियत ठगी सी हाथ मलती रो रही

काले कारनामों का खुला बाजार है
देश की जनता ठगी-सी लाचार है

आजादी के 70 सालों में
जनमत के दिन आते रहे, जाते रहे
तरह तरह के लोग आत्मलोभ की
डफली बजाते रहे, गाते रहे।

                  -स्वदेश भारती
                  (मो.) 9903635210
                    918240178035

Monday, 9 October 2017

{hÝXr H$m d¡pídH$ ñdê$n … 
amï´>r` Ed§ AÝV©amï´>r` g§X^©
                                                       - S>m°. ñdXoe ^maVr

{hÝXr Xoe VWm {dXoe _| gdm©{YH$ ~mobr OmZodmbr Ed§ g~go A{YH$ gab, gwnmR>ç, gw~moY Ed§ d¡km{ZH$, VH$ZrH$s _mZX§S>m| H$mo nyam H$aZodmbr ^mfm h¡Ÿ& {hÝXr H$s {b{n Am¡a eãXm| _| H$moB© ~ZmdQ> `m ñdm§J Zht h¡Ÿ& O¡gr {bIr OmVr h¡, d¡gr hr ~mobr OmVr h¡Ÿ& {hÝXr H$s bmoH${à`Vm Ho$db ^maV `m n‹S>mogr Xoem| _| hr Zht h¡ ~pëH$ H¡$ao{~`mB© Xoem| VWm AÝ` Xoem| _|o h¡Ÿ& _m[aeg, {\$Or, gwarZm_, J`mZm, {Ì{ZXmX, Q>mo~¡Jmo O¡go Xoem| _| {hÝXr CZH$s amO^mfm Ho$ ê$n _| gwà{V{ð>V h¡Ÿ& {~«Q>oZ, A_arH$m, H$ZmS>m, BÝS>moZo{e`m, Ý`yOrb¢S>, AmñQ´>o{b`m, A\«$sH$m VWm `moamon Ho$ H$B© Xoem|-~opëO`_, ñdrS>Z, O_©Zr, ZrXab¢S>, ê$g, MrZ, OmnmZ, A\$Jm{ZñVmZ, _Ü` nyd© Xoem|-Xw~B©, Am~yXm~r, Hw$d¡V, H$Vma, `o_Z, Amo_mZ, {b{~`m, A\«$sH$s _hmÛrn Ho$ Xoe BWmo{n`m, H$s{Z`m, VmZOm{Z`m, `wwJm§S>m, ~moËgdmZm _moO§~rH$, _S>JmñH$a, Om§{~`m, qO~mìdo, ZmBOr[a`m VWm n‹S>mogr Zonmb, {\$brnrZ, _mbXrd, qgJmnwa, _bo{e`m, WmB©b¡ÊS>, BÝS>moZo{g`m Am{X Xoem| _| ^maVr` _yb Ho$ bmoJm| H$s OZg§»`m A{YH$ h¡Ÿ& {hÝXr ~ohX bmoH${à` h¡Ÿ& BZ Xoem| _| ^maVr` _yb Ho$ bmoJm| H$m Am{W©H$ Ed§ amOZ¡{VH$ dM©ñd O~aXñV h¡Ÿ& {díd H$s 20-25 à{VeV OZVm {hÝXr OmZVr h¡Ÿ& AZoH$ Xoem| Ho$ {àÝQ> _r{S>`m Am¡a BboŠQ´>m°{ZH$ _r{S>`m _| {hÝXr H$mo ñWmZ {X`m Om ahm h¡Ÿ& BZ Xoem| _|  {hÝXr {gZo_m, Q>rdr AË`{YH$ bmoH${à` h¢ŸŸ& dr{S>`mo VH$ZrH$s Am¡a CnJ«hm| Ho$ g§MaU Ho$ _mÜ`_ go hOmam| _rb Xya ~go àdmgr ^maVr`m| Ho$ Kam| _| ^maVr` {gZo_m, Q>rdr AmgmZr go CnbãY hmo aho h¢Ÿ& {díd Ho$ ~hþV gmao Xoem| _| bKw ^maV ~g J`m h¡ Ohm§ {hÝXr N>mB© hþB© h¡Ÿ& A\«$sH$m Ho$ nydu VQ> go bJ^J 500 _rb H$s Xyar na {hÝX _hmgmJa Ho$ _Ü` pñWV _m[aeg d bm-ar`y{Z`Z Q>mny na ^maVr` _yb Ho$ bmoJm| H$s AË`{YH$ g§»`m h¡Ÿ& {deof ê$n go A_arH$m, B§Jb¢S> _| ^maVr` _yb Ho$ bmoJm| H$s Am{W©H$ Am¡a amOZ¡{VH$ nhMmZ CZH$s H$_©R>Vm, AÜ`dgm`, {dkmZ Ed§ Cƒ àm¡oÚmo{JH$s Ho$ joÌ _| CZH$s kmZ dM©ñdVm CZH$s g\$bVm H$m n[aMm`H$ h¡Ÿ& do ^maVr` gm§ñH¥${VH$ _yë`m|, ^mfm Am¡a g§ñH$ma go AmpË_H$ ê$n go Ow‹S>o h¢Ÿ& BZ Xoem| _| ^maVr` àdm{g`m| H$m {hÝXr Ho$ gmW AQy>Q> g§~§Y h¡Ÿ& do ^maVr` Ë`mohmam|, amï´>r` g_mamohm| H$mo ~Iy~r _ZmVo h¢Ÿ& ^maV H$s {_Å>r H$s gm|Yr J§Y CZHo$ aº$ _| Kwbr {_br h¡Ÿ&
170 df© AmOr{dH$m H$s ImoO _| ^maV go {deofH$a CÎmaàXoe, {~hma Ho$ Jm§dm|, H$ñ~m| go MbH$a bmImo _OXya, Io{Vha _mareg, X{jU A_arH$m, J`mZm, {Q´>{ZS>mS>, gwarZm_, X{jUr A\«$sH$m, Ý`yOrb¢S> Am{X Xoem| _| H$bH$Îmm ~ÝXaJmh go OhmO _| ^aH$a A§J«oOm| Ûmam ^oOo JEŸ& CÝhmoZo AµZoH$ Vah H$s emar[aH$, _mZ{gH$, ^mdZmË_H$ `§ÌUmAm| H$mo ghZ {H$`m Am¡a Yrao Yrao CZ Xoem| H$mo AnZm Ka ~Zm {b`mŸ& ZE Kam| _| BZ {dñWm{nVm| Ho$ ahZo H$s g§Kf© ^ar, XX© ^ar H$hmZr h¡Ÿ& {\$a ^r CÝhm|Zo X¡{hH$ Am¡a _mZ{gH$ nr‹S>mAm| H$mo ghZ H$aVo hþE ^maVr` g§ñH¥${V Ho$ _hmZ _yë`m| H$mo AnZmE aIm Am¡a do CZ Xoem| Ho$ OmJê$H$, gä` ZmJ[aH$ ~Z JEŸ& Am¡a Am{W©H$ Ed§ amOZ¡{VH$ _§Mm| na AnZr XmdoXmar go CZ Xoem| Ho$ CƒV_ nXm| na AmgrZ hþEŸ& {Q´>{ZS>mS> H$s _OXya ~ñVr _| nbo, ga {dÚmgmJa gyaO àgmX Zm`nmb gwà{gÕ gm{hË`H$ma, Zmo~wb nwañH$ma go gå_m{ZV {H$E JEŸ& {OZH$m Zm_ {díd Ho$ _hmZ boIH$m| H$s gyMr _| em{_b h¡Ÿ& J`mZm Ho$ S>m. N>oXr OJZ Xoe Ho$ àYmZ_§Ìr ~Zo, ~mX _| amï´>n{V ~Zo, {Q´>{ZS>mS> Ho$ ~mgwXod nm§S>o àYmZ_§Ìr ~Zo, _mareg Ho$ ga {edgmJa am_Jwbm_ Xoe Ho$ àYmZ_§Ìr Am¡a ~mX _| JdZ©a OZab ~ZoŸ& `o g^r Xoe Am{W©H$, amOZ¡{VH$ Am¡a gm§ñH¥${VH$ Ñ{ï> go e{º$embr ~Z JEŸ h¢& BZ Xoem| Ho$ gm{hË`H$mam|o, {dÛmZm|, amOZ¡{VH$ ZoVmAm| Zo {hÝXr Am¡a ^maVr` gm§ñH¥${VH$ _yë`m| H$mo {g\©$ AnZm`m hr Zht ~pëH$ AnZo Xoe Ho$ OZgmYmaU Ho$ ~rM amoMH$, OZ{à` Am¡a AmË_~moYH$ ~Zm`mŸ& AmO ^r {hÝXr Ed§ ^maVr` g§ñH¥${V Ho$ à{V Apñ_Vm H$m ^md ^maVr` d§eOm| Ho$ aº$ _| àdm{hV hmo ahm h¡Ÿ&
^maV Ho$ Omo Jar~ {H$gmZ, _OXya Jm§dm| go H$m_Jma Ho$ ê$n _| {dXoem| _| ^oOo JE Wo, do AnZo gmW am_m`U, JrVm VWm AÝ` Ym{_©H$ J«ÝW ^r boVo JEŸ& CZ Xoem| _| CÝhmoZo {hÝXr ^mfm Am¡a ^maVr` g§ñH¥${V H$m Eogm ~rO ~mo`m Omo AmO \$br^yV hmo ahm h¡Ÿ& do dhm§ OmH$a {Ja{_{Q>`m H$hbmEŸ& Eogo {Ja{_{Q>`mAm| Zo {hÝXr H$mo ^moOnwar, AdYr Ho$ ê$n _| AnZm`m Am¡a CZ Xoem| _| CgH$m A{YH$ go A{YH$ {dH$mg VWm àMma àgma {H$`mŸ& ~hþV gmar {hÝXr H$s ñd¡pÀN>H$ g§ñWmAm|, {hÝXr _mÜ`_ ñHy$bm|, H$mboOm|, {díd{dÚmb`m| H$s ñWmnZm H$sŸ& BZ Xoem| _| {deof ê$n go _m[aeg Zo AnZr amï´>^mfm {hÝXr H$mo ~Zm`mŸ& AmO {Ja{_{Q>`m Xoem| Ho$ {bE _mareg H$s ^mfm Zr{V AmXe© Ho$ ê$n _| {dÚ_mZ h¡Ÿ& _mareg EH$ BÝÐYZwfr Xoe h¡Ÿ& `hm§ H$s g§ñH¥${V ^r BÝÐYZwfr h¡ Am¡a gaH$ma H$s Zr{V`m§ ^r BÝÐYZwfr h¢& _mareg Zo {Ì^mfm \$m_y©bm H$mo AnZm`m h¡Ÿ {Og_| \«o$ÝM Am¡a A§J«oOr A{Zdm`© h¡Ÿ& _yb^mfm {hÝXr Ho$ gmW CXy©, V{_b, VobwJy, _amR>r, MrZr, {H«$`mob, Aa~r, ^moOnwar ^mfmE§ n‹T>mB© OmVr h¢Ÿ& _mareg _| g¥ZmË_H$ boIZ H$s ^mfm {hÝXr h¡Ÿ& dhm§ H$m {hÝXr gm{hË` AË`ÝV à^mdembr Am¡a é{MH$a, nmR>H$-{à`Vm H$s H$gm¡Q>r na loð>Vm H$s Ñ{ï> go gO©ZmË_H$ {hÝXr gm{hË` Ho$ ê$n _| _mÝ`Vmàmá H$a {b`m h¡Ÿ& H${dVm, CnÝ`mg, H$hmZr, bKw H$Wm, ZmQ>H$, EH$m§H$s, `mÌm {ddaU Am{X àMwa _mÌm _| {bIo Om aho h¢Ÿ& A{^_Ý`w AZV, am_Xod Ywa§Ya, ~ra goZ, OmJm {g§h, ñd. _wZrída bmb qMVm_{U, S>m. ho_amO gw§Xa, amOhram_Z, B§ÐXod ^mobm, àhbmX am_eaU, ñd. lr_Vr ZmJXmZ, YZamO e§^w, gy`©Xod gr~moaV Am{X d[að> gm{hË`H$mam| go ào[aV hmoH$a AmO H$s `wdm nr‹T>r {hÝXr gm{hË` g¥OZ go Ow‹S>r h¡Ÿ&
AmO AmYw{ZH$Vm, ½bmo~bmBOoeZ, {b~abmBOoeZ Am¡a àm¡Úmo{JH$s Ho$ n[ad{V©V n[aÑí` _| {hÝXr H$m à`moJ ^maV _| A§J«oOr H$s Anojm H$_ hmo ahm h¡Ÿ& `h EH$ XwIX pñW{V h¡Ÿ& BgH$m H$maU Cƒ emgH$ dJ© VWm àemg{ZH$ nXm| na ~¡R>o A{YH$m[a`m| H$s A§J«oOr _mZ{gH$Vm h¡Ÿ& CgH$m à^md {dÚm{W©`m| na n‹S> ahm h¡Ÿ& àm¡Úmo{JH$s Ed§ ì`mnm[aH$ à~§YZ H$s e¡j{UH$ g§ñWmZm| go {S>J«r boH$a Zm¡H$[a`m| _| bJZodmbo `wdmAm| H$mo A§J«oOr _mZ{gH$Vm AmH«$mÝV {H$E hþE h¢Ÿ& Bg{bE {H$ A§J«oOr H$mo amoOr amoQ>r go Omo‹S> {X`m J`m h¡Ÿ& Cg pñW{V _| {hÝXr {ÛVr`, V¥Vr` loUr _| aIo OmZo Ho$ H$maU g§Hw${MV hmo JB© h¡oŸ& CgH$m ì`mnH$ àMma àgma AdéÕ hmoVm Om ahm h¡Ÿ&
BgHo$ {bE h_ Am¡a h_mar ^mfm Zr{V {Oå_oXma h¢Ÿ& AmOmXr Ho$ 70 dfm] ~mX ^r gmao Xoe _| {Ì^mfm \$m_y©bm bmJy Zht hmo nm`mŸ& {hÝXr H$mo amï´>^mfm H$m XOm© Zht {X`m J`mŸ& ^maV _| {JaOmKam| Ûmam A§J«oOr Ho$ àMma  àgma _| gaH$ma Ho$ {ejm ~OQ> go A{YH$ A§J«oOr ñHy$bm| Ho$ _mÜ`_ go A§J«oOr {ejm Ho$ àgma VWm Y_m©ÝVaU na IM© {H$`m OmVm h¡Ÿ& ^maVr` g_mO _| Eogo A§J«oOr _mÜ`_ Ho$ ñHy$bm| H$s ^a_ma h¡ Ohm§ h_ AnZo ~ƒm| H$mo ^Vu H$amZo Ho$ {bE ^mar MÝXm XoZo H$s hmo‹S> H$aVo h¢Ÿ& AnZo ~ƒm| H$mo A§J«oOr _| ~mobVo XoIH$a h_| A{YH$ àgÞVm hmoVr h¡Ÿ& Bggo ^maVr` g§ñH¥${V H$m à^md Yrao-Yrao {_Q>Vm Om ahm h¡ Omo Xoe H$s gm§ñH¥${VH$ Apñ_Vm Ho$ {bE EH$ ~hþV ~‹S>m IVam h¡Ÿ& `h XoIH$a XwI hmoVm h¡ {H$ Ohm§ {hÝXr `m _mV¥^mfm Ûmam ~ƒm| _| g§ñH$ma n¡Xm hmoVm dht A§J«oOr {ejm VWm A§J«o{O`V ahZ ghZ H$mo AmYw{ZH$Vm go ~m§Y {X`m J`m h¡Ÿ& Eogo _| {hÝXr Am¡a àmXo{eH$ ^mfmAm| H$m _hÎd KQ> ahm h¡Ÿ& ^mfm na bmo^bm^r dmoQ> Imoar amOZr{V hmdr h¡ŸŸ& Cggo {hÝXr VWm ^maVr` ^mfmAm| H$mo IVam h¡Ÿ& {OgHo$ H$maU Xoe Ho$ {dIamd H$s H$hmZr H$m VmZm ~mZm ~wZm Om ahm h¡Ÿ& H$moB© ^r Xoe CgH$s ^mfm Am¡a g§ñH¥${V go OmZm OmVm h¡Ÿ& Omo amï´> Ho$ {bE Am{W©H$, àm¡Úmo{JH$s, d¡km{ZH$ àJ{V go A{YH$ Oê$ar h¡Ÿ& ^maV H$s gä`Vm, g§ñH¥${V, gm§ñH¥${VH$ Ed§ AmÜ`mpË_H$ {damgV BVZr àmMrZV_ h¡, BVZr _hmZ h¡ {H$ Xw{Z`m Ho$ {H$gr ^r Xoe H$s gä`Vm, g§ñH¥${V CgH$m _wH$m~bm Zht H$a gH$VrŸ& g§ñH¥$V Am{XH$mb go {díd H$s Xod^mfm ahr h¡Ÿ& Cgr go {hÝXr VWm AÝ` ^mfmAm| H$m OÝ_ hþAmŸ& Bg AW© _| g§ñH¥$V go An^«§e ê$n _| {ZH$br {hÝXr h_mar Am{X gä`Vm H$s EH$ _O~yV H$‹S>r h¡ {Ogo Xoe Ho$ àË`oH$ ZmJ[aH$ H$mo g_PZm Mm{hEŸ& AÜ`mË_ Am¡a `moJ gmYZm ^maV H$s n{dÌ {_Å>r H$s Eogr gwdm{gV J§Y h¡ {Oggo Xw{Z`m Ho$ 175 Xoem| Zo VWm g§`wº$ amï´> Zo 21 OyZ H$mo `moJ {Xdg _ZmZo H$m {ZU©` {b`mŸ& 10 OZdar H$mo {díd Ho$ bJ^J 180 Xoem| _| {hÝXr {Xdg _Zm`m OmVm h¡Ÿ& Bg àH$ma {hÝXr H$m dM©ñd {XZm|{XZ ~‹T>Vm Om ahm h¡Ÿ& {H$ÝVw ^maV _| 14 {gVå~a H$mo {hÝXr {Xdg _ZmH$a bmoJ AnZm _Z ~hbmZo H$m H$m_ H$aVo h¢Ÿ& {hÝXr Ho$ à{V Omo CXmÎm amï´>r` ^mdZm ^mdZm hmoZr Mm{hEŸ& CgH$s H$_r IQ>H$Vr h¡Ÿ&
{díd _| A§J«oOr OmZZodmbo bmoJm| H$s g§»`m 100 H$amo‹S> go A{YH$ Zht h¡Ÿ& O~{H$ {hÝXr OmZZodmbm| H$s g§»`m 132 H$amo‹S> h¡Ÿ& {díd _| g~go A{YH$ OZg§»`m dmbo Xoe H$s MrZr ^mfm Ho$ {díd^a _| OmZZodmbo {g\©$ 110 H$amo‹S> hr h¢Ÿ&
Bg Ñ{ï> go {hÝXr {díd H$s gdm©{YH$ bmoH${à` ^mfm h¡Ÿ& Am¡a Cgo {díd^mfm H$m XOm© {_bZm hr Mm{hEŸ& Cgo amï´>g§K H$s ^mfm ~ZZm hr h¡Ÿ& naÝVw `h XwIX h¡ {H$ {hÝXr H$mo A^r VH$ g§`wº$ amï´> g§K H$s àm{YH¥$V ^mfm Ho$ ê$n _| _mÝ`Vm Zht {_brŸ& BgHo$ Xmo H$maU  h¢- {díd ñVa na {hÝXr go Am{W©H$ Ed§ amOZ¡{VH$ e{º$`m§ nyar Vah Ow‹S>r `m Omo‹S>r Zht JB©Ÿ& gm§{d{YH$ ê$n go {hÝXr ^maV H$s amO^mfm h¡ bo{H$Z Cgo amOZ¡{VH$ H$maUm| go A§J«oOr Ho$ gmW Omo‹S> {X`m J`m h¡& Bg{bE {hÝXr nhbo Zå~a H$s ^mfm hmoVo hþE ^r Xygao Zå~a H$s hmo JB© h¡Ÿ& A~ Vmo {hÝXr Am¡a A{hÝXr àXoem| _| A§J«oOr H$m dM©ñd ~‹T>Vm Om ahm h¡Ÿ& gaH$mar \$mBbm| _| ZmoqQ>J, S´>mpâQ>¨J ({Q>ßnU, àmê$nU) A{YH$m§eV… A§J«oOr _| Mb ahm h¡Ÿ& {hÝXr H$mo ñdoÀN>mMm[aVm go Omo‹S> {X`m OmZm amï´>r` AZwemgZhrZVm Am¡a H$V©ì`hrZVm Xem©Vm h¡Ÿ&
Zã~o XeH$ Am¡a ~mX Ho$ dfm] _| O~ CXmarH$aU, gmd©^m¡{_H$Vm, Cƒ VH$ZrH$s Ed§ àm¡ÚmoJrH$aU H$m VoOr Ho$ gmW {dH$mg hþAmŸ& V~ `h ^` gVmZo bJm {H$ {hÝXr H$m ^{dî` IVao _| h¡ naÝVw {Og Vah ^maV _| àm¡Úmo{JH$s Am¡a Cƒ VH$ZrH$s H$m {dH$mg VoOr go hþAm Am¡a hmo ahm h¡, A~ {hÝXr Ho$ gmW AÝ` ^maVr` ^mfmE§ ^r àm¡Úmo{JH$s VWm gmoeb _r{S>`m _| N>m JB© h¢Ÿ& _r{S>`m _| {hÝXr H$m O~aXñV à`moJ {dídñVa na {hÝXr H$mo bmoH${à` ~ZmZo _| gj_ hþAm h¡Ÿ& {dXoer H$ån{Z`m§ AnZo {dkmnZ A§J«oOr go A{YH$ {hÝXr VWm AÝ` ^maVr` ^mfmAm| _| COmJa H$a ahr h¢& Iwbm ~mOmadmX {hÝXr Ho$ ì`mnH$ àMma-àgma _| AË`ÝV _hÎdnyU© ^y{_H$m {Z^m ahm h¡Ÿ& 2010 Ho$ ~mX  {hÝXr Ho$ {dídñVar` {dH$mg H$mo XoIH$a ñQ>ma M¡Zb Ho$ _w{I`m gnQ>© _mS>m}H$ H$mo AnZo ñQ>ma H$m`©H«$_m| H$s Q>rAmanr ~‹T>mZo Ho$ {bE {hÝXr H$m ghmam boZm n‹S>mŸ& Bgr Vah {hÝXr H$m àMma-àgma {dídñVa na {Og VoOr Ho$ gmW ~‹T>m h¡ Cg_| AÝ` ^mfmE§ nrN>o Ny>Q> JB© h¢Ÿ& Bg àH$ma {hÝXr H$m dM©ñd {XZ à{V{XZ ~‹T>Vm Om ahm h¡Ÿ& {hÝXr A~ ~mbrdwS> go MbH$a hmbrdwS> nhþ§M JB© h¡Ÿ& A_arH$m O¡go gånÞ Am¡a {dH${gV Xoe _| {hÝXr H$m dM©ñd ~‹T>m h¡Ÿ& A_arH$m hr Zht Xw{Z`m Ho$ AÝ` Xoem| _| ^r {hÝXr {\$ë_|, Q>rdr gr[a`b bmoJm| Ho$ ~rM _Zmoa§OZ Ho$ _w»` lmoV ~Z JE h¢Ÿ&
{hÝXr H$s ì`mnH$ bmoH${à`Vm Ho$ H$maU Xw{Z`m Ho$ 172 Xoem| _|  {hÝXr Ho$ {ejU Ed§ à{ejU Ho$ AZoH$ _mÜ`_, Ho$ÝÐ ~Z JE h¢Ÿ& {hÝXr H$m {ejU Ed§ à{ejU {díd Ho$ bJ^J 180 {díd{dÚmb`m|, e¡j{UH$ g§ñWmAm| _| Mb ahm h¡Ÿ& {g\©$ A_arH$m _| 100 go A{YH$ {díd{dÚmb`m|, H$mboOm| _| {hÝXr n‹T>mB© OmVr h¡Ÿ& A{YH$m§e {díd{dÚmb`m| _| {hÝXr nmR>çH«$_ H$s nwñVH|$ V¡`ma H$a N>mÌm| H$mo CnbãY H$amB© OmVr h¢Ÿ& BgHo$ {bE A^r VH$ ^maV gaH$ma Ûmam {díd {hÝXr {ejU-à{ejU Ho$ÝÐ H$s ñWmnZm Zht H$s Om gH$sŸ& `h H$m_ {díd {hÝXr g{Mdmb`, _m[aeg H$a gH$Vm h¡ naÝVw BgHo$ {bE ^maV gaH$ma H$mo AmJo ~‹T>H$a Hw$eb à~§YH$s` ^y{_H$m {Z^mZm h¡Ÿ Am¡a Am{W©H$ XmdoXmar ^r {Z^mZm h¡Ÿ& {dídñVa na {hÝXr H$s ~ohVa nmR>ç nwñVH$m|, {d{^Þ ^mfmAm| _|, AmÚVZ H$moem|, eãXmd{b`m| H$mo V¡`ma H$amH$a {díd Ho$ CZ {díd{dÚmb`m|, e¡j{UH$ g§ñWmZm| H$mo CnbãY H$amZm h¡ Ohm§ {hÝXr VWm AÝ` ^maVr` ^mfmAm| H$m AÜ``Z, nR>Z-nmR>Z, {ejU-à{ejU Mb ahm h¡Ÿ& Bggo {hÝXr H$mo {dídñVa na àMma àgma H$m ì`mnH$ Adga àmá hmoJmŸ& Bg ~mao _| Xw{Z`m Ho$ ~hþV gmao {díd{dÚmb`m| Zo {hÝXr H$s e¡j{UH$ Amdí`H$Vm _mZ H$a gaH$ma H$mo kmnZ ^r {XE h¢Ÿ&
gä` g§gma Ho$ {H$gr ^r OZg_wXm` H$s {ejm H$m _mÜ`_ {dXoer ^mfm Zht h¡Ÿ& {Og Xoe H$s Omo ^mfm h¡, Cgr ^mfm _| Xoe H$s {ejm, Ý`m`, H$mZyZ, amOH$mO, {dYmZg^m, g§gX H$m H$m_ H$mO hmoVm h¡Ÿ& Ho$db ^maV hr EH$ Eogm Xoe h¡ Ohm§ AmOmXr Ho$ 70 df© ~mX ^r Xoe A§J«oOr H$m ~moP Zht CVma nm`m Am¡a gaH$mar H$m`m©b`m|, Ý`m`mb`m| H$s ^mfm Z gÎmmYmar emgH$m| H$s ^mfm h¡ Am¡a Zm hr OZVm H$sŸ&
AmOmXr Ho$ nhbo ^maV _| ~hþV gmar ñd¡pÀN>H$ {hÝXr godm g§ñWmAm| Zo {hÝXr H$m àMma àgma AnZo AnZo ñVa go àmaå^ {H$`m& X{jU _| X{jU ^maV {hÝXr àMma g^m H$s ñWmnZm _hmË_m Jm§Yr Zo H$s {Ogo MbmZo Ho$ {bE Jm§Yr Or Zo AnZo ~oQ>o XodXmg Jm§Yr H$mo Xm{`Îd gm¢nmŸ& g^m H$s X{jU ^maV _| H$B© emImE§ h¡Xam~mX, ~|Jbmoa, Ymadm‹S> (H$Zm©Q>H$) Am{X ñWmZm| _| ñWm{nV H$s JBªŸ& _hmamï´>, dYm© _| amï´>^mfm àMma g{_{V dYm© H$s ñWmnZm H$s JB©& 16 OwbmB©, 1893 H$mo ~Zmag _| H$mer ZmJar àMm[aUr g^m H$s ñWmnZm H$s JB©Ÿ& {OgH$m CÔoí` {hÝXr H$mo CgH$m dmñV{dH$ ñWmZ {XbmZm WmŸ& g^m H$s ñWmnZm Ho$ àW_ df© 20 _mM© 1894 H$mo n§. _XZ _mohZ _mbdr` Or H$mo AÜ`j ~Zm`m J`m Omo AmOrdZ Bg g§ñWm go Ow‹S>o ahoŸ& g^m Ho$ Xygao df© "àmÝVr` ~moS>© Am\$ aodÝ`y " _| {hÝXr H$mo ñWmZ {XbmZo H$m AmÝXmobZ Ama§^ {H$`m J`m {OgHo$ \$bñdê$n A§J«oOr gaH$ma Zo AnZo 20 AJñV, 1996 Ho$ kmnZ Ûmam {hÝXr H$mo ~moS>© Am°\$ aodoÝ`y _| ñWmZ àXmZ {H$`m &
Bg ~mV go CËgm{hV hmoH$a ZmJar àMm[aUr g^m Zo CÎma àXoe Ho$ {d{^Þ {Obm| go 60 hOma hñVmja go g§H${bV 16 à{V`m| H$m à{VdoXZ _mbdr` Or Ho$ ZoV¥Ëd _|  J{R>V à{V{Z{Y _§S>b Zo 2 _mM© 1898 H$mo àmÝVr` JdZ©a bopâQ>ZoÝQ> E§Q>Zr _¡H$S>moZb H$mo  àñVwV {H$`mŸ& g^m Ho$ Bg H$m`© _| _mbdr` Or H$m _hÎdnyU© `moJXmZ WmŸ& df© 1897 _| CÝhm|Zo H${R>Z n[al_ go "H$moQ>© H¡$aoŠQ>a E§S> àmB_ar EOyHo$eZ BZ ZmW© doñQ> àm{dÝgoO E§S> AdY"  Zm_H$ J«ÝW AnZo IM© go B§{S>`Z àog, Bbmhm~mX Ûmam àH$m{eV H$adm`mŸ& Bg J«ÝW H$mo ^r àmÝVr` Jd©Za H$mo à{VdoXZ g{hV gm¢nmŸ& Bg nwñVH$ _| _w»` ê$n go `h C„oI Wm {H$ AXmbVm| _| ZmJar Ajam| H$m àMma Z hmoZo go àOm {deofH$a J«m_rU àOm H$mo Agw{dYm VWm H$ï> hmoVm h¡ VWm àma§{^H$ {ejm Ho$ àMma _| H${R>ZmB`m§ AmVr h¢Ÿ& Bg nwñVH$ _| `h ^r {bIm h¡ {H$ g§gma Ho$ {H$gr ^r gä` g_mO, OZ g_wXm` H$s {ejm H$m _mÜ`_ {dXoer ^mfm Zht hmo gH$Vr& {Og Xoe H$s Omo ^mfm h¡, Cgr ^mfm _| Cg Xoe Ho$ Ý`m`, H$mZyZ, amOH$mO, H$m¢{gb BË`m{X H$m H$m`© hmoZm Mm{hEŸ& Ho$db ^maV hr EH$ Eogm Xoe h¡ Ohm§ gaH$mar H$m`m©b`m|, Ý`m`mb`m| H$s ^mfm Z Vmo emgH$m| H$s _mV¥^mfm h¡ Am¡a Z hr àOm H$sŸ&
_mbdr` Or Ho$ AWH$ n[al_ go 10 Aà¡b, 1900 H$mo g\$bVm {_br, O~ npíM_moÎma àXoe VWm AdY H$s gaH$ma Zo AnZo Amkm nÌ g§. 585/3-343 gr-68, 1900 Ûmam H$Mh[a`m| _| ZmJar Ajam| _| AmdoXZnÌ Xm{Ib H$aZo H$s Amkm Xo XrŸ& Bg AmXoe Ho$ ~mX O~ N>moQ>o bmQ> gmh~ Bbmhm~mX AmZodmbo Wo, V~ CZH$m g{Md _mbdr` Or Ho$ nmg Am`m Am¡a H$hm {H$ N>moQ>o bmQ> gmh~ Amngo {_bZm MmhVo h¢Ÿ& Cg g_` _mbdr` Or ~r_ma WoŸ& ~wIma go nr{‹S>VŸ& naÝVw Cg hmbV _| ^r _mbdr` Or N>moQ>o bmQ> gmh~ go {_bo Am¡a bå~r ~mVMrV hþB©Ÿ& _mbdr` Or Zo EH$ ^mfm, EH$ {b{n H$s OmoaXma dH$mbV H$sŸ& CZHo$ VH©$ go N>moQ>o bmQ> gmh~ Zo CÝh| AmídñV {H$`m {H$ do Bg {df` na Amdí`H$ H$ma©dmB© H$a|JoŸ& EH$ ^mfm, EH$ {b{n Ûmam gånyU© amï´> H$mo EH$ gyÌ _| ~m§YZo Ho$ CÔoí` go hr AŠQy>~a 1910 _| H$mer ZmJar àMm[aUr g^m _| nhbm {hÝXr gm{hË` gå_obZ Am`mo{OV {H$`m J`m {Og_| Xoe ^a go {d{eï> gm{hË`H$ma, g_mOgodr, amOZr{Vk, nÌH$ma, {dÛmZ gpå_{bV hþEŸ& _mbdr` Or H$mo gå_obZ H$m g^mn{V EH$ _V go MwZm J`mŸ& {hÝXr Ho$ dV©_mZ ñdê$n na CÝhm|Zo bå~r dŠV¥Vm XrŸ& gå_obZ _| gd©  gå_{V go Omo àñVmd ñdrH¥$V {H$E JE CZ_| Cƒ {ejm _| {hÝXr H$mo _mÜ`_ ~ZmZo, Q>oŠñQ>~wH$ H$_o{Q>`m| _| {hÝXr {dÛmZm| H$mo aIo OmZo, ^maVr` ^mfmAm| Ho$ gå_obZm| Ho$ à{V{Z{Y`m| H$m EH$ g§K ñWm{nV H$aZo VWm gaH$mar ñQ>¡ånm| Ed§ {gŠH$m| na ZmJar Ajam| H$mo ñWmZ XoZo H$s {g\$m[ae| WtŸ& O~ _hmË_m Jm§Yr X{jU A\«$sH$m _| A§J«oOm| go An_m{ZV hmoH$a ^maV bm¡Q>o Am¡a amOZr{V _| g{H«$` hþE Vmo CÝh| {hÝXr go Omo‹S>Zo H$m H$m_ _mbdr` Or Zo hr {H$`mŸ& JmÝYr Or Zo gmao ^maV _| Ky_H$a AmOmXr H$m {dJwb {hÝXr _| hr ~Om`m Am¡a `h d«V {b`m {H$ do gmao Xoe H$mo {hÝXr Ho$ _mÜ`_ go EH$Vm Ho$ gyÌ _| Omo‹S>|JoŸ& CXy© Ho$ amï´>dmXr H${d AH$~a Bbmhm~mXr Zo AnZo ZÁ_ _| Bg ~mV H$m CëboI
{H$`m h¡-
Jm§Yr Zo _mZ br h¡ _XZr _mohZr gbmhŸ&
{hÝXr Vmo Wo hr, A~ _XmZr hmo JEŸ&&
    Jm§Yr Or Ûmam {hÝXr na AË`{YH$ Omoa XoZo Ho$ H$maU hr 1976 _| BÝXm¡a _| Am`mo{OV 8d| {hÝXr gm{hË` gå_obZ H$m CÝh| AÜ`j ~Zm`m J`mŸ& Jm§Yr Or Ho$ à`mgm| go 1918 _| X{jU ^maV {hÝXr àMma g^m H$s ñWmnZm hþB©Ÿ& 19-21 Aà¡b 1919 H$mo ~å~B© _| Am`mo{OV 9d| {hÝXr gm{hË` gå_obZ H$m AÜ`j nwZ… _mbdr` Or H$mo ~Zm`m J`mŸ& 1925 Ho$ ~mX {hÝXr Am¡a {hÝXwñVmZr Ho$ ~rM g§Kf© ~‹T>Zo bJmŸ& Eogo g_` _| _mbdr` Or Zo {hÝXr H$m OmoaXma g_W©Z {H$`mŸ& CZH$m _V Wm {H$ ^mfm _| {H$gr àH$ma H$s {_bmdQ> Zht hmoZr Mm{hEŸ& H$mer _| Am`mo{OV 28dm§ A{Ib ^maVr` {hÝXr gm{hË` gå_obZ Ho$ ñdmJV ^mfU _| CÝhm|Zo H$hm Wm-{hÝXr Ho$ {b`o `h gm¡^m½` H$s ~mV h¡ {H$  CgHo$ àma§{^H$ H$mb _| _hmH${d VwbgrXmg Zo Xemíd_oK KmQ> na ~¡R> H$a am_M[aV _mZg (am_m`U) H$s aMZm H$s Omo {díd H$m A{ÛVr` _hmH$mì` h¡Ÿ& H$mer _|  hr H$~ra Zo {hÝXr Ho$ _mÜ`_ go Ym{_©H$ g_Ýd` Am¡a g_agVm H$m nmR> n‹T>m`mŸ& H$mer Zo hr {hÝXr Ho$ _hmZ aMZmH$mam| O¡go _hmH${d O` e§H$a àgmX, I‹S>r ~mobr Ho$ àUoVm ^maVoÝXw h[aíMÝР VWm H$B© H${d`m|, {dÛmZm|, boIH$m| H$mo n¡Xm {H$`mŸ& _mbdr` Or Zo {hÝXr ^mfm Ho$ ñdê$n Am¡a ZmJar {b{n na Eo{Vhm{gH$ Am¡a _hÎdnyU© ^mfU Ûmam `h {gÕ H$a {X`m {H$ ZmJar {b{n Ho$ gmW fS>`§Ì {H$`m Om ahm h¡Ÿ& Jm§Yr Or Zo _mbdr` Or H$s ~hþV gmar ~mVm| H$mo _mZm Am¡a OrdZ _| AnZm`mŸ& {deof ê$n go {hÝXr H$mo gab ^mfm Ho$ ê$n _| ì`dhma {H$E OmZo na ~b {X`m Am¡a {hÝXr Ho$ ì`mnH$ ñdê$n H$mo COmJa {H$`mŸ& _mbdr` Or Am¡a Jm§Yr Or EH$ Xygao H$mo ^mB© _mZVo Wo Am¡a do "^mB©' Ho$ g§~moYZ Ûmam hr EH$ Xygao H$mo nwH$maVo WoŸ& hmbm§{H$ ^mfm Am¡a {b{n Ho$ à`moJ na XmoZm| _| _V^oX ahoŸ& _mbdr` Or ~ZmdQ>r ^mfm Ho$ {damoYr WoŸ& do {hÝXr Ho$ à~b njYa WoŸ& {hÝXr H$mo AmJo ~‹T>mZo _| _mbdr` Or H$m A{ÛVr` Eo{Vhm{gH$ `moJXmZ ahm h¡Ÿ& CÝhm|Zo {hÝXr H$mo gaH$mar V§Ì H$s ^mfm Ho$ ê$n _| H$m`m©pÝdV H$aZo Ho$ {bE gmW©H$ H$m`©H«$_ ~ZmEŸ& CÝht _| go ~Zmag {hÝXy {díd{dÚmb` H$s ñWmnZm Ho$ {bE 1905 _| Am`mo{OV ^maVr` amï´>r` H$m§J«og Ho$ _§M go CÝhm|Zo CX²KmofUm H$sŸ& {hÝXr Ho$ àMma-àgma H$mo J{V XoZo Ho$ {bE 1907 _| {hÝXr _| "Aä`wX`' Zm_H$ gmám{hH$ nÌ, 1926 _| "^maV'Am¡a "{hÝXwñVmZ' Zm_H$ X¡{ZH$ nÌ àH$m{eV H$a {hÝXr H$s godm H$sŸ&
H$mer go àH$m{eV "gZmVZ Y_©' Am¡a bmhm¡a go àH$m{eV "{díd~§Yw' Zm_H$ nÌm| Ho$ nam_e©XmVm, àoaUmlmoV _mbdr` Or hr WoŸ& BZ nÌm| Ho$ Ûmam _mbdr` Or Zo {hÝXr àMma àgma Ho$ {bE gamhZr` H$m`© {H$`m h¡Ÿ Omo ^maVr` ñdV§ÌVm Am¡a {hÝXr H$m B{Vhmg `wJmo§ VH$ ñ_aU aIoJmŸ& _mbdr` Or _hmZ ñdßZXeu WooŸ& CZHo$ _hÎdmH$m§jm Ho$ AZwê$n 4 \$adar 1916 H$mo O~ H$mer {hÝXr {díd{dÚmb` H$s ñWmnZm hþB© Vmo CÝhm|Zo {ejm H$m _mÜ`_ {hÝXr H$mo aIm naÝVw VËH$mbrZ JdZ©a OZab Zo BgH$s BOmOV Zht XrŸ& A§J«oOm| Zo AnZo emgZ H$mb _| A§J«oOr Ho$ A{V[aº$ {hÝXr `m {H$gr ^r AÝ` ^maVr` ^mfm H$mo {ejm H$m _mÜ`_ ~ZmE OmZo H$m àl` Zht {X`mŸ& _mbdr` Or Zo {díd{dÚmb` H$mo Xmo ^mJm| _| ~m§Q> {X`mŸ& EH$ _| A§J«oOr Vmo Xygao _| {hÝXr H$mo {ejm H$m _mÜ`_ A{Zdm`© H$a {X`mŸ& Bggo {hÝXr ^mfr N>mÌm| H$s g§»`m ~‹T>Vr ahrŸ& 1916 _| _wOâ\$anwa _| Am`mo{OV {hÝXr àMm[aUr g^m Ho$ dm{f©H$ A{YdoeZ _| _mbdr` Or Zo AnZo AÜ`jr` CX²~moYZ _| {hÝXr H$s Cn`mo{JVm Am¡a _hÎmm VWm {díd H$s g_ñV {b{n`m| _| ZmJar {b{n H$s {d{eï>Vm, loð>Vm Am¡a gabVm H$mo ì`m»`m{`V {H$`mŸ& Cƒ {ejm Ho$ _mÜ`_  go AÜ``Z-AÜ`mnZ Ho$ {bE {hÝXr J«ÝWm| Ho$ àH$meZ H$m H$m`© VoO H$aZo Ho$ {bE  CÝhm|Zo {díd{dÚmb` _| {hÝXr àH$meZ _§S>b H$s ñWmnZm H$amB©Ÿ& O~ Jm§Yr Or {díd{dÚmb` _| 1927 _| nYmao Vmo CÝhm|Zo Bg ~mV  na IoX ì`º$ {H$`m {H$ {díd{dÚmb` _| A§J«oOr _mÜ`_ go {ejm Xr Om ahr h¡Ÿ& _hmË_m Jm§Yr Zo Bg ~mV H$mo Ñ‹T>Vm Ho$  gmW H$hm {H$ {hÝXr Ho$ Ûmam D§$Mr go D§$Mr n‹T>mB© hmo gH$Vr h¡ V~ _mbdr` Or Zo Jm§Yr Or H$mo {dídmg {Xbm`m {H$ "_¢ AnZo {díd{dÚmb` _| {hÝXr _| Cƒ {ejm àXmZ H$amD§$JmŸ& BgHo$ {bE gmao Amdí`H$ g§gmYZ OwQ>mD§$JmŸ&' Cg g_` {hÝXr _| nmR>çnwñVH|$ V¡`ma H$amZo Ho$ {bE KZí`m_Xmg {~‹S>bm Zo 5000 énE {XE WoŸ& AnZo ^mfU _| CÝhm|Zo H$hm Wm {H$ g^r _mZVo h¢ {H$ n‹T>mB© H$m _mÜ`_ _mV¥^mfm hr hmo naÝVw h_ na A§J«oOr Zo Eogm OmXy H$a {X`m h¡ {H$ A§J«oOr H$m _moh N>mo‹S> Zht nm aho h¢Ÿ& ^{dî` _| {hÝXwñVmZ H$s CÞ{V {hÝXr H$mo AnZmZo go hr hmo gH$Vr h¡Ÿ& _mbdr` Or H$s 1946 _| _¥Ë`w Ho$ níMmV² AmMm`© hOmar àgmX {ÛdoXr, àmo. ^mobm e§H$a ì`mg, n§. H$_bmn{V {ÌnmR>r, S>m. {dO` e§H$a _„, àmo. {Ì^wdZ qgh, àmo. Zm_da qgh, àmo. ~ƒZ qgh, n§. {edàgmX {_l H$m{eHo$`, àmo. Mm¡Wram_ `mXd O¡go gwà{V{ð>V {dÛmZm| Zo {hÝXr H$mo {díd_§M na à{V{ð>V H$aZo _| AgmYmaU `moJXmZ {X`mŸ& AmO ^r ~Zmag {hÝXy {díd{dÚmb` H$m {hÝXr {d^mJ ^maV VWm AÝ` Xoem| Ho$ {díd{dÚmb`m| _| ñWm{nV {hÝXr {d^mJm| H$s VwbZm _| g~go A{YH$ g{H«$` Ed_² à{V{ð>V {hÝXr {d^mJ h¡ Ohm§ bJ^J 40 àmÜ`mnH$ Ed§ AZwg§YmZ d¡km{ZH$ {hÝXr H$s godm _| bJo h¢Ÿ& _mbdr` Or Am¡a ~Zmag {hÝXy {díd{dÚmb` Zo {hÝXr Ho$ {bE C„oIZr` H$m`© {H$`m h¡Ÿ& Cg g_` Ho$ gwà{gÕ CXy© em`a AH$~a Bbmhm~mXr Zo {bIm h¡-
hOma eoI Zo Xm‹T>r ~‹T>mB© gZ-H$s-grŸ&
_Ja dmo ~mV H$hm§ _mbdr _XZ H$s-grŸ&&
_mbdr` Or Zo Jm§Yr Or Ho$ AZw`m`r ~ZH$a AmOmXr H$s b‹S>mB©, amï´>^mfm   Ho$ àMma-àgma Ho$ {bE A^yVnyd© H$m`© {H$`mŸ& {OgHo$ H$maU A{Ib ^maVr` {hÝXr gm{hË` gå_obZ Zo CÝh| "gm{hË` dmMñn{V' H$s Cnm{Y Ûmam gå_m{ZV {H$`m Am¡a ^maV gaH$ma Zo 25 {Xgå~a 2014 H$mo ^maV Ho$ gdm}ƒ Ab§H$aU "^maV aËZ' go Ab§H¥$V {H$`mŸ&
{hÝXr Ho$ ì`mnH$ àMma àgma Ho$ H$m`m] _| Jm§Yr Or Zo _mbdr` Or go àoaUm br Am¡a gmao Xoe _| amï´>^mfm àMma g{_{V`m§ ñWm{nV H$a {hÝXr H$mo OZOZ H$s ^mfm ~ZmZo H$m H$m`© {H$`mŸ& _mbdr` Or Zo Jm§Yr go AmOmXr Ho$ {bE g_n©U H$s ^mdZm Am¡a {hÝXr àMma Ho$ {bE amï´>r` EH$Vm AI§S>Vm Ho$ AmXe© H$mo grIm Am¡a OrdZ n`©ÝV {hÝXr-àMma Ho$ AÜ`oVm, àhar Am¡a _mJ©Xe©H$ ~Zo ahoŸ& Bgr Xm¡a _| 1930 go 1945 Ho$ ~rM ZoVm Or gw^mf MÝÐ ~mog Zo {hÝXr H$mo  "AmOmX {hÝX \$m¡O' H$s ^mfm ~Zm`m Omo EH$ A^yVnyd© KQ>Zm WrŸ& {dídH${d a{dÝÐZmW R>mHw$a Zo OZ JU _Z amï´>JrV H$s aMZm H$sŸ& d§{H$_MÝÐ MQ>Ou Zo "dÝXo_maV_' amï´>r` JrV {bImŸ& _mo. BH$~mb Zo gmao Ohm§ go AÀN>m {hÝXmoñVm§ h_mam {bImŸ& àW_ gË`mJ«hr AmMm`© {dZmodm ^mdo Zo Jm§Yr Or Ûmam MbmE Om aho gË`mJ«hm|, {dMma MMm©Am|, ^mfUm| H$s ^mfm {hÝXr hmo, BgH$m OmoaXma g_W©Z {H$`mŸ& Am¡a {dZmodm Or, JmÝYr Or Ûmam MbmE Om aho gË`mJ«h AmÝXmobZ _| àW_ OrdZ XmZr ~ZoŸ& CÝhm|Zo ^yXmZ-`k AmÝXmobZ H$s ^mfm {hÝXr H$mo ~Zm`mŸ& _hmË_m Jm§Yr Am¡a AmMm`© {dZmodm ^mdo JwOamVr Wo naÝVw CÝhm|Zo {hÝXr H$mo {Og àH$ma gmao Xoe _| àMm[aV àgm[aV {H$`m, dh {hÝXr H$m EH$ Jm¡adembr B{Vhmg h¡Ÿ& Jm§Yr Or H$m Ñ‹T> A{^_V Wm {H$ ""{hÝXr ^mfm H$s CÞ{V H$m AW© h¡ g_yMo amï´> Am¡a Om{V H$s CÞ{V, AJa h_| {hÝXwñVmZ H$mo EH$ amï´> ~ZmZm h¡ Vmo amï´>^mfm {hÝXr hr hmo gH$Vr h¡Ÿ&'' ~§Jmb Ho$ gwà{gÕ ñdV§ÌVm goZmZr emaXmMU {_Ì, _hmamï´> Ho$ {hÝXr godr lr Jmo{dÝX _YwgyXZ Xm^mobH$a, X{jU Ho$ gwà{gÕ {dÛmZm|, Xoe^º$m| O¡go gwd«÷Ê`_² ^maVr, Q>r _mYd amd, Ho$ Ama Zmam`U amd, MH«$dVu amOJmonmbmMmar, lr H¥$îU ñdm_r Aæ`a, _hmH${d e§H$a Hw$én Am{X {hÝXr Ho$ à~b g_W©H$ Wo Am¡a MmhVo Wo {H$ {hÝXr ^maV H$s amï´>^mfm ~ZoŸ& {dídH${d adrÝÐ ZmW R>mHw$a Zo H$hm h¡-"^maVr` ^mfmE§ Z{X`m§ h¢ Am¡a {hÝXr _hmZXr h¡Ÿ&' ñdV§ÌVm g§J«m_ Ho$ goZm{Z`m|  amOoÝÐ àgmX, Odmha bmb Zohê$, gaXma nQ>ob, _m¡bmZm A~wb H$bm_ AmOmX, O`àH$me Zmam`U, amO{f© nwê$fmoÎm_ Xmg Q>§S>Z, Jmo{dÝX ~ëb^ n§V, BpÝXam Jm§Yr, AQ>b {~hmar dmOno`r Am{X Zo {hÝXr H$mo ì`mnH$ ê$n go àMm[aV-àgm[aV {H$`m Am¡a {hÝXr H$m Eogm Aj`dQ> bJm`m {OgH$s h[aV ^[aV emImE§ VoOr Ho$ gmW gmao {díd _| \¡$b J`tŸ&
`h {Z{d©dmX ñdV… {gÕ h¡ {H$ {hÝXr {díd _| g~go A{YH$ ~mobr, g_Pr OmZodmbr AË`{YH$ bmoH${à` ^mfm h¡Ÿ& BgHo$ ~mX MrZr h¡Ÿ& EH$ VmOm Am§H$‹S>o Ho$ AZwgma {díd _| MrZr VWm {hÝXr OmZZo dmbm| H$s pñW{V {ZåZ{b{IV h¡Ÿ…-
df©         {hÝXr OmZZodmbm|      MrZr OmZodmbm|
             H$s g§»`m              H$s g§»`m
2005        10220 H$amo‹S>             90 H$amo‹S>
2007        102.30 H$amo‹S>            90.20 H$amo‹S>
2009        11000 H$amo‹S>             90.70 H$amo‹S>
2012        120.00 H$amo‹S>            100.50 H$amo‹S>
2015        132.00 H$amo‹S>            110.00 H$amo‹S>

{hÝXr OmZZo dmbm| H$s g§»`m MrZr, A§J«oOr VWm {díd H$s AÝ` ^mfmAm| H$s VwbZm _| A{YH$ h¡Ÿ& àg§Jde A§J«oOr OmZZodmbo gmar Xw{Z`m _| bJ^J  100 H$amo‹S> hr h¢Ÿ& {\$a ^r g§`wº$ amï´>g§K go {hÝXr H$mo àm{YH¥$V ^mfm Ho$ ê$n _| A^r VH$ Zht AnZm`m J`mŸ& BgH$m à_wI H$maU h¡ Am{W©H$ e{º$ Am¡a amOZ¡{VH$ e{º$ Omo {hÝXr Ho$ gmW A^r VH$ Zht Ow‹S> gH$s O~{H$ AnZo Xoe _| AàË`j ê$n go {hÝXr H$m AmYma amOZ¡{VH$ e{º$ Am¡a Am{W©H$ e{º$ ahr h¡Ÿ& Am¡a BZ XmoZm| e{º$`m| Ho$ ~b na {hÝXr H$mo g§`wº$ amï´> g§K H$s ^mfm Ho$ ê$n _| erK« _mÝ`Vm {Xbm`m OmZm h¡Ÿ&
{díd _| {hÝXr H$s bmoH${à`Vm H$mo XoIVo hþE 152 Xoem| _| {hÝXr {ejU, à{ejU Ho$ AZoH$ _mÜ`_m| Ho$ Ûmam {hÝXr H$m nR>Z, nmR>Z ì`mnH$ ê$n go hmo ahm h¡oŸ& Ho$ÝÐ gaH$ma Ûmam ^r {hÝXr AÜ``Z hoVw {hÝXr {ejU `moOZm MbmB© Om ahr h¡Ÿ& Bg {Xem _| Ho$ÝÐr` {hÝXr g§ñWmZ AmJam Ûmam ^maVr` Ed§ {dXoer N>mÌm| H$mo {hÝXr Ho$ AÜ``Z Ho$ {bE gw{dYmE§ Xr Om ahr h¡Ÿ Am¡a nmR>çH«$_m| H$mo AmÚVZ ~Zm`m Om ahm h¡Ÿ& {díd Ho$ AZoH$m| {dÚmb`m|, _hm{dÚmb`m| VWm {díd {dÚmb`m| _| {hÝXr H$m AÜ``Z AÜ`mnZ VoOr Ho$ gmW Mb ahm h¡Ÿ& Xoe _| Ho$ÝÐ gaH$ma VWm {hÝXr ñd`§godr, ñd¡pÀN>H$ g§ñWmAm| Ûmam MbmE Om aho {hÝXr nmR>çH«$_m| Ho$ _mÜ`_ go {hÝXr grIZo dmbm| H$s g§»`m CÎmamoÎma ~‹T>Vr Om ahr h¡Ÿ&
EH$ Am§H$‹S>o Ho$ AZwgma {hÝXr {ejU Ed§ à{ejU Ho$ Ûmam {hÝXr grIZo dmbm| H$s g§»`m {ZåZ{b{IV h¢ …-
joÌ                                Hw$b OZg§»`m          {hÝXr OmZZodmbo
"H$' joÌ                                61,73,20,843           61,72,26,843
({hÝXr^mfr joÌ)
 "I' joÌ                                20,82,78,328          18,74,50,495
({hÝXr VWm àmÝVr` ^mfr H$m g_mZ ñVa)
 "J' joÌ                                 44,86,85,821           20,74,54,095
 ({hÝXrVa ^mfr amÁ`)
Hw$b g§nyU© ^maV                 1,27,41,90.992     1,01,21,31,433
^maV H$mo N>mo‹S>H$a AÝ` Xoe          5,94,64,09,008        28,64,86,562
{díd H$s Hw$b OZg§»`m             7,22,06,00,000         1,29,86,995
nyUmª{H$V                                7,22,06,00,000          1,30,00,000
     `h AË`ÝV IoX Am¡a AmíM`© H$s ~mV h¡ {H$ {díd Ho$ g~go ~‹S>o JUV§Ì ^maV H$s AmOmXr Ho$ gÎma dfm] ~mX ^r bmoH$ ^mfm {hÝXr amï´>^mfm Zht ~Z gH$r h¡Ÿ& Zmhr g§`wº$ amï´>g§K H$s {díd^mfm ~ZmB© JB©Ÿ& g§`wº$ amï´> g§K H$s A{YH¥$V ^mfmAm| Am¡a AZ{YH¥$V {hÝXr na Ñ{ï>nmV H$a|Ÿ Vmo {ZåZ{b{IV Am§H$‹S>o gm_Zo AmVo h¢ …-
^mfm            _mV¥^mfm             A{O©V ^mfm        Hw$b ^mfm ^mfr
 A§J«oOr             35 H$amo‹S>               65 H$amo‹S>                100 H$amo‹S>
MrZr                  95 H$amoo‹S>             15 H$amo‹S>                 11 H$amo‹S>
Aa~r                 23.5 H$amo‹S>         22.5 H$amo‹S>              46 H$amo‹S>
\«|$M                   70 H$amo‹S>             60 H$amo‹S>                130 H$amo‹S>
ê$gr                  14.8 H$amo‹S>          11.2 H$amo‹S>             26 H$amo‹S>
ñno{Ze                33.2 H$amo‹S>          6.3 H$amo‹S>               39.5 H$amo‹S>
Hw$b               203.5 H$amo‹S>     126 H$amo‹S>          334.5 H$amo‹S>
{hÝXr              61.9 H$amo‹S>       70.1 H$amo‹S>        132 H$amo‹S>
(AmÚVZ pñW{V)


amï´>g§K H$s ^mfmAm| H$mo A{YH¥$V {H$E OmZo H$m H$maU `h h¡ {H$ BZ ^mfmAm| Ho$ àW_ ^mfm (_mV¥^mfm), {ÛVr` ^mfm Ho$ ê$n _| ~mobZodmbm| H$s g§»`m bJ^J 335 H$amo‹S> h¡Ÿ& `h g§nyU© {díd H$s OZg§»`m H$m àmµ`… AmYm ^mJ h¡ VWm {díd Ho$ 50% go A{YH$ Xoem| _| à`wº$ hmoVr h¡ Ed§ àM{bV h¡Ÿ& `{X BZ ^mfmAm| _| {hÝXr H$mo Omo‹S> {X`m OmE Vmo `h g§»`m bJ^J 467 H$amo‹S> hmo OmEJrŸ&
Bg Ñ{ï> go {díd Ho$ g~go ~‹S>o JUV§Ì H$s ^mfm {hÝXr ^maV H$s amï´>^mfm VWm g§`wº$amï´> g§K H$s Am{YH$m[aH$ {díd ^mfm Ho$ ê$n _| _mÝ`Vm àmá H$aZo H$s A{YH$m[aUr h¡Ÿ&
AmOmXr Ho$ ~mX ^r A§J«oOr àemgZ Am¡a Zr{V {df`H$ {d_e© Am¡a H$m`m©b`rZ ^mfm Ho$ ê$n _| A§J«oOr Mb ahr h¡Ÿ& BZ gÎma dfm] _| {hÝXr H$s Anojm A§J«oOr H$m à^wÎd CÎmamoÎma ~‹T>m h¡Ÿ& 1990-91 _| Am{W©H$ CXmarH$aU Zo Eogr nr‹T>r H$mo OÝ_ {X`m Am¡a CZHo$ {X_mJ H$mo A§J«oOr Ho$ à{V A{YH$ OmJéH$ {H$`m J`mŸ{H$ Am{W©H$ CXmarH$aU, g_¥{Õ, VH$ZrH$s VWm àm¡Úmo{JH$s {dH$mg VWm àJ{V A§J«oOr Ûmam hr g§^d h¡Ÿ& Eogr nr‹T>r Ho$ {X_mJ na Bg ~mV H$mo ^r O~aZ bmXm J`m {H$ A§J«oOr _| hr CZH$m C‚db ^{dî` gw{ZpíMV h¡Ÿ& gm_m{OH$ Am¡a amOZ¡{VH$ {dH$mg _| ^r A§J«oOr H$s dM©ñdVm H$mo _mZ {b`m J`m Am¡a {hÝXr H$mo {nN>‹S>onZ H$s ^mfm H$h H$a CgHo$ gm_m{OH$ Am¡a amï´>r` _hÎd H$mo ZH$mam J`mŸ& amoOJma Ho$ g§gmYZm| na A§J«oOr H$s e{º$ hmdr hmo JB©Ÿ& BgHo$ MbVo {hÝXr ^mfr AmO AnZr hrZ^mdZm go J«ñV h¢Ÿ& BÝQ>aZoQ> Am¡a _mo~mBb Ho$ Bg `wJ _| A§J«oOr H$m à`moJ ~‹T>m h¡Ÿ& `Ú{n {H$ BÝQ>aZoQ> Ho$ {bE {hÝXr Ho$ g^r g§gmYZ CnbãY h¢Ÿ& bo{H$Z hrZ _mZ{gH$Vm, amï´>r` H$V©ì`m| Ho$ à{V Aé{M Ho$ H$maU Am¡a AnZo H$mo CƒdJ© H$s ^mfm A§J«oOr go Omo‹S>Zo H$s _mZ{gH$Vm Zo ^maVr` g_mO Ho$ _pñVîH$ H$mo {Xdm{b`m ~Zm {X`m h¡Ÿ& Bggo CZHo$ g§ñH$ma _| {_bmdQ> Am ahr h¡, CZHo$ ahZ-ghZ _| {XImdQ>rnZ h¡Ÿ& CZH$s gm_m{OH$Vm ñdÀN>ÝXdm{XVm go J«ñV h¡Ÿ& amï´>r` n[aàoú` _| `h ew^H$a Zht Am¡a Z hr {hÝXr Ho$ ~‹T>Vo dM©ñd Ho$ à{V CZHo$ ZmJ[aH$ H$V©ì`m| VWm CZH$s AmñWm H$m H$moB© AdXmZ h¡Ÿ& A§J«o{O`V _mZ{gH$Vm Ho$ Bg Xm¡a _| AmO H$s nr‹T>r _| amï´> H$s _w»` Ymam go Ow‹S>Zo H$s H$moB© Img {XbMñnr Zht h¡Ÿ& do A§J«oOr Ûmam amoOJma àmá H$aZo Ho$ {bE AnZo ^rVa Ho$ amï´>dmXr VÎdm| H$mo Zï> H$a aho h¢Ÿ& `h amï´> Ho$ {bE {MÝVm H$m {df` h¡Ÿ& {H$ÝVw {ZamemOZH$ pñW{V go AmJo ~‹T>H$a AmO 20-25 ^maVr` à{e{jV Cn^moº$m {hÝXr _| BÝQ>aZoQ> g{\ª$J MmhZo bJo h¢Ÿ& BgHo$ A{V[aº$ {nN>bo Hw$N> dfm] _| B§Q>aZoQ> na {hÝXr _| gmâQ>do`a H$s CnbãYVm 95 à{VeV hmo JB©Ÿ h¡Ÿ& O~{H$ {hÝXr H$s {df`dñVw H$s CnbãYVm {g\©$ 20 à{VeV hr h¡Ÿ& Bg g§~§Y _| `h ^r {dMmaUr` h¡ {H$ bJ^J 12 hOma ãbmJa Ohm§ AË`{YH$ g{H«$` h¡, CgHo$ AZwnmV _| 20 go 25 hOma ãbmJa Ho$db_mÌ g{H«$` H$s loUr _| h¡Ÿ& 2005 Ho$ ~mX BÝQ>aZoQ> na {hÝXr Ho$ {dñVma _| Ho$ÝÐ Am¡a amÁ`m| H$s gaH$mam| H$m H$m\$s ~‹S>m `moJXmZ ahm h¡Ÿ& 2015 Ho$ CnbãY Am§H$‹S>m| Ho$ AZwgma Ho$ÝÐ VWm amÁ` H$s gaH$ma Ho$ {d{^Þ {d^mJm| H$s {hÝXr _| bJ^J 9 hOma dodgmBQ>| CnãX h¡oŸ& BgHo$ \$bñdê$n 70-B-n{ÌH$mE§ XodZmJar {b{n _| CnbãY h¢Ÿ& _hmË_m Jm§Yr A§Vaamï´>r` {hÝXr {díd{dÚmb`, dYm© H$s do~gmBQ> S>ãë`yS>ãë`yS>ãë`y S>mQ> {hÝXr g_` S>mQ> H$m°_ na A~ VH$ {hÝXr Ho$ EH$ hOma go A{YH$ aMZmH$mam| H$s aMZmAm| H$m AÜ``Z {H$`m Om gH$Vm h¡Ÿ& BgHo$ A{V[aº$ H$B© B©-~wH$ {hÝXr àH$meH$ ^r g{H«$` h¢Ÿ& Bg g_` {hÝXr Ho$ AnZo "gM© B§OZm|' H$s g§»`m 20 Ho$ bJ^J hmo JB© h¡Ÿ {OgHo$ Ûmam {hÝXr Ho$ V_m_ gmao eãXm| na AmYm[aV "gM©' VwaÝV CnbãY hmo OmVo h¢Ÿ& BgHo$ gmW hr {H$gr ^r do~gmBQ> na {hÝXr AZwdmX ^r ghO hmo J`m h¡Ÿ& "JyJb' Ho$ Am§H$‹S>o H$hVo h¢ {H$ ^maV _| {hÝXr ~mobZo dmbm| H$s g§»`m 50 H$amo‹S> go A{YH$ h¡ , {d{H$nr{S>`m na H$ar~ EH$ bmI go A{YH$ boI, aMZmE§ CnbãY h¢Ÿ& {díd^a _| {hÝXr OmZZo dmbm| H$s g§»`m Bg g_` 132 H$amo‹S> go A{YH$ h¡ŸOmo amï´>g§K H$s {H$gr ^r àm{YH¥$V ^mfm H$s VwbZm _| g~go A{YH$ h¡Ÿ& CXmarH$aU Am¡a ~mOmadmX Ho$ Bg _mhm¡b _| {hÝXr Ho$ nm§d ñdV… hr {díd^mfm ~ZZo H$s {Xem _| AJ«ga hmo aho h¢Ÿ&
^maV H$s AmOmXr Ho$ 70 df© ~rV JE {\$a ^r A^r VH$ {hÝXr H$mo "amO^mfm', "H$m`m©b`rZ ^mfm' (Official Language) "g§K H$s ^mfm' Am{X Zm_m| go ì`döV {H$`m OmVm ahmŸ h¡& amï´>^mfm H$m XOm© Zht {X`m J`m Am¡a  Bg ~mV H$mo JhamB© Ho$ gmW Zht g_Pm J`m {H$ {H$gr ^r ñdV§Ì, JUVm§{ÌH$, gmd©^m¡_ amï´> Ho$ Mma _yb^yV g§d¡Ym{ZH$ A{YH$ma hmoVo h¢Ÿ& 1-g§{dYmZ, 2-amï´>ÜdO, 3- amï´>JmZ, Am¡a 4-amï´>^mfmŸ& ñdV§ÌVm Ho$ ~mX h_| VrZ g§d¡Ym{ZH$ JUVm§{ÌH$ A{YH$ma àmá hþE; Mm¡Wm A^r VH$ Zht {_bmŸ& Bg{bE A^r VH$ h_mar AmOmXr nyU©V`m… ñWm`r Zht  hþB©Ÿ&
`h H$Xm{n ^ybZm Zht Mm{hE {H$ amï´>^mfm amï´> H$s _oéX§S> hmoVr h¡ Am¡a g§ñH¥${V CgH$m öX`Ÿ& ^mfm Am¡a g§ñH¥${V Ûmam hr amï´> H$s Apñ_Vm Am¡a gdmªJrU {dH$mg ì`mnH$ ê$n go AZwà_m{UV hmoVo h¢Ÿ& Bgr Ho$ AmYma na Xoe AnZo Am{W©H$ {dH$mg, d¡km{ZH$, àm¡Úmo{JH$s VH$ZrH$s Ed_² amOZ¡{VH$ dM©ñd H$s  H$hmZr {díd nQ>b na ñdUm©jam| _| {bIVo h¢ Am¡a ^maV ^r {bIoJmŸ&
qq
- ñdXoe ^maVr
(_mo.) 9903635210
918240178035