Tuesday, 19 July 2011

प्रवंचना के बीच

प्रवंचना के काले बादलों के बीच
घिरते हुए मैंने अनुभव किया
जितना कुछ जीवन का यथार्थ
शब्द-अर्थ, आयाम, मनुष्य, प्रकृति-चित्रण को
मैने अपनी अभिव्यक्ति का साध्य बनाया
वे सभी तो समय की प्रत्यंचा पर धराशायी होते रहे
फिर कैसे किन कठिन यंत्रणाओं के बीच
मैंने यह जीवन जिया।
प्रवंचना के कुहासे के बीच
मैंने यही किया
कि अपनापन उनहें भी दिया
जिनके पास शब्दों की बैसाखियां थीं
और उन्हें भी
जिन्होंने अपने से अधिक
दूसरों को जिया
अपनत्व दिया।

In the Mids of Deception Galore
When I felt encircled by the
life's deceptive reality, I expressed self through the medium
of words, meanings, dimensions, people's moods
Delineation of nature's scenic beauty
strangely enough they also were destroyed by
the bowstrings of time.
Then how I lived with so much anguish, hard to bear,
no one knew
Or tried to investigate or understand.
But amidst the mist of depravity,
I provided the sense of belonging to those
Who walk on crutches of words and dreams unknown
To those who lived more for others
Than for themselves alone.

No comments:

Post a Comment