Monday, 15 January 2018

न्यायपालिका के संदर्भ में

हमारी आजादी न्यायपालिका के कारण ही आज तक सुरक्षित रही। हमारे देश की विडम्बना रही है कि आजादी के बाद राजनैतिक स्वार्थ और लाभ के लिए बड़े-बड़े अगणतांत्रिक फैसले लिए जाते रहे हैं और जनता मौन, मूक भाव से सब कुछ देखती सहती रही है। हमारे देश की जनता अत्यन्त सहिष्णु है और ईश्वर-आश्रित रही है। यही कारण है कि हम हजारों साल तक गुलामी की जंजीरों से बंधे रहे। एक मसीहा गांधी ने हमारी कमजोरी को परखा और स्वाभिमान के साथ अन्याय के विरुद्ध संघर्ष करने का मंत्र दिया. लम्बे समय से सोई जनता को जगाया। देश को अंग्रेजी साम्राज्यवाद से मुक्ति दिलाया। आज भारतीय लोकतंत्र में जनता जागरूक हो गई है। स्वार्थ और लोभलाभी सत्ता की राजनीति करने वालों को स्वतंत्र भारत की जनता की नब्ज पहचानने में गलती नहीं करना चाहिए।
                                                                                    -स्वदेश भारती

No comments:

Post a Comment