Monday, 27 May 2013

प्रथम वर्षा

भींगते हैं पेड़, पौधे,
सड़क, बस्ती, गगन-चुम्बी अट्टालिकाएं
भीगते हैं दिशासूचक मील के पत्थर
भीगते गन्तव्य के सब रास्ते
भींगती आशा-लता वट-वृक्ष में डाले हरित गलवाहियां
भींगती सोई अकेली झील
भींगता है खेल का मैदान
भींगती है नगर की वीरानियां,
यह सबेरे का पहर
सूरज अभी क्षितिज के सतरंग-विस्तर पर पड़ा
जमुहाईयां लेता, बदलता करवटें
बस अभी जागने वाला है
जरा-सी देर है
फिर दिन आज के इतिहास से जुड़ जाएगा
भले ही सड़कें भींगें
स्वप्न-भींगे आत्म-सत्ता
समय की गति रौंद डालें
भींगते तब भी रहेंगे
प्राण-मन में उगे पौधे
हरे भरे जीवन की व्यथा का अंत होगा
रहेगा निःशेष फिर भी
प्राण-श्रुतियों में बंधा इतिहास
समय-अस्तित्व का विश्वास।

कलकत्ता,
26 जून 1992

Season's First Showers
The Flora
the road, the town, the sky all soak
the milestones and tracks to tread steps
The creepers of hope embracing the bunyan
with its green tender arms are drenched
The lake sleeping alone steeps
The play round is soaked
and the deserted places the city is filled up with railwater
It's morning
The day held to the recent history
The sun even now lying on the myriad-hue bed
tuming sides, morning is about to
wake-up just after some moments,
though the dreams wet but my self-existence
Tramples on the speed of time

Still the grwon up plants
my mind-vital will be soaking and
the agony of fruitfully
green life will end but
the remainder of oral history and
hearsay evidence is to survive
as the confidence of mind's existence

Calcutta
26 June, 1992

No comments:

Post a Comment