Thursday, 12 December 2013

आज के संदर्भ में

आजादी के 66वें वर्ष भारतीय लोकतंत्र को, आम आदमी को भ्रष्ट, स्वार्थी, सत्ता लोलुप राजनीतिज्ञों से बहुत बड़ा खतरा है। गठबंधन की राजनीति, संघीय मोर्चा या जोड़-तोड़ से बने संयुक्त मोर्चा से जहां देश का विकास अवरुद्ध होगा वहीं इससे राजनीति-परस्त नेताओं के लोभ और अहम् की तुष्टि होगी। देश में विखराव पैदा होगा। आम आदमी के बीच संकट उपस्थित होगा।
                                                                                         


जन लोकपाल

अन्ना हजारे द्वारा प्रारम्भ किए जन लोकपाल आन्दोलन को सारे देश के बुद्धिजीवियों, आम आदमियों का पूरा समर्थन प्राप्त है। जन लोकपाल द्वारा देश को भ्रष्टाचार्, राजनीति के गन्दे इरादों से मुक्ति मिलेगी। विकास का रास्ता खुलेगा और सच्चा जनतंत्र आएगा।

                                                                                                      - स्वदेश भारती
                                                                                                          साहित्यकार

No comments:

Post a Comment