Tuesday, 5 March 2013

समय और सौंदर्य

सौंदर्य का सबसे बड़ा शत्रु समय है
और समय ही सौन्दर्य का उपासक भी है
सौंदर्य को नये ढंग से
समय बनाने बिगाड़ने में लगा रहता है
समय जीवन के लिए सत्य की परिभाषा है
सौंदर्य हृदय की भाषा है
वह नये-नये अर्थ देता सत्य को
समय से अधिक
हृदय के करीब
हृदय से
सौंदर्य की पहचान होती
समय और सौंदर्य
कभी किसी की प्रतीक्षा नहीं करते
समय अबाध-गति से चलता है निरन्तर,
सौंदर्य समय के साथ ही ढलता है निःस्वर।

हैदराबाद,
20जनवरी, 1992



Beauty & Time

Beauty's eternal enemy is time
Time also is beauty's devotee
votary or worshiper,
say whatever, you like..
beauty is created and damaged,
raised and ruined by time
for life, time is it's definition
beauty is the heart's language
that provides evergreen meanings
to truly, more than the time can.
Beauty is dearest to hearts everywhere
Time identifies and recognise beauty
beauty and time never wait
for any one, anything, anywhere
time moves on non stop incessantly
beauty fades away with the time
without a murmur constantly

Hyderabad, 
20th Jan, 1992





जीवन
जिन्दगी, कुछ कट गई जीवन को सजाने में
और कुछ कट गई प्रेम के बहकाने में
कुछ और भी कट जाएगी जीते रहने की यात्रा
अपना ही शव कंधे पर उठाने में........

कोलकाता
27 अप्रैल, 1999






Life

Some of the life is spent in its presentations
some is gone in love's inducements
some is to pass in living its span
or, carrying our own carcass on our
shoulders....



Hyderabad, 
20th Jan, 1992








युग - छन्द

चलो हम एक बार फिर जड़ता की गांठें खोले
हृदय की भाषा बोलें
संबंधों को तोलें।

शहर से सिवान की ओर चलें
खेतों खलिहानों में
खेतिहर के दुःख को अपना मानें
या, बाढ़, अकाल ग्रस्त शश्य-श्यामला की गीली सूखी पीड़ा सहें।

चलो संप्रीति का नया अर्थ गढ़ें
घृणा के घावों को आत्मीयता से भरे
मानवता (मनुष्यता) के लिए जियें और मरे
भले ही पतझर के पीले पत्ते बन झरें

चलो नए प्राण-संवेदन
नये नये छन्दों से अभिव्यक्ति के घरौंदे सजाएं
सोए हुए सपनों को फिर से जगाएं
अपने ही लिए नहीं सत्य (समष्टि) के लिए समवेत गीत गाएं

चलो भग्न-हृदयों को फिर से जोड़ें
जो भटकें हैं उन्हें नई राहों की ओर मोड़ें

अवरोध-सेतु तोड़े
नये को नये से जोड़ें।

चेन्नई
1 फरवरी, 1992








Poesy of Times

Come, once again, let us, dear ones,
untie the knots of indurate insensibillity,
Speak the language of heart
Balanced with the relationship of heart warming intimacy

Come let's move to the boundary
of township towards fields and greenary
Feel the peasant's troubles as our own
Sense the dry or wet part
of ever-green fertile land in
times of famines and floods.

Come let's discover new
meanings of our affections
heal up wounds of heatred
with alliances, friendships
live and die for humanity's sake
may even fall like yellow leaves of the Autumn
from time's tree
come, let's express ourselves
in making small homes with ever-fresh
vital sensitivity in newer verses
awake up with the dormant dreams once again
not for us alone but for all the humanity
sing psalms in unison..

come, let's unite the broken hearts
bring back the wayward to new paths
destroy impeding barrages
to creatate amity and admiration
among the up coming generations



Chennai
1 Feb., 1992






अतीत से टूटना

अतीत को
याद करना कितना कठिन होता है
कितना कष्टर होता है
अतीत के बंधन से
स्मृतियों की छाया को मुक्त कर पाना
कितना दुष्कर होता है
जीवन के नए सिरे से जीना
अतीत का प्रभामंडल तोड़ना
पुराने संबंध छोड़कर
नयों से मन जोड़ना

कोलकाता
10 जनवरी, 2000






Break with the Past

Yes, how heard it is
To break away with the past
How painful it is indeed
to be free from
the shackels of the bygone days
and liberate onesef from the shadwos of memories.

How difficult it is
to start from a new end of life
Breaking the halo of the past
of the so-called 'Goden Era'
Leaving behind old relationships
and uniting with the new ones.


Calcutta
10th Jan, 2000




No comments:

Post a Comment