Wednesday, 6 March 2013

परम्परा

हमने वही किया
जो दूसरों ने किया
हमने वही जिया
जो दूसरों ने जिया
हमने वही दिया
जो दूसरों ने दिया
उन्होंने वही दूरियां तय की
और हमने की
अन्तर यही है
कि उन्होने जिस फल को फेंक दिया था
उसे हमने अपने लिए उठा लिया।

कलकत्ता,
23 जनवरी 1987






Traditions
We did what others did
we lived what others lived
we gave what others gave
we covered the same distances
what they didi cover
But there is a difference ;
The fruit which they discarded
We've grasped it for us!..

Calcutta, 
23rd Jan. 1987






जीवन छन्द

गाओ गाओ जीवन के छन्द
समय के पीछे समय का पहिया चलता
और इसी तरह मौसम और वर्ष और
शताब्दियां अनन्त
आदमी के बाद आदमी हताशा के कोहरे में
लिपटा आशा का नया सूरज
दुःख के बाद ही होता सुख का उदय।

एक इतिहास के बाद दूसरा इतिहास
एक सुबह के बाद दूसरी सुबह
कितनी ही और इसी तरह कई कई सुबहें बदलती
कितनी ही कई कई बार
कितने ही कई कई रंगों में बंटता पूर्वाकाश
पूरब से पश्चिम-
उत्तर से दक्षिण
दूरियों में बंटे लोग
लोगों में बंटे लोग
दिशाहीनता, षडयंत्र, द्वन्द के बीच
गाओ गाओ नव-जीवन के छन्द।


ऋषिकेश,
15 अगस्त, 1971






Songs of life
Sigh, sing songs of life
time is running like a
wheel within a wheel, and
likewise, seasons, years
and centuries innumerable.
Humans one after another move on
The new sun of hope rises
out of mist of frustrations
and so happiness comes after miseries,

Passing on history comes after another
One morning after the other
things go on and
The next morning
at the eastern sky divides itself in many a hues
People devide into the east and the west
The north and the south create many a distances
aimlessness, conspiracy, strife
reign among them, still evaporate
And yet they sing and sing songs of life-
keeping undying vitality forever...

Rishikesh
15th Aug., 1971





समय-असमय

जीवन के अस्तित्व में गतिमान-समय की रेत
मुट्ठियों से निरन्तर झरती जाती
उफनती, उद्वेलित सागर की लहरें कहतीं
वर्तमान का ऊबड़-खाबड़, उच्छिष्ट...
हृदय का खालीपन नहीं भरता
स्मृतियों का शैलाब उठता मन में
और अनिर्दिष्ट अपरिचित दिशान्त की ओर
मन को बहा ले जाता
फिर नया विश्वास
नई प्रतिज्ञाओं से जीवन सजाता
समय के साथ नया नाता जोड़ता
नए नए छन्द, समवेत ऋतु गान सजाता
किन्तु असमय-समय-पतझर-सा
कल्पना का रेत-घर ढहाता
अन्ततः सर्जक ही
रिक्त-मन में
नये भाव-बोध सजाता
दे जाता नई थाती
प्रारब्ध की संचित रेत
क्रियामाण कर्म की मुट्ठियों से
झरती जाती।


कलकत्ता,
21 जनवरी, 1999






Time-Proper and Imporper?
The ever moving sand of time
perpetually slipping away from
the closed fist, and the swirling
agitated waves of the ocean tell us
The present is just an unfulfilled left over
relic all refuse, remnant of visuals..
The void of heart is never filled up with it
The moss of memories rises in mind
its impatience thrust us
towards directionless unknown aims..
Once again, new faith decorates
life with resolutions and vows
new relations,
New verses create
new seasonal songs
But time and again sand castles
are dispersed and scattered on the beach
That create in the vacant mind a vaccum
Fills up new sensitivities
gives new pledges
The sands of the original and stored up actions
slip away from our gripping fists.

Calcutta
21st January, 1999




No comments:

Post a Comment