Friday, 30 September 2011

यादों की गहराइयां

यादों की गहराइयों में
एक दुखती कसमसाती डोलती मछली
भंवर में अजब फंसती
फिर उछलती
दुखद क्षणों के पंख फैलाती
व्यथा की लहरियों में घूमती
चक्कर लगाती
स्वयं की ही कोशिशों से
भंवर से निस्तार पाती
प्राण की गहराइयों में
स्मृतियों का सागर उमड़ता
दर्द की लहरें मचलतीं
जो किनारे बैठ कर चुपचाप
वंशी के सहारे अस्मिता की
मारते मछली
मिटाते भूख मन की
जो कभी मिटती नहीं
सदियों पुरानी चाह
आशा के अपरिमित प्रेम-ज्वार में
जब डूब जाती
बचा रहता फिर कहां अभिमान
डूबता अस्तित्व
केवल बची रहती
मन-व्यथा की अनदिखी पीड़ा
आंख की काली पुतलियों में घुड़ती
घटा बनती
फिर अचानक ही बरसती
याद की अमराइयों में
हृदय की गहराइयों में।

Depths of Memories
In the depth of memories
A troubled wiming and floating fish in pain
caught in a whirlpool strngely
repearing time and again spreading
Its fins in affected moments
swirling in the waves of anguish
and comes out of the vortes
with its own efforts extraordinary

At the bottom of the soul exists
the ocean of memories surges up
Waves of compassion persist

Those who sit on the bank silently
And catch the fish of self identity
With the help of brak in fish-hook
And satisfy their mental appetite
Which never gets satiated
centuries old longing when drowns
In the unlimited hide of love
self vanity then doesn't survive
Even the existence of self disappearas
only remains the unseen pain of the broken heart
which culminates in the eyelids
shaping black clouds and
all
of a sudden rains in the forest of memories, emerge torrentially deep and
deep inside the hear.

No comments:

Post a Comment