Saturday, 17 September 2011

परिभाषा

जब रास्ते धुंध में डूबे हों
हरीतिमा ओढ़ ले बर्फानी चादर
इस ओर से उस छोर तक कुहासे की पारदर्शी
दीवाल खड़ी हो
हम-तुम चलते रहें
एक-दूसरे से बंधे-बिंधे ऊंची-नीची पहाड़ियों पर!

हमारे हाथ भले ही ठंड से जकड़े हों
पर हमारे जिस्म
दिल की तपिश से गर्म हों -
उस मृगछौने की खाल की तरह
जिसका लबादा पहनकर पर्वतारोही
पर्वत की ऊंचाइयां नापते हैं
हमारे दिल की धड़कनें उसी तरह
तेज और तेज होती रहें
जैसे जैसे हम आगे बढ़ते जाएं।
कितना भयावह है वक्त
बर्फानी रात में
हवा चुप होने का नाम तक नहीं लेती
अभेद्य अंधकार की काली तकदीर पर
बेहद सफेद अक्षरों से लिखती हैं बर्फ
देवदारू पत्रों पर अधूरे वाक्य-
प्रेम अंधेरे और तूफान के बीच का सफर है

Definition
When all the paths are merged in mist
The greenery is under snowy cover
From this end to that end
transparent wall of fog stands
we two would go on knotted and knitted together
over the uneven hills
May be our hands gripped in cold
But our bodies heated with the warmth of heart

As the mountaineers scaling the heights
robed in soft deerskins
Let our heart-beats be speeded up more and more
As and when we go on treading along

How dreadful is the time
In the snowy night
The air is raving and renting non-stop

The snow writes on the pine leaves
the black fate of pitch darkness
with the letters of snow
incomplete sentence that's the Love's
journey starts amidst darkness and storm. 

No comments:

Post a Comment