Tuesday, 18 March 2014

लड़की हंसती है

लड़की हंसती है
हंसी से दोहरी होती है
क्योंकि उसके आंचल में
मखमली रोओं वाली
नीली आंखों की चमक लिए
बालपन की बिल्ली खेल रही है

लड़की रोती है
जार-बेजार
क्योंकि उसके सीने में
धड़कता हुआ दिल है
जिसे किसी बेरहम ने
प्यार-प्रवंचना की क्रूरता से खरोंचा है
अब वह लड़की
असमर्थता की बैसाखियों पर चलती
दिन रात पलकें भिंगोती
न हंसती है
न रोती है
खालीपन-पतझर में
वृंतहीन फूल की पीली पंखुड़ी बन
समय की धूल में मिलने के लिए
निजता खोती।



The Girl Laughs
The girl laughs bending to her left and right
because the cat of her childhood
with velvety hair on its skin
And blue bright eyes
plays all the time
in decorated garment's end

The girl weeps incessantly
because she has a heart
In her bosom and it palpitates speedily
As it is scrached with some one's
cruel deception of loving her.
now she moves on using crutches of helplessness
With numb eye lids day and night
She neither laughs nor weeps on her plight

In the autumnal emptiness
she has turned into yellow dry leaves
of a stemless fading flower,
soon to be mixed in the soil
After having lost its essence forever
and her own identity whatsoever.


अभी और चलना है
कितने सारे ऊबड़ खाबड़
टेढ़े मेढ़े, मरुजीवी, जलजीवी, थलजीवी भूमि खंडों
सघन वनांचल, ऊंचे नीचे रास्तों
अनगिन चौराहों को पार कर
चलता हुआ पथिक अबाधगतिक
एक चौराहे पर रुक गया है
आशा अभी भी बिल्ली की आंख की तरह
चमक रही है
औदार्य-कम्पन में
कहीं भी शिथिलता नहीं है
अभी तो और भी चलना है
और भी आगे
सूर्य की तरह
अपने गन्तव्य तक जाना है
और उसी तरह ओजस्वी लाल रंगोली त्योहार मनाते
सांध्य-क्षितिज आंगन में
शून्यता की ओट ढलना है
अभी और चलना है
और भी आगे
क्योंकि इसी क्रम में
नए बदलाव में
बदलना है।

Still we've to go a long way
Having passed so many
uneven, crooked roads and
moments of torcherous deserts
stretches of treacherous wetlands
Dense forests and hight and low chartered ways.
innumerable crossings
at last crossing the final hurdle
the traveler reached the halting place
But the hope still brightly shines
Like some cat's eyes in the darkness
He is not a all tired in his limbs
keeping the heart open in use
delight has to proceed on and on up to the height
Like the brightest star he has to reach
his destination and take part in
the colorful Rangoli festival of fun
At the court yard of evenings, horizons
And, to be lost in the expanse of void.
But just now he has to go on
forward and onward because
in the perspective of changes
one transforms the self not otherwise.

No comments:

Post a Comment