Tuesday, 4 March 2014

प्रेमाभास

मेरी उदासी का रहस्य यह नहीं
कि बसन्त ने मुझे
पतझर के हाथों सौंप दिया
मेरी उदासी का रहस्य यह भी नहीं कि प्रेमीले सपनों ने मेरे विश्वासों को
खंडित-प्रत्यंचा दी
टूट कर जुड़ने
और जुड़कर टूटने के अनवरत क्रम में
हार गया दांव पर लगाए गए सभी सपने

मेरी उदासी का रहस्य यह भी नहीं
कि हताशा के अंधेरे में चलते हुए
थक गए हैं पांव अथवा छूट गये
वे सभी संदर्भ जो बहुत बहुत अपने थे।

अपनी उदासी के बारे में
जब भी सोचता हूं तो यही पाता हूं
आखिर मेरी उदासी का रहस्य क्या है?

गोपालपुर
24 दिसम्बर, 1971





Love Expectation

My melancholy is not due to the fact
that the spring has
handed me over to the autumn.

Nor it's due to the failure of
my sweet dreams that gave my belief
a broken bow-string
And in the ever-lasting order of
union or divison of all sweet dreams
are staked and lost in the wager

My despondency is not due to
the tired feet treading the dark path of frustration
due to the loss of my own dearest contexts
Once they all belonged very much to me
whenever I muse over the cause of my melancholy
I am always caught up by these reflections
I know not the reasons of my despondency
Wha's the secret of all this after all?

Gopalpur,
24th December, 1971

No comments:

Post a Comment