Thursday, 25 August 2011

तुम्हारा चेहरा

तुम्हारा चेहरा आंखों के आईने में जब भी झलकता है
अतीत मेरी आंखों के कलश से
बूंद बूंद ढलकता है
ये बूंदे वर्षा की बूंदों जैसी नहीं होती
कि बरसीं और
ताल लैया नदी-दुकूल बाढ़ बन गए
या नगर की सड़कों पर पानी भर गया
ट्राफिक जाम में
सड़कों के रास्ते की बदल गए
ये बूंदे उस वर्षा की बूंदों की तरह नहीं
जिसमें किसान प्रसन्न होता है
और मछुआरा अपना जाल लेकर
नदी की ओर चल पड़ता है
ये बूंदें उस वर्षा की बूंदों की तरह भी नहीं
जो सैलानी बादलों की आंखों से गिरती
धरती की हरीतिमा के आनन्द से
आत्म-विभोर कर जाती हैं
ये बूंदे अतीत की बूंदे है
स्मृतियों के कसकते घावों से निकल कर
आंखों की राह बरसती है
अन्तर की सूखी जमीन पर आहत
आस्था को अपनी ममत्वा भरी बाहों में बांधकर
कहती है - स्मृतियां ही इतिहास
और भविष्य की धरोहर होती हैं।

Your Face

Whenever your face reflects
In the mirror of my eyes
The past flows drop by drop incessantly
through them
But those are unlike the raindrops
which when falling constantly
cause floods in the waterbodies
pools and ponds, riverbanks and collected on
the city roads
If improperly drained, change there contours of ways
Also they are unlike the ones
which please the cultivators and farmers
to strir up a fisherman enough sailing for the river
armed with his nets and angles to cast in the waters
In the hope of getting bountiful catches
They aren't the ones which raining from
the wandering clouds eyes make the earth
so happy with the greenary all around
that she forgets the self in absolute profoundity of bliss

These are the drops from the past coming out
of the painful wounds through the paths of eyes
On the dryland of ones innrself
fastening it within their arms saying-
Memories are the trus-value of history
and future-treasure deposits.

No comments:

Post a Comment