Friday, 3 November 2017

                  इतस्ततः-1

प्रथम पुरूष - प्रश्न                                     द्वितीय पुरुष - उत्तर

भारत महान-वर्तमान राजनीति                 -   अहा, अहा, अहा
नीति, न्याय, आमजन-सेवा-संगति           -   आह, आह, आह
परिवर्तन, विकास, उन्नयन-प्रगति            -   हाय, हाय, हाय,
भाषा, साहित्य, धर्म, संस्कृति की नियति   -   हरे राम, हरे राम, हरे राम
सत्ता की लोभलाभी दौड़ की गति                 -   वाह, वाह, वाह
   
                                                                  - स्वदेश भारती
04-11-2017
उत्तरायण
331, पशुपति भट्टाचार्य रोड
कोलकाता-700 041
e-mail : editor@rashtrabhasha.com

No comments:

Post a Comment