Thursday, 12 February 2015

नव वर्ष की शुभकानाएं

गोवा में राष्ट्रीय हिन्दी अकादमी, रूपाम्बरा द्वारा दिनांक 27-29 अक्टूबर 2014 को आयोजित 27वां अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन और अंतरराष्ट्रीय भाषा साहित्य संगोष्ठी के सफल समापन के बाद कलकत्ता वापस आने पर एअरपोर्ट से ही मेरी तबियत खराब हो गई, अस्पताल में भर्ती होना पड़ा। फेंफड़ों में फ्लू और सांस लेने में कठिनाई है। अस्पताल से वापस घर आने पर अभी इलाज चल रहा है। शारीरिक और मानसिक तनाव के कारण वेबसाइट / ब्लॉग पर मेरा लिखने का काम रूक गया है। मैं अपने सभी मित्रों, पाठकों, स्नेही बंधुओं को उनके ट्रीट का, प्रश्नों के उत्तर नहीं दे पा रहा हूं। क्षमा करेंगे।

सभी मित्रों, पाठकों को नव वर्ष  की हार्दिक शुभकामनाएं।
उनके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश हो।

                                                                             - स्वदेश भारती

No comments:

Post a Comment